ताज़ा खबर
 

बीटेक की 3500 से ज्यादा सीटों के लिए पंजीकरण आज से, DTU, IIITD, IGDTUW NSIT में प्रवेश प्रक्रिया शुरू

डीटीयू, आइजीडीटीयूडब्लू और एनएसआइटी में बीई या बीटेक में आवेदन के लिए आवेदक के कक्षा 12 में पीसीएम में कुल 60 फीसद या इससे अधिक अंक होने जरूरी हैं।

Author नई दिल्ली | June 12, 2017 03:54 am
दिल्ली विश्वविद्यालय।

दिल्ली के चार तकनीकी संस्थानों में बीटेक की 3,500 से ज्यादा सीटों के लिए 12 जून से संयुक्त प्रवेश काउंसलिंग (जैक) के पोर्टल पर पंजीकरण शुरू होगा। पंजीकरण के लिए विद्यार्थियों को 1400 रुपए का आॅनलाइन भुगतान करना होगा।जैक के माध्यम से दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (डीटीयू), इंद्रप्रस्थ इंस्टीट्यूट आॅफ इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (आइआइआइटी) दिल्ली, इंदिरा गांधी दिल्ली प्रौद्योगिकी महिला विश्वविद्यालय (आइजीडीटीयूडब्लू) और नेताजी सुभाष इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नोलॉजी (एनएसआइटी) के बीटेक, बीई और बीआॅर्क पाठ्यक्रमों में प्रवेश लिया जा सकता है। डीटीयू, एनएसआइटी और आइजीडीटीयूडब्लू के बीटेक और बीई पाठ्यक्रम में दाखिला सीबीएसई की ओर से आयोजित संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई)-2017 के पेपर-1 में आई रैंक के आधार पर दिया जाएगा। वहीं, आइजीडीटीयूडब्लू के बीआॅर्क में प्रवेश जेईई-2017 के पेपर-2 में आई रैंक के आधार पर छात्राओं को दाखिला दिया जाएगा। इसके अलावा आइआइआइटीडी के बीटेक पाठ्यक्रम में प्रवेश का प्रमुख आधार जेईई-2017 के पेपर-1 में आई रैंक ही रहेगा, लेकिन कुछ क्षेत्रों में उपलब्धि हासिल करने वाले विद्यार्थियों को बोनस अंक दिए जाएंगे और दोनों को मिलाकर जारी योग्यता सूची के आधार पर दाखिले दिए जाएंगे।

इसके अलावा हर संस्थान ने आवेदन के लिए क्वालीफाइंग परीक्षा (कक्षा 12) के अंकों को भी निर्धारित किया है। डीटीयू, आइजीडीटीयूडब्लू और एनएसआइटी में बीई या बीटेक में आवेदन के लिए आवेदक के कक्षा 12 में पीसीएम में कुल 60 फीसद या इससे अधिक अंक होने जरूरी हैं। इसके अलावा अंग्रेजी विषय में पास होना आवश्यक है। इसी तरह आइआइआइटीडी में बीटेक के लिए आवेदन करने के लिए छात्र के कक्षा 12 में पीसीएम सहित 80 फीसद से अधिक अंक अनिवार्य हैं। इसके अलावा गणित में अलग से 80 फीसद से अधिक अंक होने जरूरी हैं। जैक की वेबसाइट पर जाकर उम्मीदवार को जेईई के रोल नंबर, मोबाइल नंबर और ईमेल आइडी की सहायता से पंजीकरण कराना होगा। इसके बाद आॅनलाइन ही 1400 रुपए पंजीकरण सह काउंसलिंग फीस का भुगतान करना होगा। इस भुगतान के बाद उम्मीदवार को फिर जैक की वेबसाइट पर लॉगइन करना होगा। यहां पर उम्मीदवारों को अपनी जानकारी देनी होगी और उसके बाद फोटो अपलोड करना होगा। इस प्रक्रिया के बाद उम्मीदवार का एक अकाउंट बन जाएगा। इसके बाद वह अपनी पसंद के संस्थान में अपनी पसंद की शाखा में सीट ‘च्वाइस’ भर सकता है।

 

आइआइआइटी में दो बीटेक पाठ्यक्रम शुरू

आइआइआइटी दिल्ली ने शैक्षणिक सत्र 2017-18 से दो नए बीटेक पाठ्यक्रम शुरू किए हैं। संस्था के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, आइआइआइटीडी में बीटेक इन कंप्यूटर साइंस एंड डिजाइन और बीटेक इन इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एंड सोशल साइंस शुरू किए हैं। दोनों पाठ्यक्रमों में 50-50 सीटें निर्धारित की गई हैं। बीटेक इन कंप्यूटर साइंस एंड डिजाइन में प्रवेश यूकेड (डिजाइन स्नातक संयुक्त प्रवेश परीक्षा) के आधार पर होगा। यूकेड डिजाइनिंग पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा है। वहीं बीटेक इन इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एंड सोशल साइंस पाठ्यक्रम की आधी सीटें जेईई मेन की रैंक से और बाकी बची आधी सीटें कक्षा 12 के अंकों के आधार पर भरी जाएंगी। कक्षा 12 में गणित पढ़ने वाला किसी भी संकाय का छात्र इस पाठ्यक्रम के लिए आवेदन कर सकता है।

डीटीयू में बढ़ीं 115 सीटें
डीटीयू ने शैक्षणिक सत्र 2017-18 के लिए बीटेक की 115 सीटें बढ़ाई हैं। विश्वविद्यालय ने सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग (एसडब्लू), मैथेमैटिक्स एंड कंप्यूटिंग (एमसी), प्रोडक्शन एंड इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग (पीआइई), बायो-टेक्नोलॉजी (बीटी) और मैकेनिकल इंजीनियरिंग (एमई) की सीटों में बढ़ोतरी की है। दूसरी ओर, आॅटोमोबाइल इंजीनियरिंग (एई) में सीटें कम की गई हैं। हर कक्षा में विद्यार्थियों की संख्या 60-65 के गुणक में होती है, ऐसे में कक्षाओं में विद्यार्थियों की संख्या को पूरा करने के लिए सीट बढ़ाने का फैसला किया गया है। डीटीयू ने बीटेक इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग (ईईई) को बीटेक इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग (ईई) में शामिल कर दिया है। शैक्षणिक सत्र 2017-18 से बीटेक की ईईई शाखा में प्रवेश नहीं होंगे। विश्वविद्यालय की अकादमिक परिषद (एसी) के सामने दोनों शाखाओं को जोड़कर उसका नाम इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग करने का प्रस्ताव रखा गया था, जिसे मान लिया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App