ताज़ा खबर
 

वीडियो: दिल्‍ली विधानसभा में कपिल मिश्रा की पिटाई, AAP विधायकों ने दबोच लिया गला

फुटेज में साफ दिख रहा है कि दर्जन भर विधायक कपिल मिश्रा को पकड़ कर पीट रहे हैं।
दिल्‍ली विधानसभा में कपिल मिश्रा को आप विधायकों ने दबोच लिया। (Source: ANI)

दिल्‍ली विधानसभा में बुधवार को एक शर्मनाक वाकया सामने आया। आम आदमी पार्टी के विधायकों ने दिल्‍ली सरकार के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा के साथ हाथापाई की। विधायकों ने मिश्रा को घेरकर उनका गला दबाने की कोशिश की। फुटेज में साफ दिख रहा है कि दर्जन भर विधायक कपिल मिश्रा को पकड़ कर पीट रहे हैं। हंगामे के बाद कपिल मिश्रा को मार्शलों ने सदन से बाहर किया। कपिल ने बाहर आकर मीडियाकर्मियों से कहा, ”मैंने अरविंद केजरीवाल के भ्रष्‍टाचार के खिलाफ दिल्‍ली विधानसभा के स्‍पीकर को पत्र लिखा था। मुझे सदन में बोलने नहीं दिया, इसलिए मैंने रामलीला मैदान पर एक विशेष सत्र बुलाए जाने की मांग की। मैं इंतजार कर रहा था कि मुझे बोलने का मौका मिलेगा। सीट से आगे बढ़ते ही चार या पांच विधायकों ने ने मेरे साथ मारपीट शुरू कर दी। मदन लाल थे, जरनैल सिंह थे। ये पहली बार हुआ होगा कि सदन के अंदर विधायक किसी को मारना-पीटना शुरू कर दें। ये सारे सबूत अब मैं तीन तारीख को कांस्‍टीट्यूशन क्‍लब में जनता के सामने रखूंगा। अरविंद केजरीवाल सदन में हंस रहे थे। जब मार्शल मुझे लेकर जा रहे थे, तो पीछे से कुछ ने लातें मारी।”

अरविंद केजरीवाल पर हमलावर होते हुए कपिल ने कहा, ”अरविंद केजरीवाल और सत्‍येन्‍द्र जैन, तुम्‍हारा भ्रष्‍टाचार खुल चुका है। असीम अहमद खान को एक मिनट की क्लिप पर हटाने वाले केजरीवाल, आज तुम्‍हारे संगे संबंधियों पर छापे पड़ रहे हैं। तुम्‍हारा हवाला खुल गया है। आज सत्‍येन्‍द्र जैन की बेनामी प्रॉपर्टी के, बेटी को पद देने के, 300 करोड़ की दवाई घोटाले के कागज सामने पड़े हैं। और इनको हंसी आ रही है। इनको न दिल्‍ली की जनता माफ करेगी और कपिल मिश्रा तो छोड़ने नहीं वाला, कितने गुंडे भेज दो, तुम्‍हारे सारे राज पर्दाफाश करूंगा।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Umrao Singh
    Jun 1, 2017 at 6:17 am
    बड़े साहब के तीन वर्ष में 1100 करोड़ मीडिया को, पूरे देशभर में सरकार के तीन वर्ष पूर्ण होने पर जश्न 1800 करोड़ प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को, 2000 करोड़ गंगा सफाई पर डकार गए फिर भी इमानदार, कहां है वो लोकपाल जो इमानदार होने का सर्टिफिकेट देता तुम्हे?
    (0)(0)
    Reply