ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी के वन नेशन-वन इलेक्शन का चुनाव आयोग ने निकाला बीच का रास्ता, ये है प्लान बी

इसमें चुनाव आयोग ने एक साथ चुनाव कराने के अपने समर्थन को दोहराया है। बशर्ते कानूनी और वित्तीय चुनौतियों से निजात दिलाई जाए। पत्र में यह भी वैकल्पिक रूप से सुझाव दिया गया है कि एक वर्ष में होने वाले सभी चुनाव एक साथ आयोजित किए जा सकते हैं।

Goa Assembly polls, Goa Assembly polls 2017, Goa Assembly polls News, Goa Assembly polls latest news, Goa matka gambling, EC Goa Pollsभारतीय चुनाव आयोग

चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुझाव ‘वन नेशन-वन इलेक्शन’ के बदले में बीच का रास्ता निकाला है। आयोग ने इसके बदले में ‘एक साल-एक चुवाव’ का सुझाव दिया है। दरअसल चुनाव आयोग ने 24 अप्रैल को लॉ कमिशन के एक पत्र के जवाब में इस विचार को जारी किया है, जिसमें लोकसभा चुनावों के साथ सभी राज्यों के चुनाव साथ कारने की मांग की गई थी। पत्र में लॉ कमिशन ने चुनाव आयोग से पांच संवैधानिक मुद्दों के अलावा 15 सामाजिक राजनीतिक, आर्थिक मुद्दों राय मांगी थी। इसमें चुनाव आयोग ने एक साथ चुनाव कराने के अपने समर्थन को दोहराया है। बशर्ते कानूनी और वित्तीय चुनौतियों से निजात दिलाई जाए। पत्र में यह भी वैकल्पिक रूप से सुझाव दिया गया है कि एक वर्ष में होने वाले सभी चुनाव एक साथ आयोजित किए जा सकते हैं।

वर्तमान में चुनाव आयोग उन राज्यों में चुनाव एक साथ कराता है जहां विधानसभा का कार्यकाल एक दूसरे के कुछ महीने के भीतर समाप्त होता है। ऐसा इसलिए हैं क्योंकि जन प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 15 के तहत किसी राज्य की विधानसभा की अवधि समाप्त होने से छह महीने पहले चुनाव कराने को यह प्रतिबंधित करता है। हालांकि पिछले साल सात राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में इस नियम की समाप्ती हुई। चुनाव आयोग को पांच राज्यों (पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मणिपुर, गोवा) के लिए एक बार बाकी दो राज्यों (गुजरात, हिमाचल प्रदेश) के लिए चुनाव कराने पड़े। ऐसा इसलिए है क्योंकि पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा विधानसभा का कार्यकाल शुरुआत में समाप्त हुआ और गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा का टर्म की इसी साल बाद में समाप्त हुई।

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक ‘एक साल एक चुनाव’ कराना आसान होगा क्योंकि इसके साथ कई कानूनी संशोधनों की आवश्यकता नहीं होती है। चुनाव आयोग के पूर्व लीगल एडवाइजर एसके मेंदीरत्ता ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि ‘एक साल एक चुनाव’ आरपी एक्ट 1951 की धारा 15 में संशोधन कर निष्पादित किया जा सकता है। इस संशोधन से छह महीने की अवधि 9 या दस महीने तक बढ़ दी जाए तो एक साल के भीतर होने वाले चुनाव एक साथ कराए जा सकते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 केजरीवाल बोले- हम बेईमान राजनीति बदलने आए हैं तो लोगों ने कहा- साढ़ू के बेटे क्या चैरिटी कर रहे थे
2 राजग के चार साल, कांग्रेस मनाएगी विश्वासघात दिवस
3 एनएमआरसी और डीएमआरसी की मेट्रो लाइन दिसंबर में जुड़ेंगी, लाखों मुसाफिरों को मिलेगी बड़ी राहत
ये पढ़ा क्या?
X