ताज़ा खबर
 

‘गौरक्षकों’ के हमले के बाद दिल्ली में हो सकता था दंगा, मदरसे के प्रिंसिपल ने रोक लिया

एक मदरसे के प्रिंसिपल ने भावनाओं में ना बहकर दिल्ली में दंगा होने से बचा लिया। जिस प्रिंसिपल की बात हो रही है उनका नाम अली रुकमान है।

delhi, delhi eid, eid kurbaniमदरसे के प्रिंसिपल अली रुकमान। (फोटो- toi)

एक मदरसे के प्रिंसिपल ने भावनाओं में ना बहकर बुधवार (14 सितंबर) की रात दिल्ली में दंगा होने से बचा लिया। जिस प्रिंसिपल की बात हो रही है उनका नाम अली रुकमान है। वह 52 साल के हैं और वेस्ट दिल्ली के प्रेम नगर के एक मदरसे में प्रिंसिपल हैं। दरअसल, बकरीद के अगले दिन कुछ कथित गौर रक्षकों ने भैंस की हड्डियां ले जाने पर दो लोगों की पिटाई कर दी थी। जिन लोगों की पिटाई की गई उसमें से एक उनका दामाद भी था। लड़ाई होने के बाद मदरसे के पास उनके समुदाय के लोग जुटने लगे थे। लेकिन अली ने सबको वहां से जाने के लिए कह दिया। उन्होंने कहा कि वह उनके परिवार का निजी मामला है और वह उससे खुद ही निपट लेंगे। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक अली ने कहा था कि अपने पैतृक गांव गोरखपुर में उन्होंने काफी दंगे देखे हैं। उन्हें पता है कि दंगों में दोनों तरफ का नुकसान होता है। इसलिए वह अपनी वजह से लोगों को दुख नहीं देना चाहते। अली 25 साल पहले दिल्ली रहने आए थे।

गौरतलब है कि ईद के बाद अली के दामाद हाफिज अब्दुल खालिद और उनका दोस्त अली हसन भैंसों के मांस के बचे हुए टुकड़ों और हड्डियों को फेंकने के लिए टेम्पो में भरकर ले जा रहे थे। लेकिन एक मोटरसाइकिल पर सवार कुछ लोगों ने उन्हें रोक लिया। इसके बाद थोड़ी कहासुनी के बाद दोनों लड़कों ने फोन करके कुछ और लड़कों को बुला लिया और इन दोनों को पीटना शुरू कर दिया। वहां लगभग 24 लड़के जमा हो गए। आरोप है कि दोनों को लोहे की रॉड से पीटा गया। पुलिस ने इस मामले में चार लड़कों को पकड़ भी लिया है। जिन लड़कों को पकड़ा गया है उनके नाम नवीन, राजू, देवेश और अभिषेक हैं। पुलिस ने चारों लोगों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। वहीं खालिद और हसन फिलहाल संजय गांधी हॉस्पिटल में भर्ती हैं। दोनों को फिलहाल कुछ दिन वहीं रहना पड़ेगा। हसन ने बताया कि वे लोग ऐसे किसी संगठन का नाम ले रहे थे जो जिसके बारे में उन्होंने पहले कभी नहीं सुना था। हसन और खालिद टेम्पो में 18 भैंसों की हड्डियां और बचा हुआ मांस ले जा रहे थे।

Next Stories
1 सुप्रीम कोर्ट के विज्ञापन नियमों का AAP ने किया उल्लंघन, लौटाने होंगे 18 करोड़ रुपये
2 नजीब जंग का मनीष सिसोदिया को ‘आदेश’- जल्द से जल्द वापस आओ
3 परिवार, सरकार और ‘बाहरी’
ये पढ़ा क्या?
X