ताज़ा खबर
 

IP यूनिवर्सिटी की फीस पर AAP सरकार का यूटर्न, केजरी के फैसले छात्रों के चेहरे पर खुशी की झलक

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) की अगुआई में छात्रों ने गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय की फीस वृद्धि के खिलाफ रविवार को मुख्यमंत्री के आवास पर विरोध प्रदर्शन किया।

Author नई दिल्ली | Published on: March 7, 2016 2:21 AM
CM अरविंद केजरीवाल

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) की अगुआई में छात्रों ने गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय की फीस वृद्धि के खिलाफ रविवार को मुख्यमंत्री के आवास पर विरोध प्रदर्शन किया। विश्वविद्यालय से जुड़े कॉलेजों में फीस बढ़ोतरी को लेकर छात्रों के आंदोलन को देखते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि बढ़ोतरी को वापस लिया जाएगा।

इससे एक दिन पहले सरकार ने इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय की फीस में भारी मात्रा में बढ़ोतरी करने का फैसला किया था। साथ ही पिछले दो सालों की बढ़ी हुई फीस लेने का भी फैसला लिया गया था। इस फैसले के कारण गरीब छात्रों पर अत्यधिक आर्थिक दबाव आ गया था। फैसले से नाराज छात्रों ने बड़ी संख्या में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर विरोध प्रदर्शन किया।

प्रदर्शन के तुरंत बाद केजरीवाल ने ट्वीट कर दो दिनों के अंदर फीस वृद्धि के निर्णय को वापस लेने का भरोसा दिया। उन्होंने ट्वीट किया, ‘मालूम हुआ है कि आइपी विश्वविद्यालय के कॉलेजों की फीस में भारी इजाफा कर दिया गया है। छात्रों ने आंदोलन किया। मेरे प्रिय छात्रों, कृपया चिंता न करें। मैंने शिक्षा विभाग से इसे वापस लेने को कहा है। अच्छे से पढ़ाई कीजिए। परीक्षाओं के लिए शुभकामनाएं।’

इस हफ्ते के शुरू में आइपीयू के कॉलेजों में छात्रों ने प्रदर्शन किया था। उन्होंने फीस ढांचे में पूर्व प्रभाव से करीब 24 फीसद की भारी बढ़ोतरी को लेकर असहमति जाहिर की थी।

विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने फीस वृद्धि की वापसी को छात्रों और अभिभावकों की जीत बताया। उन्होंने कहा कि दिल्ली की जनविरोधी सरकार ने तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने वाले लाखों छात्रों से लगभग 600 करोड़ रुपया वसूलकर प्राइवेट कॉलेजों की तिजोरी भरने की साजिश रची थी। भाजपा ने समय रहते ही इसकी पहचान ली और पत्रकार वार्ता करके सरकार की इस साजिश के खिलाफ आंदोलन करने की घोषणा की।
इससे घबराकर मुख्यमंत्री ने रात में ही पलटी मारी और सुबह होते ही यह फैसला रद्द कर दिया ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
जस्‍ट नाउ
X