केजरीवाल का एलान-दो घंटे से ज्‍यादा बिजली कटौती होने पर दिल्‍लीवासियों को मिलेगा हर्जाना - Jansatta
ताज़ा खबर
 

केजरीवाल का एलान-दो घंटे से ज्‍यादा बिजली कटौती होने पर दिल्‍लीवासियों को मिलेगा हर्जाना

केजरीवाल ने कहा कि उन्‍होंने इस बारे में नीतिगत निर्देश दिल्‍ली इलेक्‍ट्र‍िसिटी रेगुलेटरी कमीशन (DERC) को दिया है। निर्देश के मुताबिक, अगर बिना शेड्यूल के बिजली की कटौती होती है तो इसे दो घंटे के भीतर ठीक किया जाएगा। अगर ऐसा नहीं होता, उस इलाके के लोगों को हर्जाना दिया जाएगा।

Author नई दिल्‍ली | May 21, 2016 7:18 PM
दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल। (FILE PHOTO)

चिलचिलाती गर्मी में बिजली की कटौती से परेशान दिल्‍लीवासियों को सीएम अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को भरोसा दिलाया कि उनकी सरकार पावर कट से जुड़ी मिल रही हर शिकायत को निजी तौर पर देख रही है। केजरीवाल ने यह भी कहा कि एक ऐसी नीति लाई जाएगी, जिसके तहत दो घंटे से ज्‍यादा बिजली कटौती से परेशान लोगों को हर्जाना दिया जाएगा।

केजरीवाल ने कहा, ‘दिल्‍ली में देर रात बहुत ज्‍यादा बिजली जाती रहती है। बीते दो दिन से मैं इस तरह के हालात देख रहा हूं। बीएसईएस से जुड़े एरिया में पावर कट आम तौर पर ज्‍यादा है। टाटा के इलाकों में इस मुकाबले कम कटौती है। कल बिजली मंत्रियों ने हालात का संज्ञान लिया और हम निजी तौर पर सभी शिकायतों पर गौर कर रहे हैं।’ केजरीवाल के मुताबिक, उन्‍होंने इस मुद्दे पर सोमवार को मीटिंग बुलाई है। यह भी कहा कि उन्‍होंने इस बारे में नीतिगत निर्देश दिल्‍ली इलेक्‍ट्र‍िसिटी रेगुलेटरी कमीशन (DERC) को दिया है। निर्देश के मुताबिक, अगर बिना शेड्यूल के बिजली की कटौती होती है तो इसे दो घंटे के भीतर ठीक किया जाएगा। अगर ऐसा नहीं होता, उस इलाके के लोगों को हर्जाना दिया जाएगा।

केजरीवाल ने कहा, ‘हमारी डीआरसी के साथ मीटिंग हुई और यह नीति जल्‍द ही लागू हो जाएगी। 15 साल पहले हम दिल्‍ली में निजीकरण लेकर आए ताकि राज्‍य में बिजली के हालत ठीक हो और इस वजह से बिजली की कीमत में बढ़ौती हुई। हमारी सरकार में पहली बार हमने कीमतें नहीं बढ़ने दीं।’ बता दें कि दिल्‍ली में बिजली सप्‍लाई करने वाली मुख्‍य तौर पर तीन कंपनियां हैं। ये हैं-बीएसईएस यमुना पावर लिमिटेड, बीएसईएस राजधानी पावर लिमिटेड और टाटा पावर दिल्‍ली डिस्‍ट्रीब्‍यूशन लिमिटेड।

ऑरिजनल सोर्स 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App