ताज़ा खबर
 

मैक्स अस्पताल मामले में बोले स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन- दोषी पाए जाने पर रद्द होगा लाइसेंस

एक बार रिपोर्ट आ जाने पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। अगर अस्पताल को मेडिकल लापरवाही का दोषी पाया जाता है तो इसका लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है।

Author नई दिल्ली  | December 3, 2017 4:35 AM
दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन। (फोटो-ANI)

राजधानी के शालीमार बाग स्थित मैक्स अस्पताल की ओर से एक जिंदा बच्चे को मृत बताने के मामले में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शनिवार को कहा कि अगर अस्पताल को जांच में लापरवाही का दोषी पाया गया तो उसका लाइसेंस रद्द किया जा सकता है। सरकार ने शुक्रवार को उस वक्त मैक्स अस्पताल की ओर से की गई आपराधिक लापरवाही की जांच का आदेश दिया था, जब यह सामने आया था कि इसके डॉक्टरों ने जिस बच्चे को मृत घोषित कर दिया था, वह बाद में जीवित पाया गया। जैन ने पत्रकारों को बताया कि एक बार रिपोर्ट आ जाने पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। अगर अस्पताल को मेडिकल लापरवाही का दोषी पाया जाता है तो इसका लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है। जैन ने कहा कि मामले की रिपोर्ट दो दिन में आने की उम्मीद है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इस मामले में सख्त कार्रवाई का वादा किया था। बीते 30 नवंबर की सुबह मैक्स अस्पताल में वर्षा नाम की एक महिला ने जुड़वां बच्चों (एक लड़का और एक लड़की) को जन्म दिया था, जिसमें बच्ची मृत ही पैदा हुई थी, जबकि बच्चे को अस्पताल ने मृत बता दिया था, जोकि बाद में जिंदा निकला।

पुलिस ने बताया कि वर्षा को पश्चिम विहार के एक नर्सिंग होम से मैक्स अस्पताल लाया गया था। अस्पताल ने बच्चों के माता-पिता को पहले बताया कि दोनों बच्चे मृत पैदा हुए हैं और उन्हें दोनों बच्चे एक पॉलाथिन बैग में लपेटकर सौंप दिए गए। बच्चों के अंतिम संस्कार से ठीक पहले परिवार को पता चला कि एक बच्चा जीवित है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इसी अस्पताल को 22 नवंबर को भी कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था, क्योंकि उसने गरीब तबके के मरीजों को सेवाएं मुहैया कराने के कुछ नियम पूरे नहीं किए थे।

जैन ने आरोप लगाया कि पिछले मामले में हमने जांच की थी और पाया कि ओपीडी में 25 फीसद के बजाय महज 10 फीसद मरीजों को ही देखा जा रहा था। यह पूछे जाने पर कि क्या मामले में शामिल डॉक्टरों के खिलाफ कोई कार्रवाई की जाएगी, उन्होंने कहा कि मामला मेडिकल काउंसिल आॅफ इंडिया को भेजा जाएगा और फिर उनके जवाब के आधार पर कोई कार्रवाई की जाएगी। घटना पर नाराजगी जताते हुए जैन ने यह आरोप भी लगाया कि सुधार के नाम पर निजी अस्पतालों को छूट दी जा रही है और सरकारी अस्पतालों को जान-बूझकर बर्बाद किया जा रहा है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App