ताज़ा खबर
 

दिल्ली: मैकडॉनल्ड की 55 में से 43 दुकानें होंगी बंद, 1700 कर्मचारियों की नौकरी पर लटकी तलवार

भारतीय फ्रैंचाइजी नोर्थ इंडिया की फास्ट फूड चेन की कंपनी कनॉट प्लेस रेस्टोरेंट लिमिटेड और मैकडॉनल्ड के बीच विवाद के बाद ये फैसला लिया गया है।
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आज (29 जून, 2017) मैकडॉनल्ड की 55 में से 43 दुकानों के अस्थाई रूप शटर डाउन हो जाएंगे। ये जानकारी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) के हवाले से है। वहीं कुछ न्यूज पेपर्स की रिपोर्ट के अनुसार भारतीय फ्रैंचाइजी नोर्थ इंडिया की फास्ट फूड चेन की कंपनी कनॉट प्लेस रेस्टोरेंट लिमिटेड और मैकडॉनल्ड के बीच विवाद के बाद ये फैसला लिया गया है। इकॉनोमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार बुधवार (28 जून, 2017) सुबह स्काईप के जरिए हुई बोर्ड मीटिंग के बाद ये फैसला लिया गया है। बता दें कि भारतीय फर्म के पूर्व टॉप बोस विक्रम बख्सी साल 2013 में इस अतंर्राष्ट्रीय फर्म को अदालत में ले गए थे, जहां उन्होंने कहा कि वो सयुंक्त रूप ज्वाइंट वेंचर के डायरेक्टर पद पर नहीं रह सकते हैं। हालांकि कोर्ट का इस मामले में अभी तक फैसला नहीं आया है। दूसरी तरफ मैकडॉनल्ड जरूरी हेल्थ लाइसेंस रिन्यू कराने में कामयाब नहीं हो पाया है जिससे करीब 1700 कर्मियों की नौकरी पर खतरा मंडराने लगा है।

मामले में विक्रम बक्शी, जो 168 रेस्त्रां का संचालन करते हैं, ने कहा है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन 43 मैकडॉनल्ड रेस्तरां का संचालन अस्थायी रूप से बंद किया जा रहा है। जानकारी के लिए बता दें कि अमेरिका के इलिनोय की कंपनी मैकडॉनल्ड और उसके 50-50 हिस्सेदारी वाले जॉइंट वेंचर कनॉट प्लाजा रेस्ट्रान्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के बीच लंबे समय से समय से विवाद चल रहा है। वहीं रेस्तरां को अस्थायी तौर पर बंद किए जाने की वजह के बारे में दोनों सहयोगियों ने कुछ भी कहने से मना कर दिया है। हालांकि सूत्रों के अनुसार बख्शी और मैकडॉनल्ड्स के बीच चल रही लड़ाई के बीच हेल्थ लाइसेंस रिन्यू नहीं हो पाया है। दोनों पक्षों के बीच विवाद तब शुरू हुआ जब अगस्त 2013 में बख्शी को सीपीआरएल के प्रबंध निदेशक पद से हटा दिया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.