ताज़ा खबर
 

जाट आंदोलन को ध्यान में रखते हुए DMRC का फैसला, कल दिल्ली सीमा से बाहर नहीं जाएगी मेट्रो

दिल्ली पुलिस ने दिल्ली मेट्रो रेल कारपोशन (डीएमआरसी) से 20 मार्च को मेट्रो का परिचालन दिल्ली सीमा से बाहर एनसीआर के नोएडा, फरीदाबाद और गुड़गांव में नहीं करने को कहा है।

Author नई दिल्ली | March 19, 2017 4:19 AM
दिल्ली मेट्रो ( photo source – Indian Express)

जाट आरक्षण की मांग को लेकर 20 मार्च को दिल्ली घेराव के मद्देनजर मेट्रो का परिचालन आंशिक तौर पर प्रभावित रहेगा। दिल्ली पुलिस ने दिल्ली मेट्रो रेल कारपोशन (डीएमआरसी) से 20 मार्च को मेट्रो का परिचालन दिल्ली सीमा से बाहर एनसीआर के नोएडा, फरीदाबाद और गुड़गांव में नहीं करने को कहा है। डीएमआरसी के एक अधिकारी ने बताया कि दिल्ली पुलिस के अनुरोध पर रविवार रात 11:30 बजे से मेट्रो का परिचालन सिर्फ दिल्ली शहर तक सीमित रहेगा। वहीं केंद्रीय सचिवालय, पटेल चौक और राजीव चौक सहित मध्य दिल्ली के 12 स्टेशन रविवार रात 8 बजे से अग्रिम आदेश तक बंद रहेंगे। इस अंतरिम व्यवस्था के तहत येलो लाइन पर गुड़गांव, ब्लू लाइन पर नोएडा, गाजियाबाद और वॉयलेट लाइन पर फरीदाबाद से मेट्रो परिचालन बंद रहेगा।

इस दौरान मध्य दिल्ली के 12 स्टेशन राजीव चौक, पटेल चौक, केंद्रीय सचिवालय, उद्योग भवन, लोककल्याण मार्ग, जनपथ, मंडी हाउस, बाराखंभा रोड, आरके आश्रम मार्ग, प्रगति मैदान, खान मार्केट और शिवाजी स्टेडियम बंद रहेंगे। हालांकि इन स्टेशनों से इंटरचेंज सुविधा बहाल रहेगी। अधिकारी ने बताया कि घेराव के बाद सुरक्षा व्यवस्था को लेकर दिल्ली पुलिस की हरी झंडी मिलने पर ही मेट्रो की सामान्य सेवा बहाल हो सकेगी।

यौन उत्पीड़न मामले में कार्रवाई न होने पर रोष

एक निजी स्कूल की महिला शिक्षिका के साथ दिसंबर में शारीरिक यौन शोषण मामले में धीमी कार्रवाई का आरोप लगाया जा रहा है। यौन शोषण मामले में आरोपी पर 10 मार्च को मुकदमा दर्ज हुआ है। लेकिन इसमें भी दस दिन बीत जाने के बावजूद पुलिस ने आरोपी को संबंधित थाने में पूछताछ के लिए नहीं बुलाया है। भाजपा के वरिष्ठ नेता करण सिंह तंवर ने महिला शिक्षिका मामले में धीमी रफ्तार होने को लेकर सवाल खड़े कर रहे हैं। उन्होंने मामले में तेजी लाने के लिए उपराज्यपाल से मुलाकात कर तेजी लाने की गुहार लगाई है।
उनका कहना है कि यह दुखद है। किसी महिला के सम्मान के साथ खिलवाड़ करने वाले पर पुलिस इतना पीछे क्यों है। आरोपी पर कार्रवाई नहीं होना बेहद गंभीर और सोचनीय है। पुलिस के इस लचीले रवैये से अपराधी कानून की चंगुल से बच निकलता है। ऐसे में महिलाएं समाज में किस तरह सुरक्षित रहेंगी।
दिसंबर में यौन उत्पीड़न की घटना में दिल्ली कैंट बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी बी शंकर बाबू रेड्डी पर मामला दर्ज हुआ है। इन पर पुलिस में दिसंबर माह में ही शिकायत होने के बाद 10 मार्च को मामला दर्ज हुआ है। जबकि तंवर का पुलिस पर आरोप है कि मामले में मुकदमा दर्ज होने के बाद दस दिन बाद भी पुलिस ने अभी तक रेड्डी को पुलिस थाने में बुलाकर पूछताछ नहीं की।

दिल्ली मेट्रो एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन पर अब मिलेगी मुफ्त वाई-फाई की सुविधा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X