ताज़ा खबर
 

सीनियर लड़कियों पर 7 साल की स्टूडेंट को बेहोश कर छेड़छाड़ का आरोप, खाली क्लास रूम में कपड़े उतार करती थीं गंदी हरकतें

पीड़िता और आरोपी लड़कियां दोनों मोती नगर के सर्वोदय कन्या विद्यालय में पढ़ती हैं। लड़की ने अपने साथ होने वाली छेड़छाड़ की घटना के बारे में परिवार को बताया।

Honour Killings, Honour Killings in Pakistan, Shakila Khan, murder, attempt to murder, illegal relation, international news, jansattaसीनियर लड़कियों पर 7 साल की स्टूडेंट को बेहोश करके छेड़छाड़ करने का आरोप। (प्रतीकात्मक फोटो)

पश्चिमी दिल्ली के मोती नगर एरिया में स्थित एक स्कूल में दो सीनियर स्टूडेंट्स पर जूनियर छात्रा को बेहोश करके छेड़छाड़ करने का आरोप लगा है। कथित तौर पर नाबालिग छात्रा के साथ पिछले कुछ महीने से छेड़छाड़ जारी है। पुलिस अधिकारी के मुताबिक आरोपी लड़कियों में एक नाबालिग है और दूसरी बालिग है। एक आरोपी सीनियर छात्रा को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि हमें पीसीआर पर एक शख्स ने कॉल करके बताया कि उसकी बेटी के साथ स्कूल में छेड़छाड़ हुई। जिसके बाद पीड़िता को आचार्य भिक्षु अस्पताल में भर्ती कराया गया और मेडिकल जांच कराई गई। मेडिकल जांच के बाद उसे काउंसिल के लिए भेज दिया गया।

नाबालिग ने अपने काउंसलर को बताया कि उसकी दो सीनियर्स उसे लंच टाइम में स्कूल के खाली कमरे में ले जाती थी और उसके (पीड़िता) कपड़े उतार देती थी। साथ में अपने कपड़े भी उतार देती थीं। वे उसे बेहोश भी करती थीं। पीड़िता ने आरोप लगाया कि सीनियर लड़कियां उसके प्राइवेट पार्ट को टच करती थी। जब वह इसका विरोध करती थी तो लड़कियां उसे धमकाती थीं। यह सब पिछले कुछ महीनों से चल रहा था।

पीड़िता और आरोपी लड़कियां दोनों मोती नगर के सर्वोदय कन्या विद्यालय में पढ़ती हैं। लड़की ने अपने साथ होने वाली छेड़छाड़ की घटना के बारे में परिवार को बताया। जिसके बाद इस बारे में परिवारवालों ने पुलिस को जानकारी दी। पीड़िता की काउंसलिंग जारी है और इसके बाद लड़की के पैरेंट्स भी की काउंसलिंग होगी। यहीं नहीं स्कूल में पढ़ने वाली अन्य लड़कियों की भी काउंसलिंग की जाएगी। पुलिस ने आरोपी स्टूडेंट्स के खिलाफ पास्को एक्ट (यौन अपराधों से बाल सुरक्षा अधिनियम) के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

क्या है पास्को एक्ट?
प्रोटेक्शन आफ चिल्ड्रेन फार्म सेक्सुअल अफेंसेस एक्ट 2012 यानी लैंगिक उत्पीड़न से बच्चों के संरक्षण का अधिनियम 2012। इस एक्ट के तहत नाबालिग बच्चों के साथ होने वाले यौन अपराध और छेड़छाड़ के मामलों में कार्रवाई की जाती है। यह एक्ट बच्चों को सेक्सुअल हैरेसमेंट, सेक्सुअल असॉल्ट और पोर्नोग्राफी जैसे गंभीर अपराधों से सुरक्षा प्रदान करता है। इसके तहत कड़ी सजा प्रावधान है। पास्को एक्ट की धारा 4 के तहत बच्चे के साथ दुष्कर्म पर सजा सात साल से उम्रकैद और अर्थदंड। धारा 6- दुष्कर्म के बाद गम्भीर चोट। जिसमें दस साल से उम्रकैद की सजा व अर्थदंड। धारा 7 व 8 में गुप्तांग से छेडछाड़। जिसमें पांच से सात साल व अर्थदंड तक की सजा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पार्टी के बहाने डीयू स्टूडेंट के साथ दोस्तों ने किया गैंगरेप, कार में लिफ्ट देने वाले ने भी बनाया हवस का शिकार
2 वाशिंग मशीन में डूबने से तीन साल के जुड़वां बच्चों की मौत
3 दिल्ली: मंडी में सजी इंसानियत की थाली
ये पढ़ा क्या?
X