ताज़ा खबर
 

दिल्ली चार साल की मासूम से बलात्कार, खंडहर में मिली लाश

सुराग की तलाश में आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि इसी महीने दूसरे हफ्ते में बच्ची का जन्मदिन मनाया गया था।

Author नई दिल्ली | November 22, 2016 3:57 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर

दिल्ली के लारेंस रोड इलाके में चार साल की एक मासूम बच्ची की संदिग्ध हालत में लाश मिली है। शुरुआती जांच में मामला हत्या का लग रहा था। लेकिन बाद में तफ्तीश के बाद यह पुष्टि हुई कि बच्ची की हत्या बलात्कार के बाद की गई है। शव के पोस्टमार्टम के बाद देर पुलिस ने देर रात बलात्कार की पुष्टि की। बताया जा रहा है कि लारेंस रोड के एक खंडहर नुमा मकान से मासूम का शव बरामद होने से सोमवार तड़के सनसनी फैल गई। परिजनों ने पुलिस को बताया है कि बच्ची रविवार की रात घर के बाहर खेल रही थी। कुछ देर बाद बच्ची अचानक गायब हो गई। परिजनों ने पूरी रात बच्ची की तलाश की मगर बच्ची कहीं नहीं मिली। इससे पहले कि सोमवार सुबह परिजन पुलिस को घटना की सूचना देते इससे पहले ही बच्ची के लारेंस रोड इलाके में मृत पाए जाने की खबर मिली। परिजनों ने जब उस खंडहर जैसे मकान में पहुंचे तो वहां बच्ची की लाश मिली। सुराग की तलाश में आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि इसी महीने दूसरे हफ्ते में बच्ची का जन्मदिन मनाया गया था।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 7 Plus 32 GB Black
    ₹ 59000 MRP ₹ 59000 -0%
    ₹0 Cashback
  • Lenovo Phab 2 Plus 32GB Gunmetal Grey
    ₹ 17999 MRP ₹ 17999 -0%
    ₹900 Cashback

स्पेशल सेल के हत्थे चढ़ा इनामी बदमाश आशु

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने इनामी बदमाश शार्प शूटर मोहम्मद असरफ उर्फ आशु उर्फ गुड्डू को गिरफ्तार करने का दावा किया है। दिल्ली के न्यू जाफराबाद का असरफ सीलमपुर में हुई हत्या के एक सनसनीखेज मामले में वांछित था। वह नासिर गिरोह का सक्रिय सदस्य था और उसके ऊपर दिल्ली के पुलिस आयुक्त ने 50 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था। उसके पास से एक देसी पिस्तौल और दो कारतूस मिले हैं।

सेल के उपायुक्त संजीव कुमार यादव के मुताबिक इसी साल तीन मई की रात सीलमपुर इलाके में चार बदमाशों ने महेंद्र उर्फ महेंद्रू नाम के व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में वसीम नाम के एक व्यक्ति की गिरफ्तारी हुई थी। जांच में पता चला कि हत्या में वसीम के अलावा कई अन्य बदमाश शामिल थे। इस गिरोह में असरफ, समीर उर्फ छोटू और अजीम आदि का नाम सामने आया था। इन सभी के खिलाफ लूटपाट और झपटमारी के कई मामले दर्ज पाए गए। इस गिरोह का सरगना नासिर है। वह मौजूदा समय में जेल में है। गिरोह के सदस्यों को संदेह था कि महेंद्र उनकी गतिविधियों की जानकारी पुलिस को पहुंचाता है लिहाजा महेंद्र की हत्या कर दी गई थी। महेंद्र की हत्या उसके दुकान पर चाकू घोंपने के बाद गोली मारकर हत्या की गई थी।पुलिस को जांच में पता चला कि इस गिरोह से बदला लेने के लिए एक दूसरा गिरोह इरफान उर्फ छेनू ने बना रखा है। छेनू भी इस समय जेल में है। तिहाड़ जेल से ही वे लोग अपने साथियों को निर्देश देते हुए गिरोह की गतिविधियां बढ़ा रहे थे। बीते साल आपसी रंजिश में ही कड़कड़डूमा कोर्ट परिसर में पेशी के दौरान इरफान उर्फ छेनू पर जानलेवा हमला किया गया था।

 

 

मध्य प्रदेश: वाहन नहीं मिला तो रिक्शे पर लादकर ले जाना पड़ा शव

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App