ताज़ा खबर
 

उम्र 14 साल और वजन 237 किलो! 2 मिनट से ज्यादा खड़ा नहीं रह पाता था, स्कूल छोड़ना पड़ा, अब हुई सर्जरी

हिर का जन्म नवंबर 2003 में हुआ था। जन्म के वक्त उसका वजन 2.5 किलो था। लेकिन पांच साल की उम्र में ही मिहिर का वजन 60-70 किलो तक पहुंच गया। वजन ज्यादा होने की वजह से मिहिर को चलने और बैठने में काफी परेशानी होने लगी, जिसके बाद उसने स्कूल जाना छोड़ दिया।

237 किलो के मिहिर जैन का दिल्ली में हुआ ऑपरेशन

दुनिया के सबसे वजनी बच्चे का राजधानी दिल्ली के एक अस्पताल में ऑपरेशन किया गया। 14 साल के मिहिर जैन का वजन 237 किलो था और वो ठीक से खड़ा तक नहीं हो पाते थे। मिहिर का कहना था कि वो अपने घर में ज्यादातर लेटे या बैठे रहते थे। दिल्ली के साकेत स्थित मैक्स अस्पताल में डॉक्टरों ने मिहिर जैन का सफल ऑपरेशन किया।

मिहिर की हुई गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी: अस्पताल के वरिष्ठ बेरिएट्रिक सर्जन प्रदीप चौबे और उनकी टीम ने मिहिर का ऑपरेशन किया। जैन की पसलियों के ऊपर 10-12 इंच फैट की परत जमी थी, जिसकी वजह से डॉक्टरों को सर्जरी करने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। करीब ढाई घंटे तक चले ऑपरेशन में मिहिर का गैस्ट्रिक बाईपास किया गया। इससे पहले जब मिहिर डॉक्टरों के माता-पिता उसे लेकर डॉक्टर के पास गए थे तो डॉक्टरों ने मिहिर का ऑपरेशन करने से मना कर दिया था एवं उसे कड़ा डायट फॉलो कर वजन घटाने के लिए कहा था। एक महीने में ही मिहिर ने अपना वजन 10 किलो कम कर लिया।

जन्म के समय 2.5 किलो का था मिहिर: मिहिर का जन्म नवंबर 2003 में हुआ था। जन्म के वक्त उसका वजन 2.5 किलो था। लेकिन पांच साल की उम्र में ही मिहिर का वजन 60-70 किलो तक पहुंच गया। वजन ज्यादा होने की वजह से मिहिर को चलने और बैठने में काफी परेशानी होने लगी, जिसके बाद उसने स्कूल जाना छोड़ दिया। मिहिर के घऱवालों ने सबसे पहले साल 2010 में डॉक्टरों से संपर्क साधा था। लेकिन उस समय उम्र कम होने की वजह से डॉक्टरों ने मिहिर की सर्जरी नहीं की। बाद में जब मिहिर के माता-पिता कुछ सालों बाद दोबारा डॉक्टरों से मिले तो डॉक्टरों ने मिहिर को वजन कम करने की सलाह दी।

पास्ता और पिज्जा है पसंद: मिहिर को पास्ता और पिज्जा बेहद पसंद है। लेकिन ऑपरेशन से पहले डॉक्टरों ने मिहिर को वेरी लो कैलोरी डाइट पर रखा। ऑपरेशन के बाद भी डॉक्टरों ने मिहिर को सख्त डाइट फॉलो करने के लिए कहा है। मिहिर को शारीरिक तौर पर फिट रहने और जंक फूड से बिल्कुल परहेज करने के लिए कहा गया है। डॉक्टरों का कहना है कि अगर सबकुछ ठीक रहा तो मिहिर को एक सप्ताह के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी। डॉक्टरों को उम्मीद है कि खान-पान पर कंट्रोल करने के बाद मिहिर सामान्य बच्चों की तरह जीने लगेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App