ताज़ा खबर
 

खुलासाः चेक महिला से ‘नेताजी’ ने रचाई थी शादी

पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से पिछले हफ्ते नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी 64 फाइल्स को उनके म्यूजियम में पब्लिकली कर दिया गया है।

Author नई दिल्ली/कोलकाता | Updated: September 22, 2015 7:50 PM

पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से पिछले हफ्ते नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी 64 फाइल्स को उनके म्यूजियम में पब्लिकली कर दिया गया है। इन फाइलों में से एक फाइल में दर्ज इंटेलिजेंस रिपोर्ट से पता चला है कि नेताजी की मौत 1945 में किसी प्लेन क्रैश में नहीं हुई थी बल्कि उन्होंने चेकोस्लोवाकिया की एक महिला से शादी कर ली थी। इस महिला से उनकी एक बेटी भी थी जिसका नाम ‘नीमा’ बताया गया है।

हालांकि हावर्ड यूनिवर्सिटी में तैनात नेताजी के रिश्तेदार हिस्ट्री के प्रोफेसर सौगत बोस ने इस रिपोर्ट में किए गए दावे वेबुनियाद बताया वहीं दूसरी ओर एक और स्कॉलर ने भी इस रिपोर्ट को बकवास बताया है। उनके मुताबिक, “उन दिनों कोलकाता पुलिस का मुखबिर चेकोस्लोवाकिया और ऑस्ट्रिया को लेकर कनफ्यूज हो गया होगा।

नेताजी की बेटी का नाम अनिता था। निमा इससे मिलता-जुलता नाम है। हो सकता है यहीं मिक्स अप हुआ हो। इस बात की संभावना ज्यादा है कि ये रिपोर्ट वास्तव में एमिली शेंकल और अनिता के बारे में ही हो।”

गौरतलब है कि अब तक सभी को यही मालूम है कि नेताजी ने एक एमिली शेंकल नाम की लड़की से शादी की थी और उनकी अनीता नाम की एक बेटी है। लेकिन फाइल में उनसे जुड़ा एक और सच सामने आया है।

इस फाइल में नेताजी की चेक महिला से शादी और एक बेटी नीमा का जिक्र पब्लिक की गई फाइल नंबर 43 के पेज नंबर 198 पर एक नोट में है। इस पर 12 मई 1948 की तारीख दर्ज है। कोलकाता पुलिस के डिप्टी कमिश्नर (स्पेशल ब्रांच) ने सीआईडी आईजी और आईबी डायरेक्टर को एक सीक्रेट रिपोर्ट भेजी।

इसमें लिखा गया, “यह जानकारी मिली है कि अरबिंदो बोस (नेताजी के भतीजे) 1947 में स्टूडेंट कांफ्रेंस में शिकरत करने के लिए प्राग गए थे। वहां अरबिंदो की मुलाकात चेकोस्लोवाकिया की एक महिला से हुई। इस महिला ने नेताजी द्वारा लिखे गए तीन नोट्स अरबिंदो को दिए। इन नोट्स के आखिरी हिस्से में क्रिप्स मिशन का जिक्र है।”

1942 में सेकंड वर्ल्ड वॉर से पहले भारत में हुकूमत चला रही ब्रिटिश सरकार ने एक प्रपोजल तैयार किया। इसमें कहा गया था कि अगर सेकंड वर्ल्ड वॉर के दौरान भारत के लोग और नेता ब्रिटिश सरकार की मदद करते हैं तो लड़ाई खत्म होने के बाद भारतीयों को एडमिनिस्ट्रेशन के पूरे पॉवर्स दे दिए जाएंगे।

किसी इंटेलिजेंस अफसर की ओर से लिखे गए इस नोट में आगे लिखा गया है, “इस महिला ने अरबिंदो को नेताजी द्वारा हाथ से लिखे कुछ और आर्टिकल्स भी सौंपे। महिला ने अरबिंदो से कहा कि वे इन डॉक्युमेंट्स के दो पार्ट्स तो पब्लिश कर सकते हैं लेकिन तीसरा पार्ट पब्लिश न किया जाए। इस तीसरे पार्ट में लिखा गया है कि नेताजी की मौत प्लेन क्रैश में नहीं हुई थी। जैसा कि अब तक बताया जाता रहा है।”

इसी इंटेलिजेंस रिपोर्ट में आगे लिखा गया है, “यह भी पता चला है कि जिस चेक महिला ने अरबिंदो से मुलाकात की थी उससे नेताजी ने यूरोपीय दौरे पर शादी की थी। इन दोनों की एक बेटी भी है जिसका नाम निमा है। बॉम्बे से हर महीने खाने का तीन पाउंड सामान इस महिला को भेजा जाता है।”

आपको बता दें कि चेकोस्लोवाकिया अब दो देशों में बंट चुका है। एक देश का नाम चेक रिपब्लिक है तो दूसरे का स्लोवाकिया। प्राग में इंडियन एम्बेसी का कहना है कि 1933 से 1938 के बीच नेताजी ने एक से ज्यादा बार यहां का दौरा किया था। यह दौरा दोनों देशों के बीच रिश्तों को लेकर बातचीत के लिए हुआ था। एम्बेसी ने बयान में कहा, ‘नेताजी ने 1934 में यहां इंडो-चेक एसोशिएसन भी बनाया था। नेताजी ने एववर्ड बेंस से कई बार फॉरेन मिनिस्टर के तौर पर मुलाकात की थी।’

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में हिस्ट्री के प्रोफेसर और नेताजी के रिश्तेदार सौगत बोस ने इस रिपोर्ट में कही गई बातों को सिरे से खारिज करते हुए इसे बिल्कुल बेतुका बताया है।

उन्होंने कहा, “कौन चेक महिला? कौन सी बेटी? यह सब मन से बनाई गई बातें हैं। एक हिस्टोरियन और नेताजी के रिश्तेदार होते हुए भी मैंने इस तरह की बातें पहले कभी नहीं सुनीं।

ये दावे 1948 में किए गए। लेकिन इस वक्त तक तो नेताजी की आस्ट्रियन पत्नी और बेटी अनिता के बारे में दुनिया को सब पता चल गया था। हिस्ट्री को इस तरह की इंटेलिजेंस रिपोर्ट के बेस पर तैयार नहीं किया जाना चाहिए। इस तरह की बातों पर हंसी आती है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories