JNU Sedition Case: Kanhaiya Kumar Umar Khalid Anirban Bhattacharya didn't misuse liberty says Delhi Police to court - Jansatta
ताज़ा खबर
 

पुलिस ने अदालत से कहा: कन्हैया-उमर-अनिर्बान ने आज़ादी का दुरुपयोग नहीं किया

अंतरिम जमानत पर चल रहे कन्हैया, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य ने नियमित जमानत के लिए अदालत में याचिका दायर की है।

Author नई दिल्ली | August 26, 2016 9:27 PM
जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार। (पीटीआई फाइल फोटो)

दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार (26 अगस्त) को यहां एक अदालत को बताया कि जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार और दो अन्य छात्रों ने फरवरी में विश्वविद्यालय परिसर में कथित भारत विरोधी नारेबाजी से जुड़े देशद्रोह के एक मामले में अंतरिम जमानत की शर्तों का दुरुपयोग नहीं किया और जांच में सहयोग किया। दिल्ली पुलिस के विशेष सेल ने अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रीतेश सिंह के सामने मामले के तीन आरोपियों के लिए नियमित जमानत मांगने वाले आवेदनों के जवाब में ये बातें कहीं। न्यायाधीश ने आरोपियों की याचिकाओं पर आदेश शनिवार (27 अगस्त) तक के लिए सुरक्षित रखा। विशेष लोक अभियोजक राजीव मोहन ने कहा कि तीन आरोपियों ने जांच के दौरान ‘सहयोग’ किया और उन्होंने अपनी अंतरिम जमानत का ‘दुरुपयोग नहीं’ किया।

जांच एजेंसी ने अदालत को यह भी बताया कि अगर जमानत मिलती है तो आरोपियों पर कुछ शर्तें लगाई जानी चाहिएं क्योंकि इस मामले में जांच अब भी जारी है। अंतरिम जमानत पर चल रहे कन्हैया, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य ने नियमित जमानत के लिए अदालत में याचिका दायर की है। कन्हैया ने यह याचिका ऐसे समय दायर की जब दिल्ली उच्च न्यायालय ने 17 अगस्त को नियमित जमानत का उनका अनुरोध ठुकरा दिया था और उनसे इस संबंध में सत्र अदालत का दरवाजा खटखटाने को कहा था। उच्च न्यायालय ने उन्हें दो मार्च को छह महीने के लिए अंतरिम जमानत दी थी जिसकी अवधि एक सितंबर को समाप्त हो रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App