ताज़ा खबर
 

20 दिनों से मेरे पापा को सरकार ने करवा रखा है जेल में बंद, दो और सात साल के बच्चे ने SC से लगाई गुहार

याचिका में बच्चों ने कहा कि उनके पिता के खिलाफ आईटी एक्ट के सेक्शन 66ए, 67 और आईपीसी की धार 188, 269 से 271 तक, 153 और 124ए के तहत केस दर्ज किया गया है।

सुप्रीम कोर्ट (Express Photo by Tashi Tobgyal)

सुप्रीम कोर्ट में दो नाबालिग बच्चों ने अपने पिता कांग्रेस नेता सचिव चौधरी की रिहाई के लिए एक याचिका दायर की है। चौधरी को कथित रूप से प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ सरकार पर कोविड-19 से निपटने की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाने के चलते 11 अप्रैल से हिरासत में रखा गया है। कांग्रेस नेता के बच्चों, जिनकी उम्र लगभग 2 और सात साल है, ने अपने मां के जरिए याचिका दायर की है। याचिका ने पिता की रिहाई की मांग की गई है।

देशभर में कोरोना वायरस से जुड़ी खबर लाइव पढ़ने के लिए यहां क्कि करें

याचिका में बच्चों ने कहा कि उनके पिता के खिलाफ आईटी एक्ट के सेक्शन 66ए, 67 और आईपीसी की धार 188, 269 से 271 तक, 153 और 124ए के तहत केस दर्ज किया गया है। इसके अलावा आपदा प्रबंधन अधिनियम के सेक्शन 56 के तहत भी केस दर्ज किया गया है। बता दें कि याचिका में घातक कोरोना वायरस से निपटने में नाकाम रहने के लिए दिल्ली सरकार और यूपी सरकार पर निशाना साधा गया है, जिसके चलते कांग्रेस नेता चौधरी को फंसे और भूखे प्रवासियों को भोजन देने के लिए दिल्ली-मुरादाबाद हाईवे पर जाने को मजबूर होना पड़ा। याचिका में दलील दी गई है कि कांग्रसे नेता के कामों ने उनकी लोकप्रियता को बढ़ावा दिया, जिससे सत्तापक्ष राजनीतिक दल के स्थानीय नेता परेशान हो गए।

कोरोना वायरस से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें | गृह मंत्रालय ने जारी की डिटेल गाइडलाइंस | क्या पालतू कुत्ता-बिल्ली से भी फैल सकता है कोरोना वायरस? | घर बैठे इस तरह बनाएं फेस मास्क | इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेलक्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

वकील एस सिंरह के माध्य से दायर की गई याचिका में यह भी कहा गया कि चौधरी की राजनीतिक कटुता के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराया गया है जिसके चलते वो हिरासत में हैं। याचिका में कहा गया, ‘याचिकाकर्ता के पिता कांग्रेस पार्टी से संबद्ध हैं, जो सत्तारूढ़ पार्टी के मुख्य प्रतिद्वंद्वी हैं और प्रतिशोध और राजनीतिक प्रतिशोध के कारण, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है।’ बता दें कि याचिकाकर्ताओं के परिवार में कोई पुरुष सदस्य नहीं है और वे अपनी मां और दादी के साथ रहते हैं जो बहुत बूढ़े और बीमार हैं।

Next Stories
1 भारत के कोरोना किट्स लौटाने से चिंता में चीन! हर्ष वर्धन बोले- मई में हम खुद बनाएंगे टेस्ट किट्स, प्रतिदिन हो सकेगी 1 लाख लोगों की जांच
2 दिल्ली में कोरोना का कहर: 15 में से एक मरीज स्वास्थ्यकर्मी, OT बदले जा रहे ICU में; 500 वेंटिलेटर्स के बंदोबस्त पर विचार
3 COVID-19 Crisis: प्रवासी कैंपों में पंखे नहीं करते काम, खाना भी घटिया, सिविल डिफेंस वाले भी ढंग से न करते बात- दिल्ली पुलिस की रिपोर्ट
ये  पढ़ा क्या?
X