du university more then 13 thousand admission come in a extra day - Jansatta
ताज़ा खबर
 

दिल्ली विश्वविद्यालय: एक और दिन का मिला मौका, आए साढ़े तेरह हजार आवेदन

अंतिम तौर पर दाखिले की जंग में इस साल कुल 221309 छात्र मैदान में हैं। लड़ाई ‘एक सीट बनाम चार छात्र’ (1:4) के बीच है।

Author नई दिल्ली | June 14, 2017 3:02 AM
दिल्ली विश्वविद्यालय।

आवेदन की समय सीमा मंगलवार की शाम खत्म होने के साथ ही दिल्ली विश्वविद्यालय में मेरिट आधारित स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रमों में दाखिले की तस्वीर साफ हो गई। विश्वविद्यालय की ओर सेआॅनलाइन आवेदन स्वीकार करने की सीमा केवल एक दिन बढ़ाने से ही इस दौड़ में 13500 से ज्यादा वैसे बच्चे शामिल हो सके जो समय सीमा न बढ़ने से वंचित रह जाते। इनमें 10 हजार से ज्यादा छात्र वे हैं जिन्होंने मंगलवार को ही आवेदन किया है। विश्वविद्यालय प्रशासन ने केवल एक दिन ही क्यों बढ़ाया? आॅनलाइन के इस दौर में सर्वर पर आ रहे आवेदनों के दबाव को जांचने की कोई विधि या पद्धति है? इस पर प्रशासन के एक अधिकारी ने कहा कि ऐसा कुछ नहीं है। रजिस्ट्रार के कहने पर एक दिन बढ़ाने का फैसला किया गया।  डीन छात्र कल्याण के एक अधिकारी ने कहा कि अंतिम तारीख, प्रक्रिया की शुरुआत से ही घोषित है। एक दिन बढ़ाने का फैसला तो अतिरिक्त अवसर के रूप में देखा जाना चाहिए। समयबद्धता और अनुशासन तो छात्र का पहला गुण होना चाहिए। बहरहाल एक दिन का अतिरिक्त समय मिलने से 13558 नए छात्र दाखिले की दौड़ में शामिल हो गए। अंतिम तौर पर दाखिले की जंग में इस साल कुल 221309 छात्र मैदान में हैं। लड़ाई ‘एक सीट बनाम चार छात्र’ (1:4) के बीच है।

इस साल कई रोचक तथ्य सामने आए हैं। मसलन देश के राष्ट्रीय खेल (हॉकी) के कोटे में छात्रों का टोटा है। इतना ही नहीं देश में पूरे साल चर्चा में रहने वाले क्रिकेट और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्राथमिकता वाले ‘योग’ श्रेणी में भी बहुत कम आवेदन हैं। राज्यों के हिसाब से डीयू में सबसे ज्यादा दिल्ली के छात्र दाखिला चाहते हैं। दिल्ली के करीब सवा लाख छात्रों ने आवेदन किया है। दूसरा स्थान उतर प्रदेश के छात्रों का है। हरियाणा तीसरे और बिहार चौथे स्थान पर है। चौंकाने वाले तथ्य यह हैं कि जिस विश्वविद्यालय में कटआॅफ सौ फीसद तक जाती हो, वहां इस बार डेढ़ हजार से ज्यादा उन छात्रों ने दाखिले का आवेदन किया है जो फेल (कंपार्टमेंट) हैं। आंकड़ों के मुताबिक, 1697 छात्रों ने आवेदन में यह बताया है कि कंपार्टमेंट आया है। मतलब उन्हें दोबारा परीक्षा देनी है। इतना ही नहीं, दिल्ली विश्वविद्यालय में इस बार ढाई हजार ऐसे छात्रों ने आवेदन किया है जिन्होंने पांच साल पहले 12वीं कक्षा पास की थी, जबकि बेस्ट फोर के आकलन में उन्हें गैप इयर का नुकसान उठाना पड़ेगा। बादजूद इसके वे सौ फीसद कटआॅफ वाले डीयू के दंगल में मौजूद हैं।
दाखिले से जुड़े विशेष कार्य अधिकारी आशुतोष भारद्वाज के मुताबिक, इस बार कुल 330567 छात्रों ने पंजीकरण कराया। 221309 छात्र फीस भरकर मैदान में हैं। इनमें 86 छात्र उभयलिंगी है। इस बार करीब 1100 कश्मीरी विस्थापितों ने भी डीयू में दाखिला चाहा है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App