ताज़ा खबर
 

मानसून की आमद : कहीं राहत, कहीं आफत

मौसम पूर्वानुमान के मुताबिक अगले 24 घंटों में दिल्ली-एनसीआर सहित पूरे उत्तर-पश्चिम भारत में काफी अच्छी मॉनसूनी बारिश के आसार हैं।
Author नई दिल्ली | July 3, 2017 07:27 am
मानसून ने केरल में दस्तक दे दी है।

आखिरकार मॉनसून ने रविवार को राजधानी दिल्ली और आस-पास के हिस्सों में दस्तक दे ही दी। लंबे इंतजार और थोड़ी देरी से दक्षिण-पश्चिम मॉनसून पूरे दिल्ली-एनसीआर और हरियाणा के कुछ हिस्सों को अपनी बौछारों से भिगो चुका है। इसके साथ ही राजस्थान और हिमाचल प्रदेश के कुछ और हिस्सों व मध्य-प्रदेश, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के शेष हिस्सों में रविवार को मॉनसून का आगमन हुआ, वहीं पंजाब को मॉनसून का अभी भी इंतजार है। मौसम पूर्वानुमान के मुताबिक अगले 24 घंटों में दिल्ली-एनसीआर सहित पूरे उत्तर-पश्चिम भारत में काफी अच्छी मॉनसूनी बारिश के आसार हैं। भारतीय मौसम विभाग (आइएमडी) की ओर से रविवार को जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक, ‘राजस्थान और हिमाचल प्रदेश के कुछ बाकी पेज 8 पर और हिस्सों, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के शेष हिस्सों, पूरे दिल्ली-एनसीआर और हरियाणा के कुछ हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून का आगमन हो चुका है।’ राजधानी दिल्ली में मॉनसून का आगमन अपने समय से कुछ देर है क्योंकि यहां आगमन की सामान्य तारीख 29 जून है। इसके साथ ही मॉनसून देश के ज्यादातर राज्यों को पूरी तौर पर अपने दायरे में ले चुका है, वहीं राजस्थान, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मिर के कुछ भागों में मॉनसून का आगमन हो चुका है। लेकिन एकमात्र पंजाब अभी भी मॉनसून से पूरी तरह अछूता है। पंजाब में मॉनसून आगमन सामान्यत: 1 जुलाई तक होता है। देश के अंतिम छोर राजस्थान के गंगानगर तक मॉनसून जुलाई 15 तक पहुंचता है।
राजस्थान में दक्षिण-पश्चिम मानसून की सक्रियता के कारण पिछले 24 घंटों के दौरान बारिश जनित हादसों में तीन बच्चों सहित चार लोगों की मौत हो गई, वहीं मेहसाना-पालनपुर रेलखंडों के मध्य भारी बारिश के कारण रेल यातायात प्रभावित हुआ है।

पुलिस के मुताबिक सवाईमाधोपुर जिलें के गंगापुर सिटी थाना क्षेत्र के पैमापुरा गांव के डूंगरी के बालाजी के पास एक बरसाती नाले में नहाते समय डूबने से केतन माली (13), लवकुश माली (14) और प्रेमंिसह माली (15), की मौत हो गई। जोधपुर के रतानाड़ा थाना क्षेत्र में एक बरसाती नाले में तेज बहाव में डॉ अमरचंद राठी की डूबने से मौत हो गई।
उत्तर-पश्चिम रेलवे के वरिष्ठ जन सम्पर्क अधिकारी कमल जोशी ने बताया कि मेहसाना-पालनपुर रेलखंडों के मध्य भारी बारिश के कारण आबूरोड-मेहसाना-अमदाबाद और अजमेर-अमदाबाद-अजमेर सवारी गाड़ी को रविवार को रद्द किया गया है और सात गाड़ियों के मार्ग में परिवर्तन किया गया है।उत्तराखंड में मौसम विभाग ने प्रदेश में अगले 60 घंटों में कुछ जगहों, विशेषकर कुमाऊं क्षेत्र में भारी से बहुत भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है। उधर मणिपुर के विभिन्न भागों में पिछले दो दिनों से मूसलाधार बारिश से बाढ़ के कारण इंफल घाटी और राज्य की राजधानी का कई इलाका प्रभावित हुआ है। बाढ़ नियंत्रण विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इंफल नदी तटबंध का एक हिस्सा इंफल पूर्व जिले के बाशिखोंग में ढह गया जिससे लोगों के बीच अफरातफरी मच गई। यहां बाढ़ के कारण 300 से ज्यादा परिवार प्रभावित हुए। कई परिवारों को राहत शिविरों और सरकार के अस्थायी राहत शिविरों में पनाह लेनी पड़ी।

दिल्ली-एनसीआर में हालांकि, पिछले कुछ दिनों से बारिश हो रही थी, लेकिन मॉनसून आगमन का इंताजर था जो रविवार को समाप्त हो गया। निजी मौसम एजेंसी स्काइमेट के मुताबिक, ‘चौबीस घंटों के दौरान शनिवार सुबह साढ़े आठ से रविवार सुबह साढ़े आठ तक दिल्ली में 38 मिमी बारिश दर्ज की गई। आइएमडी के आंकड़ों के मुताबिक ‘सफदरजंग में 24 घंटों के दौरान 20.4 मिमी, पालम में 37.9 मिमी, लोधी रोड में 21.1 मिमी और रिज क्षेत्र में 13.2 मिमी बारिश दर्ज की गई’। आइएमडी ने अगले 24 घंटों में पूरे उत्तर-पश्चिम भारत में काफी अच्छी बारिश के आसार जताए हैं, जिसके बाद बारिश की तीव्रता घटेगी।देश में मॉनसून का प्रदर्शन अभी तक अच्छा रहा है। मॉनसून ने अच्छी शुरुआत पकड़ी और 1 जून से 20 जून तक 5 फीसद अधिक बारिश दर्ज की गई थी। इसके बाद मॉनसून की गति और बारिश की मात्रा दोनों में कमी आई लेकिन फिर मॉनसून ने रफ्तार पकड़ ली और फिलहाल इसमें 6 फीसद आधिक्य दर्ज किया गया है। एक जून से 2 जुलाई के बीच औसतन 180.7 सामान्य बारिश के विपरीत 190.7 मिमी बारिश दर्ज की गई है। इसके साथ ही जहां पहले 10 सबडिवीजन में बारिश सामान्य से कम रही थी, वो अब घट कर 9 रह गई है। मणिपुर में पूरे देश में सबसे कम (63 फीसद कमी) बारिश हुई है। गौरतलब है कि आइएमडी ने इस साल देश में मॉनसून के सामान्य रहने और 98 फीसद बारिश की संभावना जताई है, वहीं उत्तर-पश्चिम भारत में तुलनात्मक रूप से कम 96 फीसद बारिश का ही पूर्वानुमान है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.