ताज़ा खबर
 

पुलिस हिरासत में युवक की संदिग्ध मौत, अपहरण के आरोप में पुलिस के कहने पर खुद ही दी थी गिरफ्तारी

पुलिस का कहना है कि शुरुआती जांच में मामला खुदकुशी का प्रतीत हो रहा है। एसडीएम और मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट इसकी जांच कर रहे हैं।

Author नई दिल्ली | Published on: August 3, 2017 3:01 AM
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

जहांगीरपुरी इलाके में पुलिस हिरासत में एक युवक की संदिग्ध रूप से मौत हो गई है। 32 साल का राजकुमार अपने खिलाफ दर्ज एक मामले में थाना में पूछताछ के लिए हाजिर हुआ था। मंगलवार देर रात उसका शव थाने के बाथरूम में लटका पाया गया। पुलिस का कहना है कि शुरुआती जांच में मामला खुदकुशी का प्रतीत हो रहा है। एसडीएम और मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट इसकी जांच कर रहे हैं। पुलिस ने राजकुमार के परिजनों को भी बुलाया है। उत्तर-पश्चिम जिला के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त विजयंता आर्या के मुताबिक राजकुमार को बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका के एक मामले में जांच के लिए बुलाया गया था। उत्तरप्रदेश के कासगंज का रहने वाला राजकुमार मंगलवार देर रात जहांगीरपुरी थाने के बाथरूम में लटका पाया। पुलिस ने शव के पोस्टमार्टम के लिए डॉक्टरों का एक पैनल बनाया है। अब पुलिस तमाम बिंदुओं से जांच में जुटी है।

उधर, सूत्रों का कहना है कि राजकुमार कुछ साल पहले पीतमपुरा के एक स्कूल में सुरक्षाकर्मी का काम करता था। उसी स्कूल में एक महिला भी साफ-सफाई का काम करती थी। वह महिला भी कुछ दिनों से गायब है। जहांगीरपुरी थाना में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट उसके पति ने दर्ज कराई थी। पति ने राजकुमार पर संदेह जताया था कि उसकी पत्नी को उसने गायब किया है। दिल्ली पुलिस जांच के दौरान राजकुमार के घर कासगंज गई थी। वहां उसके नहीं मिलने के पर पुलिस ने परिवार के सदस्यों को यह सूचना दी कि दिल्ली पुलिस को उसकी तलाश है। बताया जा रहा है कि पुलिस ने उसके परिवार वालों को यह भी कहा था कि अगर राजकुमार खुद पूछताछ में शामिल नहीं होता है तो फिर उसके खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज किया जा सकता है। इस सूचना पर राजकुमार खुद ही मंगलवार को जहांगीरपुरी थाना आया। पूछताछ में शामिल होने की बात भी कही। उससे पूछताछ जारी थी तभी देर रात उसका शव बाथरूम से लटका पाया गया। इस मामले में पुलिस पूछताछ के बाद तनाव की बातें भी सामने आई है। शव के पोस्टमार्टम रिपोर्ट और एसडीएम और मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेज की जांच के बाद ही सही कारणों का पता चलेगा।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बवाना उपचुनाव: केजरीवाल सरकार के लिए नई परीक्षा, नाराज भाजपा नेता गुग्गन सिंह आप में शामिल
2 डूटा अध्यक्ष पद हुआ ‘कांग्रेसमुक्त’
3 राजधानी में मंत्री और सांसद तक सुरक्षित नहीं