ताज़ा खबर
 

दिल्ली: पांच दिन बाद खत्म हुई डॉक्टरों की हड़ताल

दिल्ली के किसी न किसी अस्पताल में डॉक्टर पीट दिए जाते हैं। सुरक्षा बढ़ाए जाने की दरकार है।

Author नई दिल्ली | April 9, 2017 1:52 AM
दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल के साथ अन्य अस्पतालों में चल रही हड़ताल पांच दिन बाद खत्म हो गई।(PTI)

दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल के साथ अन्य अस्पतालों में चल रही हड़ताल पांच दिन बाद खत्म हो गई। यह हड़ताल दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ शुक्रवार देर रात तक चली बातचीत के बाद खत्म हुई है। डीडीयू रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष ने बताया कि स्वास्थ्य अधिकारियों ने हमारी सभी मांगें पूरी करने का भरोसा दिया और कहा है कि वे इस पर जल्दी ही काम शुरू कर देंगे। दिल्ली के दीन दयाल उपाध्याय (डीडीयू) अस्पताल में मरीज के तीमारदारों, डॉक्टरों व सुरक्षाकर्मियों के बीच हुई मारपीट के बाद शुरू हुई हड़ताल समाप्त करने की घोषणा करते हुए डीडीयू आरडीए अध्यक्ष डॉक्टर सुमित पारिया ने कहा कि स्वास्थ्य अधिकारी ने संसाधन बढ़ाने व बार-बार डॉक्टरों पर होने वाले हमले रोकने के लिजाह से स्थाई समाधान करने की हमारी मांग पर जल्दी काम करने का आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में जरूरी संसाधनों की भारी कमी है जिसके कारण आए दिन डॉक्टरों व मरीजों को परेशानी उठानी पड़ती है।

जिसके कारण दिल्ली के किसी न किसी अस्पताल में डॉक्टर पीट दिए जाते हैं। सुरक्षा बढ़ाए जाने की दरकार है। पिछले सोमवार को जब डॉक्टरों व तीमारदारों मे मारपीट हो रही थी तो बचाव में लगे सुरक्षाकर्मियों तक को तीमारदारों ने पीट दिया। मारपीट की हिंसक घटना का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है महिला डॉक्टरों ने खुद को शौचालय में बंद कर लिया ताकि वे लोगों के गुस्से से बच सकें। जब तक गुस्साए परिजनों का जमावड़ा वहां लगा रहा व हंगामा होता रहा वे वहीं कैद रहीं। इस लए अब और नहीं। इसे किसी तरह भी हल करना सरकार की जिम्मेदारी है। अभी तो सरकारी नुमाइंदों ने हामी भर ली है तो हम हड़ताल खत्म कर रहे हैं। लेकिन अगर इन वादों पर अमल नहीं हुआ तो आंदोलन फि र से हो सकता है। उधर, एम्स आरडीए ने भी मांग की है कि डीडीयू के प्रतिनिधियों से किए वादे पर सरकार जल्दी अमल करे। अगर सुनावाई नहीं होती है तो इनके समर्थन में एम्स के डॉक्टर भी हड़ताल पर चले जाएंगे। डीडीयू से समर्थन पर हड़ताल में शामिल संजय गांधी, आचार्य भिक्षु, राव तुलाराम अस्पातल, महर्षि वाल्मीकि, हेडगेवार, आंबेडकर और तमाम अन्य अस्पतालों के डॉक्टर भी काम पर लौट आए हैं। हड़ताल के कारण कई मरीजों के आॅपरेशन टल गए हैं। उम्मीद है कि सोमवार से अस्पतालों में कामकाज सामान्य हो जाएगा और इलाज की गाड़ी पटरी पर लौट आएगी।

राम जेठमलानी देश के सबसे महंगे वकील; जानिए दिल्ली के अन्य वकील कितनी लेते हैं फीस

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App