ताज़ा खबर
 

फर्जी भारतीय पासपोर्ट दिलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़

राजधानी में पांच लोगों की गिरफ्तारी के साथ दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को एक अंतरराष्ट्रीय गिरोह का भंडाफोड़ करने का दावा किया जो कथित तौर पर रोहिंग्या शरणार्थियों और बांग्लादेशी नागरिकों को भारतीय पासपोर्ट और खाड़ी देशों के लिए वीजा दिलाता था।
Author नई दिल्ली | January 17, 2016 02:05 am

राजधानी में पांच लोगों की गिरफ्तारी के साथ दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को एक अंतरराष्ट्रीय गिरोह का भंडाफोड़ करने का दावा किया जो कथित तौर पर रोहिंग्या शरणार्थियों और बांग्लादेशी नागरिकों को भारतीय पासपोर्ट और खाड़ी देशों के लिए वीजा दिलाता था।

पुलिस उपायुक्त (आइजीआइ हवाई अड्डा) डीके गुप्ता ने कहा कि बांग्लादेशी नागरिक शौकत अली (39) की अगुआई में चल रहा गिरोह दक्षिण दिल्ली से गतिविधियां चला रहा था और उसके तीन मॉड्यूल सक्रिय थे जिनमें एक दिल्ली में और दो अन्य हैदराबाद व कोलकाता में थे। पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार लोगों की पहचान शौकत अली, एक और बांग्लादेशी नागरिक सुलेमान और उनके साथियों सद्दाम हुसैन, इब्न सुल्तान व अमित बोध झा के तौर पर की गई है।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि इस गिरोह के एक सक्रिय सदस्य और सरगना के करीबी साथी नूर-उल-हक ने आतंकवादियों को भारतीय पासपोर्ट और पश्चिम एशियाई देशों के लिए वीजा दिलाए थे और हैदराबाद पुलिस ने उसे हाल ही में गिरफ्तार किया था। उन्होंने बताया कि अली के एक और साथी मोहम्मद हाफिज को पिछले महीने कोलकाता पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक कि पासपोर्ट हासिल करने के बाद वे सऊदी अरब दूतावास से उनके मुवक्किलों के लिए फर्जी पासपोर्टों पर कई बार प्रवेश वाले वीजा हासिल करते थे। पुलिस के मुताबिक जांच में पता चला कि बांग्लादेश में गिरोह के सूत्र कथित तौर पर आवेदकों की तस्वीरें, नाम और अन्य जरूरी जानकारी अली को भेजते थे, जिसका दिल्ली के सरायकाले खान इलाके में मच्छरदानी बनाने का धंधा था। वह इन चीजों को अपने साथी नूर मोहम्मद और इमाम चौधरी को भेज देता था जो कोलकाता में रहकर पासपोर्ट आदि का काम करता था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.