ताज़ा खबर
 

बैसाखी पर पाक गई किरण बाला बन गई आमना बीबी

बैसाखी का पर्व मनाने के लिए पंजाब के होशियारपुर से पाकिस्तान गई एक सिख महिला ने कथित तौर पर इस्लाम अपनाकर वहीं के युवक के साथ निकाह कर लिया।

Author नई दिल्ली | April 20, 2018 5:40 AM
प्रतीकात्मक चित्र

बैसाखी का पर्व मनाने के लिए पंजाब के होशियारपुर से पाकिस्तान गई एक सिख महिला ने कथित तौर पर इस्लाम अपनाकर वहीं के युवक के साथ निकाह कर लिया। अब उसने भारत लौटने से मना कर दिया है और पाकिस्तान की सरकार से वहीं रहने दिए जाने की गुहार लगाई है। दूसरी ओर, भारत में महिला के परिजनों ने पाकिस्तानी खुफिया एजंसी आइएसआइ के हाथों उसके अपहरण की आशंका जताई है। परिजनों ने विदेश मंत्रालय से जरूरी कार्रवाई की गुहार लगाई है। विदेश मंत्रालय के एक आला अधिकारी ने महिला के ससुर तरसेम सिंह के हवाले से बताया, 31 साल की यह महिला तीन बच्चों की मां है और इसके पति की 2013 में मौत हो चुकी है। वह होशियारपुर के गढ़शंकर तहसील के गांव स्थित अपने ससुराल में बच्चों को लेकर रह रही थी।

यह महिला भारत से पाकिस्तान गए 1800 सिख तीर्थयात्रियों के जत्थे का हिस्सा थी, जो गुरुद्वारा पंजा साहिब और गुरुद्वारा ननकाना साहिब की यात्रा पर गए। इन सभी को 21 अप्रैल को लौटना था। महिला को इस्लामाबाद के निकट हसन अब्दाल इलाके में गुरुद्वारा पंजा साहब में बैसाखी के कार्यक्रम में शामिल होना था, लेकिन वहां शामिल नहीं हुई। गुरुवार को पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने उस महिला का कथित आवेदन पत्र भारतीय उच्चायोग को सौंपा, जिसमें उस महिला ने भारत में जान का खतरा बताते हुए पाकिस्तान सरकार से वीजा बढ़ाने और बाद में नागरिकता दिए जाने की अपील की है। महिला ने अपने कथित आवेदन में अपने धर्म परिवर्तन और निकाह की बात कही है।

इन दस्तावेजों में कहा गया है कि पंजाब के होशियारपुर जिले के निवासी मनोहर लाल की बेटी किरण बाला ने लाहौर में इस्लाम स्वीकार किया और मोहम्मद आजम नामक स्थानीय युवक से शादी कर ली। उसने अपना नाम बदलकर आमना बीबी कर लिया है। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय से मिले दस्तावेजों के आधार पर भारतीय विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने जानकारी मिलने पर होशियारपुर में उस महिला के परिजनों से संपर्क साधा। महिला के परिजनों ने पाकिस्तान में उसे बरगलाए जाने और अवैध तरीके से रोके जाने का दावा करते हुए भारत सरकार से उसे बचाने की गुहार लगाई है।
भारतीय विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने होशियारपुर में महिला के ससुर तरसेम सिंह से जानकारी जुटाई है। तरसेम सिंह ने आशंका जताई है कि हो सकता है पाकिस्तान में उसे इंटर सर्विसेज इंटेलीजेंस या आइएसआइ के लोगों ने अगवा कर लिया और जबरन शादी करा दी।

इस महिला का कथित शौहर मोहम्मद आजम पाकिस्तान में लाहौर के हंजरवाल मुल्तान रोड का रहने वाला है। पाकिस्तानी मीडिया ने अपने विदेश मंत्रालय का हवाला देते हुए दावा किया है कि आजम से उसकी दोस्ती फेसबुक पर हुई थी। वह पाकिस्तान में शादी करने के इरादे से गई थी। अपने कथित आवेदन में उसने आमना बीबी के नाम से दस्तखत किए हैं। बताया गया है कि उसकी शादी बीते 16 अप्रैल को लाहौर के ‘जामिया नसीमिया’ शिक्षण संस्थान में हुई। उसने पत्र में लिखा है कि वह मौजूदा हालात में भारत वापस नहीं जा सकती और उसे जान से मारने की धमकी मिली है। ऐसे में उसे वीजा की मियाद बढ़ाने की जरूरत है।

1. भारत से पाकिस्तान गए 1800 सिख तीर्थयात्रियों के जत्थे का हिस्सा थी यह महिला, जो गुरुद्वारा पंजा साहिब और गुरुद्वारा ननकाना साहिब की यात्रा पर गए। इन सभी को 21 अप्रैल को लौटना था।
2. महिला को इस्लामाबाद के निकट हसन अब्दाल इलाके में गुरुद्वारा पंजा साहब में बैसाखी के कार्यक्रम में शामिल होना था, लेकिन वहां शामिल नहीं हुई।
3. गुरुवार को पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने उस महिला का कथित आवेदन पत्र भारतीय उच्चायोग को सौंपा, जिसमें उस महिला ने भारत में जान का खतरा बताते हुए पाकिस्तान सरकार से वीजा बढ़ाने और बाद में नागरिकता दिए जाने की अपील की है। महिला ने अपने कथित आवेदन में अपने धर्म परिवर्तन और निकाह की बात कही है।
4. भारतीय विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने जानकारी मिलने पर होशियारपुर में उस महिला के परिजनों से संपर्क साधा।
5. होशियारपुर में महिला के ससुर तरसेम सिंह ने पाकिस्तान में उसे बरगलाए जाने और अवैध तरीके से रोके जाने का दावा करते हुए भारत सरकार से उसे बचाने की गुहार लगाई है।
6. तरसेम सिंह ने आशंका जताई है कि हो सकता है पाकिस्तान में उसे इंटर सर्विसेज इंटेलीजेंस या आइएसआइ के लोगों ने अगवा कर लिया और जबरन शादी करा दी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App