ताज़ा खबर
 

ऐसे खत्म होगा वीआईपी कल्चर- नरेन्द्र मोदी के मंत्री दुकान में खरीदते रहे चश्मा, बाहर ग्राहक करते रहे इंतजार

केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने ट्वीट किया और कहा, ' मैं अपने सुरक्षाकर्मियों से बात करुंगा, वैसे भी मैं बहुत कम ही बाहर जाता हूं, कुछ भ्रम की वजह से गलतियां हुई हैं, फिर मुझे इसका खेद है।'

दिल्ली के एक दुकान में चश्मा खरीदने पहुंचे केन्द्रीय मंत्री किरण रिजिजू (Photo-Twitter/@anubhabhonsle)

केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार देश से वीआईपी कल्चर को खत्म करने के लिए कई कदम उठा रही है। लेकिन शनिवार (3 जून) को दिल्ली में मोदी सरकार के मंत्री और गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू पर वीआईपी कल्चर को बढ़ावा देने का आरोप लगा। दरअसल किरण रिजिजू दिल्ली की एक चश्मा दुकान में चश्मा खरीदने गये। लेकिन इस दौरान मंत्री महोदय के सिक्यूरिटी गार्ड ने दूसरे ग्राहकों को अंदर नहीं आने दिया। किरण रिजिजू अपना चश्मा खरीदते रहे और दूसरे ग्राहक बाहर इंतजार करते रहे। जब इस बात की खबर पत्रकारों को हुई तो उन्होंने ट्वीट कर विरोध जताया। टीवी पत्रकार अनुभा भोसले ने लिखा कि किरण रिजिजू चश्मा खरीद रहे थे और ग्राहक इंतजार कर रहे थे। पत्रकार राहुल पंडिता ने लिखा कि क्या इसी तरह से देश में वीआईपी कल्चर खत्म होगा किरण रिजिजू साहब, आप चश्मा खरीद रहे थे और अंदर किसी को आने नहीं दिया गया।

इसके जवाब में केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने लिखा कि मैं ऐसा कभी नहीं करुंगा, मुझे बताया गया कि दुकान मालिक ने लोगों को अंदर नहीं आने दिया क्योंकि दुकान में जगह कम थी। तब पत्रकार राहुल पंडिता ने मंत्री महोदय को बताया कि वे इस दुकान से 1996 से ही चश्मा खरीद रहे हैं, और कई बार दस दस ग्राहक अंदर होते हैं। राहुल पंडिता ने कहा कि आपको इस बारे में अपने सिक्युरिटी गार्ड्स को जानकारी देनी चाहिए। इसके बाद केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने फिर एक ट्वीट किया और कहा, ‘ मैं अपने सुरक्षाकर्मियों से बात करुंगा, वैसे भी मैं बहुत कम ही बाहर जाता हूं, कुछ भ्रम की वजह से गलतियां हुई हैं, फिर मुझे इसका खेद है।’

केन्द्रीय मंत्री किरण रिजिजू ने जब लोगों द्वारा सवाल उठाए जाने के बाद खेद जता दिया तो कई लोगों ने उनकी तारीफ की और कहा कि सार्वजनिक जीवन में मंत्रियों से ऐसा व्यवहार अपेक्षित है। बता दें कि नरेन्द्र मोदी सरकार देश से वीआईपी कल्चर खत्म करने के पक्ष में है। इसी क्रम में सरकार ने मंत्रियों, अधिकारियों द्वारा लाल बत्ती के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App