ताज़ा खबर
 

लिव इन में रह रहे साथी से रेप के आरोपी को हाई कोर्ट ने दी जमानत, कहा- आरोप भरोसा करने लायक नहीं

अदालत ने आरोपी को हिदायत देते हुए यह स्पष्ट किया कि अगर उसने महिला को धमकी देने या सबूतों से छेड़छाड़ करने की कोशिश की तो उसकी जमानत रद्द की जा सकती है।

Author June 1, 2017 4:54 PM
साकेत कोर्ट ने अदालत के कर्मचारियों के लिए टाइम टेबल बनाया है। (संकेतात्मक तस्वीर)

दिल्ली में अपनी लिव इन साथी को नशीला पदार्थ खिलाकर उससे कथित बलात्कार करने के आरोपी व्यक्ति को दिल्ली उच्च न्यायालय ने यह कहकर जमानत की मंजूरी दे दी कि ये आरोप भरोसा करने योग्य नहीं है, क्योंकि यह युवक लंबे समय से साथ रह रहा था। न्यायमूर्ति आशुतोष कुमार ने 10,000 रुपये के मुचलके और इतनी ही राशि की दो जमानत राशि भरने की शर्त पर आरोपी व्यक्ति की जमानत अर्जी को मंजूरी दे दी। व्यक्ति पहले से ही शादीशुदा था। बहरहाल, अदालत ने आरोपी को हिदायत देते हुए यह स्पष्ट किया कि अगर उसने महिला को धमकी देने या सबूतों से छेड़छाड़ करने की कोशिश की तो उसकी जमानत रद्द की जा सकती है।

न्यायाधीश ने कहा, ‘‘इस आरोप पर भरोसा नहीं किया जा सकता, क्योंकि शिकायतकर्ता ने यह माना था कि वह याचिकाकर्ता (आरोपी) के साथ अलग अलग जगहों पर लंबे समय से रह रही थी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आरोप की प्रकृति एवं मामले में मौजूदा परिस्थितियों पर गौर करते हुए अदालत याचिकाकर्ता को जमानत देना चाहती है।’’

दक्षिण दिल्ली के बदरपुर पुलिस थाना में सितंबर 2016 में दर्ज प्राथमिकी के अनुसार आरोपी ने शिकायतकर्ता को कथित तौर पर नशीला पदार्थ मिला हुआ कोल्ड ड्रिंक दिया था, जिसे पीने के बाद वह बेहोश हो गयी थी। प्राथमिकी के अनुसार, महिला की स्थिति का फायदा उठाकर आरोपी ने उसके साथ बलात्कार किया और होश आने पर जब उसने भागने की कोशिश की तो आरोपी ने उसके आपत्तिजनक वीडियो और तस्वीरें दिखाकर उसे धमकी दी। प्राथमिकी के अनुसार यह कथित घटना 18 सितंबर 2014 को हुई थी।

अपने वकील रोहित पी रंजन के माध्यम से अपने लिये जमानत की मांग करते हुए आरोपी ने ऐसे किसी भी आरोपों से इनकार किया और दावा किया कि महिला ने गलत इरादे से उसे फंसाया है और इसके बदले वह उससे पैसा ऐंठना चाहती है।

देखिए वीडियो - हैदराबाद: दोस्त से पत्नी का रेप करवाने वाले NRI को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App