ताज़ा खबर
 

चोकसी के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस के लिए फिर भेजा पत्र

पंजाब नेशनल बैंक में 13,600 करोड़ रुपए से अधिक के साखपत्र घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोमवार को भगोड़ा घोषित कारोबारी मेहुल चोकसी के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी करने के बारे में इंटरपोल को दूसरा रिमाइंडर भेजा है।

Author नई दिल्ली, 10 सितंबर। | September 11, 2018 2:57 AM
भारतीय एजंसियों ने उसके खिलाफ मजबूत मामला बनाया है। चोकसी द्वारा वकील के मार्फत आपत्ति दर्ज कराए जाने के बाद इंटरपोल ने उसके खिलाफ रेड कार्नर नोटिस के अनुरोध पर कार्यवाही रोक रखी है।

पंजाब नेशनल बैंक में 13,600 करोड़ रुपए से अधिक के साखपत्र घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोमवार को भगोड़ा घोषित कारोबारी मेहुल चोकसी के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी करने के बारे में इंटरपोल को दूसरा रिमाइंडर भेजा है। इस मामले में मुंबई की विशेष अदालत में ईडी ने चोकसी के खिलाफ जून में आरोपपत्र दाखिल किया था। अदालत से उसकी गिफ्तारी का वारंट जारी किया गया। फिर चोकसी को भगोड़ा घोषित करने की अदालती प्रक्रिया पूरी किए जाने के बाद उसके बारे में इंटरपोल को विस्तृत जानकारी भेजी गई। चोकसी के खिलाफ इंटरपोल का नोटिस जारी करने के लिए भारत के अनुरोध का विषय अगले महीने इंटरपोल की आंतरिक समिति द्वारा उठाए जाने की उम्मीद है।

भारतीय एजंसियों ने उसके खिलाफ मजबूत मामला बनाया है। चोकसी द्वारा वकील के मार्फत आपत्ति दर्ज कराए जाने के बाद इंटरपोल ने उसके खिलाफ रेड कार्नर नोटिस के अनुरोध पर कार्यवाही रोक रखी है। चोकसी ने आरोप लगाया था कि उसके खिलाफ मामले राजनीतिक साजिश का नतीजा है। इंटरपोल के पास चोकसी ने भारत में जेल में मौजूद परिस्थितियों, अपनी सुरक्षा और स्वास्थ्य सहित अन्य चीजों के बारे में भी सवाल उठाया था। चोकसी हीरा कारोबारी है और वह पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी का मामा है। ईडी के अधिकारियों के मुताबिक, इंटरपोल ने फिर चोकसी के खिलाफ दर्ज आपराधिक मामले (धन शोधन रोकथाम कानून के तहत) के बारे में और अधिक जानकारी मंगाई थी। इसका जवाब दे दिया गया। लेकिन उसके खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी नहीं किया गया। अब ईडी ने भारत में इंटरपोल के राष्ट्रीय केंद्रीय ब्यूरो (एनसीबी) के मार्फत ध्यान आर्किषत करने को लेकर दूसरा पत्र (रिमाइंडर) भेजा गया है।

ईडी और सीबीआइ, दोनों ही केंद्रीय एजंसियां मामले की जांच कर रही है। अधिकारियों ने बताया कि चोकसी की दुनिया में कहीं भी गिरफ्तारी को लेकर वारंट के लिए भारत का अनुरोध एंटीगुआ को एक प्रत्यर्पण अनुरोध भेजे जाने के साथ होगा। वह अब इसी कैरीबियाई देश का नागरिक है। भारत सरकार ने हाल में जांच अधिकारियों व विदेश मंत्रालय के अफसरों की एक टीम को एंटीगुआ भेजा था और उसके प्रत्यर्पण को लेकर वहां से आश्वासन मिला है। चोकसी के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी होने के बाद प्रत्यर्पण की प्रक्रिया आसान हो जाएगी। किसी भगोड़े के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी हो जाने के बाद इंटरपोल अपने 192 सदस्य देशों से उस व्यक्ति को अपनी सरजमीं में पाए जाने पर हिरासत में लेने को कहता है। इसके बाद प्रत्यर्पण या उसकी स्वदेश वापसी की कार्यवाही शुरू की जा सकती है। इंटरपोल ने अब तक इस तरह के नोटिस नीरव मोदी, उसके भाई नीशाल, बहन पुरवी, उसके अधिकारी सुभाष परब और मिहिर आर भंसाली के खिलाफ जारी किए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App