ताज़ा खबर
 

दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के पूर्वी परिसर का उद्घाटन 18 अगस्त को

विवेक विहार स्थित शहीद सुखदेव कॉलेज आॅफ बिजनेस स्टडीज में शुरू होने वाले इस परिसर में मुख्य रूप से प्रबंधन और अर्थशास्त्र के पाठ्यक्रम पढ़ाए जाएंगे।

Author नई दिल्ली | July 24, 2017 3:10 AM
दिल्ली विश्वविद्यालय।

दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (डीटीयू) के पूर्वी परिसर का उद्घाटन 18 अगस्त को होने जा रहा है। विवेक विहार स्थित शहीद सुखदेव कॉलेज आॅफ बिजनेस स्टडीज में शुरू होने वाले इस परिसर में मुख्य रूप से प्रबंधन और अर्थशास्त्र के पाठ्यक्रम पढ़ाए जाएंगे। नए परिसर में सुविधाएं बढ़ाने के साथ एमटेक और बीटेक पाठ्यक्रम भी शुरू किए जाएंगे। इस परिसर में दाखिले की प्रक्रिया जारी है और इच्छुक छात्र 24 जुलाई तक आॅनलाइन आवेदन कर सकते हैं।  दिल्ली के विद्यार्थियों को अधिक से अधिक संख्या में उच्च शिक्षा देने के मकसद से दिल्ली सरकार अपने विश्वविद्यालयों के नए परिसर खोल रही है। पिछले साल आंबेडकर विश्वविद्यालय, दिल्ली (एयूडी) ने कर्मपुरा में अपना परिसर खोलकर इसकी शुरुआत की थी। इसी क्रम में डीटीयू का पूर्वी परिसर विवेक विहार में शुरू किया जा रहा है और जरूरत पड़ने पर इसका विस्तार भी किया जाएगा।

डीटीयू के एक अधिकारी ने बताया dकि बताया कि पूर्वी परिसर में तीन पाठ्यक्रम बीए (आॅनर्स) अर्थशास्त्र, बैचलर आॅफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (बीबीए) और मॉस्टर आॅफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए) के लिए दाखिला प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और 24 जुलाई तक आॅनलाइन आवेदन किए जा सकते हैं। उन्होंने बताया कि बीए (आॅनर्स) अर्थशास्त्र और बीबीए में 120 जबकि एमबीए में 60 सीटों से शुरुआत की जा रही है। बीए (आॅनर्स) अर्थशास्त्र और बीबीए में दाखिले कटआॅफ के आधार पर होंगे। पहली कटआॅफ 31 जुलाई को जारी की जाएगी। दूसरी कटआॅफ 10 जुलाई और तीसरी कटआॅफ 17 जुलाई को आएगी। इन दोनों पाठ्यक्रमों के लिए विद्यार्थियों को पहले साल 65 हजार रुपए फीस का भुगतान करना होगा। तीन पाठ्यक्रमों में 85 फीसद सीटें राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में रहने वाले छात्रों के लिए आरक्षित होंगी। अगले साल सीटों की संख्या के अलावा पाठ्यक्रमों में भी बढ़ोतरी की जाएगी।
विश्वविद्यालय के अधिकारी के मुताबिक, पूर्वी दिल्ली परिसर का उद्घाटन 18 अगस्त को होगा। इसके लिए परिसर में जोर-शोर से तैयारियां जारी हैं। इस परिसर के शुरू होने के बाद डीटीयू दिल्ली की सभी दिशाओं में अपने परिसर शुरू करेगा। डीटीयू अधिनियम के मुताबिक, डीटीयू अपना परिसर दिल्ली के किसी भी स्थान पर शुरू कर सकता है, लेकिन वह किसी कॉलेज को मान्यता नहीं दे सकता। दिल्ली पॉलीटेक्निक के साथ ही डीटीयू की शुरुआत 1941 में हुई थी।

उस समय यहां छात्रों को तकनीकी, इंजीनियरिंग, कला, आर्किटेक्चर, फार्मेसी और कॉमर्स के पाठ्यक्रम पढ़ाए जाते थे। 1952 में दिल्ली विश्वविद्यालय ने इसे मान्यता दी और दिल्ली पॉलीटेक्निक से यह दिल्ली इंजीनियरिंग कॉलेज बन गया। 1963 में दिल्ली इंजीनियरिंग कॉलेज को दिल्ली सरकार को सौंप दिया गया। 2009 में दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कानून के साथ ही यह दिल्ली कॉलेज आॅफ इंजीनियरिंग (डीटीयू) बन गया। 1996 में डीटीयू परिसर कश्मीरी गेट से बवाना रोड स्थित अपने वर्तमान स्थान पर स्थानांतरित हुआ।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App