ताज़ा खबर
 

दिल्ली दंगा: 85 वर्षीय महिला की हुई थी हत्या; पुलिस ने बताया- आठ वीडियो में दिखे हैं आरोपी

चार्जशीट में पुलिस ने कहा कि वीडियो में कई और व्यक्ति हैं जिनके चेहरे ढंके हुए हैं, उनकी पहचान के लिए कोशिश की जा रही है।

delhi riotsदिल्ली दंगों के दौरान जलने और दम घुटने से अकबरी बेगम की मौत हो गई थी।

पूर्वोत्तर दिल्ली के दंगों में 85 वर्षीय अकबरी बेगम की हत्या से जुड़े मामले में दिल्ली पुलिस ने आठ वीडियो को चार्जशीट के रिकॉर्ड में रखा है। आरोपियों की पहचान करने वाले ये वीडियो घटना स्थल से जुड़े हैं। दिल्ली दंगों के दौरान जलने और दम घुटने से अकबरी बेगम की मौत हो गई थी। इन वीडियो को घटनास्थल पर मौजूद चश्मदीद गवाहों ने रिकॉर्ड किया था। हत्या मामले में पुलिस बयान और घटनाक्रम में बताया गया कि कैसे अकबरी बेगम का परिवार भजनपुरा में घर की छत पर फंस गया था और बूढ़ी अकबरी वहां नहीं पहुंच सकीं; कैसे आरोपी घर को आग लगाने के बाद वहां से चले गए।

हत्या मामले में पुलिस ने छह आरोपियों को पकड़ा है। इनकी पहचान अरुण कुमार (26), वरुण कुमार (22), विशाल सिंह (29), रवि कुमार (24), प्रकाश चंद (36) और सूरज सिंह (28) के रूप में की गई है। सभी आरोपी अभी न्यायिक हिरासत में हैं। चार्जशीट कड़कड़डूमा के चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट की कोर्ट में दाखिल की गई है। आरोपियों की पहचान करने वाले वीडियो को प्रत्यक्ष/इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य करार देते हुए पुलिस ने चार आरोपियों के बयानों को भी रिकॉर्ड में रखा है, जिन्हें सह आरोपियों की पहचान के लिए ये वीडियो दिखाए गए थे। मामले में शिकायतकर्ता पीड़िता के बेटे मोहम्मद सईद सलमानी हैं।

Bihar, Jharkhand Coronavirus LIVE Updates

पुलिस चार्जशीट में कहा गया, ‘गिरफ्तार आरोपी और भीड़ के अन्य सदस्य सामान्य इरादे से दंगों में शामिल हो गए और शिकायतकर्ता के घर को आग लगा दी, जिसमें एक निर्दोष बूढ़ी महिला की मौत हो गई थी। शिकायतकर्ता एक उद्यमी हैं और इमारत में छोटी सिलाई की इकाई चलाते हैं, जिसके माध्यम से वो अपनी आजीविका अर्जित करते थे। इमारत को जलाने से दंगाइयों ने भारी वित्तीय नुकसान किया है और पूरे परिवार को बहुत बड़े आर्थिक संकट में डाल दिया है। आरोपी व्यक्तियों की कोई व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं थी… लेकिन सांप्रदायिक उन्माद के कारण हिंसा हुई।’

चार्जशीट में कहा कि वीडियो में कई और व्यक्ति हैं जिनके चेहरे ढंके हुए हैं, उनकी पहचान के लिए कोशिश की जा रही है। चार्जशीट की मुख्य बातें पढ़िए-

वीडियो क्लिप 1 में 1.04 मिनट पर आरोपी वरुण कुमार को शिकायतकर्ता के घर से बाहर निकलते हुए देखा गया, जबकि घर में आग लगी हुई थी।

वीडियो क्लिप 2 में 3.12 मिनट पर आरोपी सूरज सिंह और रवि कुमार को दंगाई भीड़ के एक्टिव सदस्य के रूप में स्पष्ट रूप से देखा गया है।

वीडियो क्लिप 2A: शिकायतकर्ता के परिवार के सदस्य और कर्मचारी हिंसा के समय घर की छप पर फंस जाते हैं। घर से काला धुआं निकल रहा है।

वीडियो क्लिप 3: आरोपी रवि कुमार और प्रकाश चंद दंगाई भीड़ के हिस्से के रूप में देखे गए। उस दिन और उस समय अपराध स्थल पर वीडियो रिकॉर्ड करने वाला सेलफोन बहुत ज्यादा एक्टिव था। एक दूसरा वीडियो भी इन दोनों की उपस्थिति की पुष्टि करता है।

वीडियो क्लिप 3: अपराध स्थल के पास दुकानों को आग लगा दी गई। आरोपी अरुण कुमार, वरुण कुमार, सूरज सिंह और विशाल सिंह को भीड़ के सक्रिय हिस्से के रूप में देखे गए। बता दें कि पुलिस ने सीआरपीसी की धारा 161 के तहत दर्ज बयानों को स्वीकार कर लिया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अरविंद केजरीवाल ने की प्लाज़्मा डोनेशन की अपील, वीडियो देख बोले आशुतोष- बाल कितना अच्छा काढ़े है, हुए ट्रोल
ये पढ़ा क्या?
X