Finance Minister Manish Sisodia Facebook Live on GST blocks by Directorate of Information & Publicity - Jansatta
ताज़ा खबर
 

GST पर मनीष सिसोदिया करना चाहते थे फेसबुक लाइव, विभाग ने कहा- लगेगा एक महीने का टाइम

DIP ने कहा कि उनके पास इस तरह के सोशल मीडिया कैंपेन को करने के लिए तकनीकि क्षमता की कमी है।

Author June 2, 2017 8:09 AM
दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया। (PTI PHOTO)

दिल्ली सरकार में वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने जीएसटी काउंसिल मीटिंग से पहले एक फेसबुक लाइव इवेंट करने की योजना बनाई थी। लेकिन सूचना एवं प्रचार निदेशालय (DIP) ने उनके इस प्लान पर पानी फेर दिया। आम आदमी पार्टी ने गुरुवार 1 जून को फेसबुक लाइव करने की योजना बनाई थी। लेकिन सूचना एवं प्रचार निदेशालय (DIP) ने दावा किया कि इस इवेंट को करने के लिए सिसोदिया को एक ‘ओपन टेंडर’ चाहिए होगा। DIP ने कहा कि उनके पास इस तरह के सोशल मीडिया कैंपेन को करने के लिए तकनीकि क्षमता की कमी है।

मनीष सिसोदिया ने DIP अधिकारियों की बात पर हैरानी जताते हुए मुख्य सचिव को इस बारे में अवगत कराया। सिसोदिया ने कहा कि दूसरा फेसबुक लाइव इवेंट 5 जून को होना है, अगर वह नहीं हो पाता तो DIP ऑफिसर्स की छुट्टी कर दी जाएगी। दिल्ली सरकार ने बुधवार को विधानसभा में जीएसटी बिल पास किया है। मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि इसके लिए सरकार के मंत्रियों ने कम से कम 32 व्यापारी संगठनों से मुलाकात की थी, वहीं फेसबुक लाइव के जरिए आम लोगों और छोटे व्यापारियों की राय लेने की योजना थी। जीएसटी पर चर्चा के लिए केंद्र सरकार ने तीन जून को सभी राज्यों के वित्त मंत्रियों की बैठक बुलाई है। इससे पहले मनीष सिसोदिया दिल्ली की जनता से भी सोशल मीडिया पर फेसबुक लाइव के जरिये संवाद करना चाहते थे।

मनीष सिसोदिया ने 26 मई को पहला और 30 मई को दूसरा लेटर DIP को लिखा था। सूत्र ने कहा, “दोनों की लेटर में वित्त मंत्री ने निदेशालय को इस इवेंट के बारे में बताया था और इसे 3 जून को होने वाली जीएसटी काउंसिल मीटिंग से पहले कराने के निर्देश दिए थे।” दूसरे पत्र के जवाब में DIP के सीनियर अधिकारी ने लिखा, “यह अवगत कराया जाता है कि DIP के पास इस इवेंट के लिए कोई विशेष एजेंसी नहीं है।” सीनियर अधिकारी ने आगे लिखा कि डीआइपी तकनीकी रुप से इतना सक्षम नहीं है कि इस तरह के सोशल मीडिया कैंपेन का आयोजन कर सके। फिर भी सरकार चाहती है तो इसके लिए कम से कम एक महीने का समय लगेगा।

मोदी के नोटबंदी का असर, 7.1% रही सालाना विकास दर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App