ताज़ा खबर
 

दिल्ली: जर्मन सैलानी के साथ लूटपाट, चाकू से किया घायल

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक से पूरे घटनाक्रम व कार्रवाई संबंधी रिपोर्ट तलब की है।

Author नई दिल्ली | April 9, 2017 1:57 AM
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्‍मक तौर पर किया गया है। (Source: Agency)

लालकिले के पीछे जर्मनी के नागरिक को शुक्रवार देर रात लूट लिया गया। लूटपाट के दौरान विरोध करने पर बदमाशों ने उसे चाकू से घायल कर दिया। शोर मचाने और विरोध करने के बाद बदमाश अपना रिक्शा छोड़कर भाग खड़े हुए। पुलिस ने घायल बेंजामिन को अस्पताल में भर्ती कराने के बाद मामले की जांच शुरू कर दी है। पुलिस का दावा है कि आरोपी रिक्शाचालक की पहचान हो गई है। उधर, मामले को गंभीरता से लेते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक से पूरे घटनाक्रम व कार्रवाई संबंधी रिपोर्ट तलब की है। बताया जा रहा है कि जर्मनी का रहने वाला 19 साल का बेंजामिन, 12 मार्च को टूरिस्ट वीजा पर भारत घूमने आया था। शुक्रवार रात करीब साढ़े दस बजे वह चांदनी चौक पहुंचा था। वहां से वह रिक्शे में बैठकर कश्मीरी गेट के लिए निकला था। उसे कश्मीरी गेट से अमृतसर जाने के लिए बस पकड़नी थी। रास्ते में रिक्शा चालक ने अपने एक साथी को भी बैठा लिया। रिक्शा चालक जब उसे गीता कालोनी फ्लाइओवर की तरफ सर्विस लेन में सुनसान जगह खादर की तरफ ले जाने लगा तब उसे संदेह हुआ। जब उसने कारण पूछा तब दोनों आरोपियों ने चाकू दिखाकर उसके पर्स व मोबाइल लूट लिए। पहले तो डर कर उसने अपना सामान दे दिया फिर दोनों को दबोचकर शोर मचाना शुरू कर किया। शोर मचाने व विरोध जताने पर लुटेरों ने बेंजामिन के चेहरे व कंधे पर चाकू से हमला कर दिया। पास से गुजर रहे एक व्यक्ति ने उसे खून से लथपथ देखा तो पुलिस को फोन कर उसे अस्पताल पहुंचा दिया। बेंजामिन के पर्स में आठ हजार रुपए थे। जिस जगह पर वारदात हुई वहां अंधेरा रहता है। वहां सीसीटीवी कैमरे भी नहीं लगे हैं।

घटनास्थल से करीब 300 मीटर दूर पिकेट लगाकर पुलिस जांच कर रही थी। लेकिन उसे वारदात की भनक तक नहीं लगी। पुलिस के मुताबिक, बेंजामिन ने दोनों लुटेरों के साथ कड़ा मुकाबला किया। वे मार्शल आर्ट प्रशिक्षित हैं। चाकुओं से लैस दोनों लुटेरों ने उनसे पर्स व मोबाइल लूटने के बाद चाकुओं से वार कर डराने की कोशिश की। लेकिन मार्शल आर्ट में पारंगत इस युवक ने अकेले दोनों की धुनाई कर दी। इससे लुटेरे घबरा गए और रिक्शे को वहीं छोड़कर फरार हो गए। रिक्शे के जरिए पुलिस ने एक आरोपी की पहचान कर ली है। उसका नाम रिजवान है और वह उत्तर प्रदेश के पीलीभीत का रहने वाला है। वह पांच साल से दिल्ली में रह रहा है और रिक्शा चलाता है। वह टूटी-फूटी अंग्रेजी भी बोल लेता है। दूसरा बदमाश उसी का साथी बताया जा रहा है। बेंजामिन को पहले पास के एक अस्पताल में भर्ती कराया जहां से सुश्रूत ट्रामा सेंटर में भेज दिया गया है। दिल्ली पुलिस ने जर्मन दूतावास के जरिए पीड़ित के परिजनों को भी घटना की जानकारी दे दी है। बेंजामिन ने कहा है कि देर रात लुटेरों के वार से लहुलूहान होने पर किसी कार सवार ने ही उसे तुरंत अपनी कार में बैठा पूर्वी दिल्ली के कड़कड़डूमा स्थित डॉक्टर हैडगेवार अस्पताल में भर्ती कराया था।

 

 

चुनाव आयोग ने किसी भी तरह के एग्जिट पोल पर लगाया बैन; मीडिया से कहा- "ज्योतिषी के माध्यम से न करें चुनावी भविष्यवाणी"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App