ताज़ा खबर
 
  • राजस्थान

    Cong+ 99
    BJP+ 81
    RLM+ 0
    OTH+ 19
  • मध्य प्रदेश

    Cong+ 114
    BJP+ 102
    BSP+ 3
    OTH+ 6
  • छत्तीसगढ़

    Cong+ 53
    BJP+ 26
    JCC+ 9
    OTH+ 1
  • तेलांगना

    TRS-AIMIM+ 82
    TDP-Cong+ 25
    BJP+ 6
    OTH+ 6
  • मिजोरम

    MNF+ 25
    Cong+ 10
    BJP+ 1
    OTH+ 4

* Total Tally Reflects Leads + Wins

दिल्ली: बाज की मार से चरमराई मेट्रो की ब्लूलाइन

एक बाज के टकराने के बाद नेटवर्क के ऊपरी तार का एक हिस्सा नीचे झुक गया जिसके कारण शॉर्ट सर्किट भी हो गया।

Author नई दिल्ली | June 14, 2017 1:40 AM
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर। (फाइल)

दिल्ली मेट्रो की ब्लू लाइन पर ट्रेन सेवाएं मंगलवार शाम के व्यस्त समय में बुरी तरह चरमरा गईं और मुसाफिरों को परेशानी झेलनी पड़ी। सेवाएं तब बाधित हुईं, जब एक बाज के टकराने के बाद नेटवर्क के ऊपरी तार का एक हिस्सा नीचे झुक गया जिसके कारण शॉर्ट सर्किट भी हो गया। अव्यवस्था का आलम यह था कि यात्रियों को दस मिनट का सफर एक से डेढ़ घंटे में पूरा करना पड़ा। करीब तीन घंटे तक ट्रेनें इंद्रप्रस्थ और यमुना बैंक स्टेशनों के बीच एक ही ट्रैक पर चलीं जिससे नोएडा सिटी सेंटर और वैशाली को पश्चिम दिल्ली के द्वारका से जोड़ने वाले व्यस्त कॉरिडोर के स्टेशनों पर यात्रियों की भीड़ जमा हो गई। घटना शाम करीब चार बजकर 55 मिनट पर हुई। शाम के सबसे व्यस्त समय से कुछ ही मिनट पहले यह हुआ जब कार्यालयों में काम खत्म होता है। इस दौरान हजारों लोग अपने घर लौटने के लिए मेट्रो में सवार होते हैं।

दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) के एक अधिकारी ने कहा कि ट्रेनों की आवाजाही की निगरानी के साथ मरम्मत का काम शाम सात बजकर 40 मिनट पर पूरा हुआ। उन्होंने कहा कि एक बाज के टकराने से इंसुलेटर में शॉर्ट सर्किट हुआ जिससे कैटेनरी तार नीचे झुक गई। इंसुलेटर से चिनगारी निकली और वह टूट गया। इससे ओवर हेड इक्विपमेंट (ओएचई) उलझ गया और एक ट्रेन उसके नीचे से गुजरी। अधिकारी ने कहा कि इस कारण से ट्रेन की आवाजाही की निगरानी की गई। एक ही ट्रैक पर बारी- बारी से दोनों दिशाओं की ट्रेनें चलीं और मरम्मत का काम किया गया। तकनीकी खराबी से नोएडा-वैशाली की तरफ जाने वाली लाइन पर बुरा असर पड़ा। 50 किलोमीटर लंबी ब्लूलाइन इस समय डीएमआरसी का सबसे लंबा कॉरिडोर है जो अकसर तकनीकी खराबियों से प्रभावित होता है। मेट्रो लाइन की इस गड़बड़ी की मार देर शाम तक लोगों ने झेली। घर पहुंचने के लिए लोगों को दूसरे साधनों का सहारा लेना पड़ा, जिसका फायदा आटो-टैक्सियों वालों ने जमकर उठाया। खास तौर पर यमुना बैंक, अक्षरधाम जैसे स्टेशनों पर यात्रियों से पांच-छह गुने किराए वसूले गए। जिन स्थानों पर बस की सुविधा नहीं थी, वहां लोगों को ज्यादा दिक्कतें उठानी पड़ीं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App