ताज़ा खबर
 

यूपी: मुस्लिम युवक ने फेसबुक पोस्ट में गंगा का बनाया ‘मजाक’ तो जेल में गुजारने पड़े 42 दिन

जाकिर को भीम आर्मी डिफेंस कमेटी द्वारा दिल्ली लाया गया। यह फोरम दलितों, अल्पसंख्यकों और हाशिए पर रखे दूसरे लोगों के खिलाफ कथित अन्याय के मामलों का संज्ञान लेता है।
गंगा नदी में डुबकी लगाता एक श्रद्धालु। (Reuters File Photo)

एक युवा को अपने फेसबुक पोस्ट में गंगा को ‘‘जीवित इकाई’’ का दर्जा देने का मजाक बनाने, राम मंदिर बनाने के भाजपा के वादे पर वाद-विवाद करने और केंद्र द्वारा एयर इंडिया को दी गई हज सब्सिडी वापस न लेने जैसी टिप्पणियां करना भारी पड़ गया और उसे इसके लिए 42 दिन जेल में बिताने पड़े। इन टिप्पणियों को उत्तर प्रदेश की पुलिस ने आपराधिक मानते हुए 18 वर्षीय जाकिर अली त्यागी को गिरफ्तार कर लिया। जाकिर ने बताया कि उसको खतरनाक अपराधियों के साथ 42 दिन मुजफ्फरनगर की जेल में गुजारने पड़े जहां उसे शौचालय का इस्तेमाल करने तक के लिए भी पैसे चुकाने पड़ते थे। जाकिर को दो अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था और उसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 420 ( धोखाधड़ी) और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम (कंप्यूटर संबंधित अपराध) की धारा 66 के तहत आरोप तय किए गए।

जाकिर के वकील काजी अहमद ने पीटीआई-भाषा को बताया कि उसे 42 दिन के बाद जमानत पर रिहा किया गया लेकिन पुलिस ने अपने आरोप-पत्र में राजद्रोह से संबंधित धारा 124ए भी जोड़ दी है। जाकिर ने अपनी यह व्यथा भारतीय प्रेस क्लब में संवाददाताओं को सुनाई। उसे भीम आर्मी डिफेंस कमेटी द्वारा दिल्ली लाया गया। यह फोरम दलितों, अल्पसंख्यकों और हाशिए पर रखे दूसरे लोगों के खिलाफ कथित अन्याय के मामलों का संज्ञान लेता है। जाकिर ने कहा कि उसे पूछताछ का हवाला देकर रात को उठा लिया गया था। जाकिर ने बताया, ‘मैं रात को एक मदरसे से एक जलसा देखकर आया तभी पुलिस ने पूछताछ का हवाला देकर मुझे उठा लिया, पुलिस अधिकारी ने कहा था कि मुझे कुछ घंटों में छोड़ दिया जाएगा।’ ये युवक मुजफ्फरनगर में एक स्टील फैक्ट्री में काम करता था, लेकिन हर महीने 8 हजार रुपये कमाने वाले जाकिर की नौकरी अब जा चुकी है।

जाकिर के खिलाफ दायर एफआईआर में उसके फेसबुक पोस्ट का जिक्र है। एफआईआर के मुताबिक जाकिर ने फेसबुक में लिखा है कि अब जब गंगा को जीवित ईकाई का दर्जा दे दिया गया है तो क्या अगर किसी शख्स की उसमें डूब कर मौत होती है तो गंगा के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई की जाएगी। पुलिस के मुताबिक इस पोस्ट राम मंदिर के बारे में भी लिखा गया था। पोस्ट में लिखा गया कि ‘राम मंदिर निर्माण का वादा महज मजाक है और इसे अगले बार चुनाव में वोटरों को लुभाने के लिए फिर से किया जाएगा, जैसा कि वे मुल्लों को पाकिस्तान भेजने का वादा करते हैं।’ मेरठ के स्वामी विवेकानंद सुभारती यूनिवर्सिटी से बीए कर रहे जाकिर ने कहा कि इस घटना के बाद उसने फेसबुक पर अपनी सक्रियता कम कर दी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.