ताज़ा खबर
 

ठंडक बढ़ी, कम हुआ चिकनगुनिया का असर

बढ़ती ठंड के साथ ही राष्ट्रीय राजधानी में चिकनगुनिया का प्रकोप अब कम होता दिख रहा है।

Author नई दिल्ली | November 10, 2016 7:07 AM
चिकनगुनिया।

बढ़ती ठंड के साथ ही राष्ट्रीय राजधानी में चिकनगुनिया का प्रकोप अब कम होता दिख रहा है। पिछले हफ्ते इसके केवल 342 नए मामले आए हैं। इसके साथ ही इस साल में वेक्टर जनित रोग से पीड़ित लोगों की कुल संख्या 11,193 पहुंच गई है। दक्षिण दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) की ओर से सोमवार को जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि इस मौसम में पांच नवंबर तक 11,193 संदिग्ध मामले दर्ज किए गए। जिनमें से 8,938 मामलों की पुष्टि हुई है। शहर में 29 अक्तूबर तक चिकनगुनिया के कम से कम 10,851 संदिग्ध मामले सामने आए थे।

रिपोर्ट के मुताबिक इस मौसम में दिल्ली में पांच नवंबर तक डेंगू के कम से कम 3,778 मामले सामने आए थे। 29 अक्तूबर तक 3,650 मामले दर्ज किए गए थे। एसडीएमसी ने वेक्टर जनित रोगों के मामले सभी निकायों से एकत्र किए हैं। चिकनगुनिया के कुल मामलों में सबसे अधिक 735 मामले उत्तरी दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) में सामने आए हैं। जो तीनों निगमों में सर्वाधिक है। इस मौसम में एसडीएमसी में चिकनगुनिया के 649 मामलों की पुष्टि हुई है और ईडीएमसी में 361 मामलों की पुष्टि हुई है।

HOT DEALS
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 15590 MRP ₹ 17990 -13%
    ₹0 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 15220 MRP ₹ 17999 -15%
    ₹2000 Cashback

चिकनगुनिया से मौत नहीं होती, गूगल भी यही कहता है”: दिल्ली के स्वास्थय मंत्री सत्येंद्र जैन

तीनों निगमों के अधिकार क्षेत्र से बाहर के इलाकों में 3,475 मामले सामने आए हैं और अन्य राज्यों में 3,718 मामले सामने आए हैं। चिकनगुनिया से संबंधित जटिलताओं के कारण शहर के विभिन्न अस्पतालों में कम से कम 15 लोगों की मौत हुई है। हालांकि निकायों के मुताबिक चिकनगुनिया के कारण एक भी मौत नहीं हुई है। वैदिकग्राम की सीनियर डायटीशियन सलोनी सेठ का कहना है कि “ एक नियमित और स्वस्थ खान-पान हमारे इम्युनिटी को मजबूत बनाने में महत्वपूर्ण है | आने वाली सर्दी में लोगों को काफी परेशानी हो सकती है | अगर हम थोडी सी सावधानी रखें तोयह दिक्कते हमसे दूर ही रहेंगी | सर्दी में विटामिन सि का प्रयोग ज्यादा से ज्यादा करें जो की एन्टीएलर्जी एलिमेंट का काम करेगी|”

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App