ताज़ा खबर
 

दिल्ली दंगा चार्जशीट: ‘ताहिर हुसैन, इशरत जहां समेत 5 लोगों को मिले 1.61 करोड़ रुपए’, पुलिस ने कोर्ट में दाखिल किया आरोपपत्र

पुलिस ने ताहिर हुसैन की कंपनी और उनके एक रिश्तेदार की कंपनी से संबंधित दो बैकों में भी पैसों के लेनदेन की जांच की है। पुलिस ने एक प्रत्यक्षदर्शी के हवाले से अपनी चार्जशीट में कहा है कि 'आरोपी ताहिर हुसैन ने अपने अकाउंट में रखे 20 लाख रुपए को कैश में बदल लिया था।

delhi, tahir hussain, ncr, nrc, caaताहिर हुसैन तथा अन्य लोगों के द्वारा साजिश के लिए पैसे लेने की बात चार्जशीट में कही गई है। फाइल फोटो

दिल्ली पुलिस ने फरवरी में उत्तर-पूर्व दिल्ली में हुए दंगों के सिलसिले में अदालत में दाखिल किये गये अपने आरोपपत्र में कहा है कि संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन स्थलों का प्रबंधन करने और साम्प्रदायिक हिंसा की साजिश को अंजाम देने के लिये पांच लोगों को कथित तौर पर 1.61 करोड़ रुपये मिले थे।

पुलिस ने आरोपपत्र में कहा है कि कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां, कार्यकर्ता खालिद सैफी, आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन, जामिया मिल्लिया इस्लामिया एलुमनाई एसोसिएशन अध्यक्ष शिफा उर रहमान और जामिया के छात्र मीरन हैदर को सीएए के खिलाफ प्रदर्शन स्थलों के प्रबंधन और फरवरी में हुए दिल्ली दंगों की साजिश को अंजाम देने के लिए कथित तौर पर 1.61 करोड़ रुपये मिले थे।

पुलिस ने फरवरी में उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में 15 आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया है। आरोपपत्र के मुताबिक,“जांच के दौरान यह पता चला है कि एक दिसंबर 2019 से 26 फरवरी, 2020 के दौरान आरोपी इशरत जहां, खालिद सैफी, ताहिर हुसैन, शिफा-उर रहमान और मीरन हैदर को बैंक खाते और नकदी के माध्यम से कुल 1,61,33,703 रुपये मिले थे।” आरोप पत्र में कहा गया है कि कुल 1.61 करोड़ रुपये में से 1,48,01186 रुपये नकद निकाले गए और प्रदर्शन स्थलों के प्रबंधन के लिए खर्च किए गए।

पुलिस ने बताया है कि इशरत जहां ने 5.41 लाख रुपए ऑनलाइन हासिल किये। इसके बाद 10 दिसंबर को उन्होंने अपने बैंक अकाउंट में कैश जमा कराए। पुलिस का दावा है कि उसने महाराष्ट्र के कॉरपोरेशन बैंक अकाउंट से 4 लाख रुपए बरामद किये हैं। यह पैसे समीर अब्दुल साईं नाम के एक शख्स के ड्राइवर ने ट्रांसफर किये थे। पुलिस ने साईं से पूछताछ की है औऱ उसने पुलिस को बताया है कि एक बिजनेस पार्टनर ने उससे कहा था कि वो यह पैसे तुरंत इशरत जहां को दे।

पुलिस ने इशरत जहां के एक रिश्तेदार इमरान ने 4 लाख रुपए लेने की बात स्वीकार की है। हालांकि इमरान ने कहा कि यह पैसे कुछ बिजनेस को लेकर लिए गए थे लेकिन इन पैसों के आईटी रिटर्न के बारे में वो कुछ भी जानकारी नहीं दे पाए।

पुलिस ने ताहिर हुसैन की कंपनी और उनके एक रिश्तेदार की कंपनी से संबंधित दो बैकों में भी पैसों के लेनदेन की जांच की है। पुलिस ने एक प्रत्यक्षदर्शी के हवाले से अपनी चार्जशीट में कहा है कि ‘आरोपी ताहिर हुसैन ने अपने अकाउंट में रखे 20 लाख रुपए को कैश में बदल लिया था। इसके बाद चार्जशीट में कहा है कि दिल्ली में प्रदर्शन, भीड़ जुटाने, दंगा करने और हिंसा में जरुरी सामान जुटाने के लिए बड़े पैमाने पर इन पैसों का इस्तेमाल किया गया।

पुलिस का यह भी दावा है कि Alumni Association of Jamia Millia Islamia (AAJMI) ने अपने अध्यक्ष सैफ-उर-रहमान के जरिए इस प्रदर्शन और दंगे में बड़ा अहम किरदार अदा किया। पूछताछ के दौरान रहमान ने कबूल किया है कि उन्होंने 50,000 रुपए कैश AAJMI के अकाउंट में जमा कराए थे। हालांकि जिस व्यक्ति के जरिए उन्होंने यह पैसे अकाउंट में डलवाए थे उन्हें उसका नाम याद नहीं है। चार्जशीट के मुताबिक उन्होंने प्रदर्शन के दौरान अपने अकाउंट से 70,000 रुपए निकाले और इसपर खर्च किये।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उमर खालिद का समर्थन कर रहे पूर्व डीजीपी रिबेरो के खिलाफ 26 पूर्व आईपीएस ने जारी किया बयान
यह पढ़ा क्या?
X