ताज़ा खबर
 

पाकिस्तानी हेलिकॉप्टर मार गिराने को भेजे थे मिग

भारतीय वायुसीमा में घुस आए पाकिस्तानी हेलिकॉप्टर को मार गिराने के लिए वायुसेना के दो लड़ाकू मिग विमानों को श्रीनगर से रवाना किया गया था।

Author नई दिल्ली, 1 अक्तूबर। | October 2, 2018 10:14 AM
रडार से हेलिकॉप्टर के नियंत्रण रेखा पार करने की पुष्टि होते ही दो मिग-21 विमानों ने उड़ान भरी थी।

भारतीय वायुसीमा में घुस आए पाकिस्तानी हेलिकॉप्टर को मार गिराने के लिए वायुसेना के दो लड़ाकू मिग विमानों को श्रीनगर से रवाना किया गया था। हेलिकॉप्टर ने सीमा अतिक्रमण की चेतावनी अनसुनी कर दी थी। उसके जासूसी मिशन पर होने का शक पुख्ता होने पर लड़ाकू विमानों को उसे निशाने पर लेने को कहा गया। इस बीच, जमीन से थल सैनिकों द्वारा हल्के हथियार से गोलीबारी किए जाने पर वह हेलिकॉप्टर भाग निकला। वायुसेना के अधिकारियों के मुताबिक, लड़ाकू विमानों से गोले दागे जाने के कुछ ही क्षण पहले पाकिस्तानी हेलिकॉप्टर निकल भागा था।

पाकिस्तानी हेलिकॉप्टर ने रविवार को दोपहर 12 बजे के बाद पुंछ में भारतीय वायुसीमा का अतिक्रमण किया था। वह भारतीय सीमा में सात सौ मीटर भीतर तक घुस आया था। सैन्य अधिकारियों ने सोमवार को बताया, भारतीय सीमा में घुसे पाकिस्तानी हेलिकॉप्टर को खदेड़ने के लिए सेना के दो लड़ाकू विमानों ने श्रीनगर से उड़ान भरी थी। रडार से हेलिकॉप्टर के नियंत्रण रेखा पार करने की पुष्टि होते ही दो मिग-21 विमानों ने उड़ान भरी थी। वायुसेना के अधिकारियों के मुताबिक, हवाई रास्ते से पुंछ की श्रीनगर से दूरी कुछ ही मिनटों की है। लड़ाकू विमान हेलिकॉप्टरों को निशाना बनाने से कुछ ही क्षण पीछे थे। अगर उनके निशाने पर यह हेलिकॉप्टर आ जाता तो उस पर कुछ पल में हमला हो जाता।

इस बीच, भारतीय सुरक्षा बलों ने हेलिकॉप्टर पर गोलियां चलार्इं लेकिन ऊंचाई ज्यादा होने के चलते यह बचा रहा। हेलिकॉप्टर में पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) के कथित प्रधानमंत्री राजा फारूक हैदर खान सवार थे। उन्होंने एक शोकसभा में जाने के लिए पीओके के तरेरी से उड़ान भरी थी। पाकिस्तानी मीडिया को जारी अपने बयान में फारूक हैदर खान ने सोमवार को कहा कि उनका हेलिकॉप्टर नियंत्रण रेखा के नजदीक पहुंचा था। लेकिन यह पाकिस्तान की सीमा में ही थी। यह पाकिस्तानी सेना का नागरिक हेलिकॉप्टर था। इसे जीरो लाइन तक जाने की इजाजत होती है। भारतीय सेना को गोलीबारी करने की कोई जरूरत नहीं थी।

हालांकि, भारतीय सैन्य बलों का कहना है कि चेतावनी के बावजूद वह हेलिकॉप्टर भारतीय सीमा का अतिक्रमण कर उड़ता रहा और कार्रवाई किए जाने पर भागा। इसके जासूसी मिशन पर होने के शक के बाद यह कार्रवाई की गई। बताते चलें कि भारत और पाकिस्तान के बीच 1991 में एक समझौता हुआ था। इसके तहत नियंत्रण रेखा के दोनों ओर बफर जोन निर्धारित किया गया। नियमों के मुताबिक, हेलिकॉप्टर नियंत्रण रेखा के एक किलोमीटर और विमान सीमा के 10 किलोमीटर पास तक नहीं आ सकता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X