ताज़ा खबर
 

परिवार का आरोप, गुमशुदगी की रिपोर्ट तक दर्ज नहीं की

पीड़िता की बुआ ने बताया कि बच्ची दूसरे दिन भी डरी सहमी थी। पहले तो वह तरह-तरह की कहानी बनाती रही, लेकिन जब परिजनों ने कहा कि उसके साथ कुछ गलत तो नहीं हुआ है तो वह डर गई।

crime, crime news, rapeपरिजन लड़की की तलाश में इधर-उधर भटकते रहे। प्रतीकात्मक तस्वीर।

निर्भय कुमार पांडेय

सरिता विहार थाना क्षेत्र में जिस लड़की से सामूहिक बलात्कार हुआ उसके परिवार का आरोप है कि यदि पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर युवती की तलाश करती तो शायद यह वारदात नहीं होती। पर पुलिस ने पीड़ित परिजनों की बात को अनसुना कर दिया। आरोपी ने जिस स्थान से लड़की का अपहरण किया था। वहां अकसर दोपहर के समय सुनसान रहता है। आरोपी ने एक बजे दोपहर में लड़की का अपहरण किया था। वहीं, परिजन लड़की की तलाश में इधर-उधर भटकते रहे। परिजन उन सभी जानकारों के घर जाकर और रिश्तेदारों से फोन कर पीड़िता के बारे में जानकारी लेते रहे। पर पीड़िता के बारे में कुछ पता नहीं चला। 24 घंटे बाद पीड़िता स्कूल से खुद ही घर लौटी। इस बीच पुलिस ने एक बार भी यह पता लगाने की कोशिश नहीं की कि लड़की कहां है और उसके साथ कुछ अनहोनी तो नहीं हो गई है।

पीड़िता की बुआ ने बताया कि बच्ची दूसरे दिन भी डरी सहमी थी। पहले तो वह तरह-तरह की कहानी बनाती रही, लेकिन जब परिजनों ने कहा कि उसके साथ कुछ गलत तो नहीं हुआ है तो वह डर गई। इसी बीच उसकी तबीयत भी खराब हो गई। फिर उसने सारी बात परिजनों को बताई। पीड़िता ने बताया कि गांव के ही लड़के ने उसका अपहरण कर लिया था और एक कमरे में बंद कर उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया। उसने बताया कि सुबह जब उसे होश आया तो उसके शरीर पर कपड़े नहीं थे। उसने कपड़े पहने और एक सहेली के घर चली गई। वहां से सहेली के कपड़े पहन कर स्कूल चली गई। अब छुट्टी होने के बाद वह घर लौटी है। पुलिस ने मामला के तूल पकड़ने के दो दिन बाद भले ही मामला दर्ज कर एक आरोपी को पकड़ लिया है। पर पूरा परिवार डरा सहमा है। परिजनों का आरोप है कि उन पर मुकदमा वापस लेने का दवाब बनाया जा रहा है। साथ ही पीड़ित परिवार को तरह-तरह का प्रलोभन भी दिया जा रहा है।

दिल्ली सरकार ने की आर्थिक मदद
वारदात की सूचना मिलने पर शनिवार को स्थानीय विधायक अमानतुल्ला खान पीड़ित परिवार से मिलने के लिए पहुंचे और दो लाख रुपए की आर्थिक मदद की। उन्होंने परिवार को दो लाख रुपए का चेक दिया। उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार के साथ दिल्ली सरकार खड़ी है। वह सरकार की ओर से वकील का खर्च उठाने को तैयार है। आरोपियों को किसी भी कीमत पर नहीं बख्शा जाएगा।

Next Stories
1 बिल्डरों सा बर्ताव कर रही सरकार
2 चुनाव में सभी उम्मीदवारों को आवेदन का मौका देगी भाजपा
3 संपत्ति को लेकर अपने पिता पर भी कर रखा है मुकदमा
यह पढ़ा क्या?
X