ताज़ा खबर
 

मैं शीला दीक्षित नहीं हूं, मोदी को चैन से नहीं सोने दूंगा: केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर ‘‘जंगल राज जारी रहता है’’ तो वह उन्हें ‘‘चैन से’’ सोने नहीं देंगे..

Author नई दिल्ली | October 18, 2015 8:34 PM
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (पीटीआई फाइल फोटो)

राष्ट्रीय राजधानी में दो नाबालिगों के बलात्कार को लेकर राजनीति रविवार को तेज हो गई जब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर ‘‘जंगल राज जारी रहता है’’ तो वह उन्हें ‘‘चैन से’’ सोने नहीं देंगे।

उपराज्यपाल नजीब जंग के साथ बैठक के बाद, केजरीवाल ने केन्द्र तथा दिल्ली पर करारा प्रहार करते हुए कहा कि वह महिला सुरक्षा के मुद्दे पर चुप नहीं बैठेंगे। उधर, जांचकर्ताओं ने दो नाबालिगों की गिरफ्तारी के साथ ढाई साल की बच्ची के बलात्कार का मामला सुलझाने का दावा किया।

केजरीवाल ने कहा, ‘‘अगर दिल्ली में महिलाओं को उचित सुरक्षा नहीं मिली और बलात्कार जारी रहे तो हम प्रधानमंत्री को चैन से सोने नहीं देंगे। यह गारंटी है।’’

उन्होंने दावा किया कि राजधानी में ‘‘जंगल राज’’ जारी है। उन्होंने मोदी से ‘‘जिद्द’’ नहीं करने और कम से कम एक साल के लिए दिल्ली सरकार को कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी सौंपने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री ने शनिवार भी यह मांग की थी।

केजरीवाल ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री को समझना चाहिए कि मैं (पिछली मुख्यमंत्री) शीला दीक्षित नहीं हूं। मैं चुप नहीं रहूंगा।’’

शीला ने शनिवार को केजरीवाल पर दोषारोपण करने का आरोप लगाया था।

विस्तृत जानकारी दिये बगैर, मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने और कानून व्यवस्था सुधारने के लिए सभी विकल्पों पर गौर कर रही है। सूत्रों ने कहा कि कि दिल्ली सरकार दिल्ली पुलिस की ‘‘जिम्मेदारी तय करने के लिए’’ उच्चतम न्यायालय से गुहार लगाने पर विचार कर रही है।

केजरीवाल की जंगल राज संबंधी टिप्पणी पर जवाब देते हुए दिल्ली पुलिस आयुक्त बीएस बस्सी ने कहा, ‘‘इस तरह की टिप्पणियों को ज्यादा महत्व नहीं देना चाहिए क्योंकि इन्हें राजनीतिक स्थिति को ध्यान में रखकर दिया जाता है। दिल्ली में कोई जंगल राज नहीं है।’’

उपराज्यपाल के साथ अपनी बैठक में केजरीवाल ने बीते चार वर्षों में महिला विरोधी अपराधों और लापता बच्चों के मामलों का आंकड़ा सौंपा और उनसे कानून व्यवस्था सुधारने के लिए तत्काल उपाय करने को कहा। केजरीवाल ने कानून व्यवस्था पर चर्चा के लिए सोमवार को कैबिनेट की बैठक बुलाई है।

राजधानी में शुक्रवार को ढाई साल और पांच साल की लड़कियों के साथ बर्बर तरीके से बलात्कार हुआ था। इससे एक सप्ताह पहले एक नाबालिग का यौन उत्पीड़न हुआ था।

भाजपा ने जंगल राज संबंधी टिप्पणी को लेकर केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि शहर की सुरक्षा स्थिति पर उनकी टिप्पणियां केवल ‘‘राजनीतिक बयानबाजी’’ है।

केजरीवाल ने कहा, ‘‘हम पिछले चार साल के अपराध के रिकॉर्ड के साथ उप राज्यपाल से मिले। महिलाओं के खिलाफ करीब 31,000 मामले दर्ज किए गए। इनमें से सिर्फ 13,000 मामलों में आरोप पत्र दायर किए गए तथा 18,000 मामलों में कोई आरोप पत्र दायर नहीं किया गया।’’

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘सिर्फ 146 लोगों को दंडित किया गया। ऐसे में आप देख सकते हैं कि महिलाएं कितनी सुरक्षित हैं।’’

केजरीवाल की 45 मिनट की बैठक में कई शीर्ष अधिकारी शामिल हुए। उन्होंने पुलिस पर ‘‘नियंत्रण’’ पर सवाल उठाया और जोर देते हुए कहा कि उन्हें जवाबदेह बनाया जाना चाहिए।

वहीं दूसरी ओर जंग ने मुख्यमंत्री को आश्वासन दिया कि शहर में महिलाओं की सुरक्षा सुधारने के लिए हरसंभव उपाय किये जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली पुलिस पर कोई लोकतांत्रिक नियंत्रण नहीं है जो हमारे लोकतांत्रिक देश के लिए बहुत खतरनाक है।’’ उन्होंने कहा कि अगर दिल्ली सरकार को पुलिस सौंप दी जाए तो कानून व्यवस्था में बहुत सुधार होगा।

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के लोग इन घटनाओं को लेकर निराश और बहुत गुस्से में हैं। उन्होंने कहा, ‘‘बलात्कारी जानते हैं कि वे अपराध करेंगे और बचकर निकल जाएंगे।’’

इस बीच, पश्चिमी दिल्ली के निहाल विहार इलाके में ढाई साल की एक बच्ची के साथ बलात्कार के सिलसिले में दो किशोरों को हिरासत में लिया गया है। पुलिस ने कहा कि दोनों आरोपियों की उम्र लगभग 17 साल है और ये एक ही पड़ोस में रहते हैं। बच्ची के परिवार वाले इन दोनों को जानते हैं।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि शुक्रवार रात को इन्होंने इलाके में बिजली गुल हो जाने का फायदा उठाया और बच्ची का कथित तौर पर अपहरण करके ले गए। इसके बाद इन दोनों में से कम से कम एक व्यक्ति ने बच्ची के साथ बलात्कार किया।

पुलिस संयुक्त आयुक्त (दक्षिण पश्चिम) दीपेंद्र पाठक ने कहा, ‘‘इस मामले में 15 से ज्यादा टीमें बनाई गईं और लगभग 250 स्थानीय लोगों से पूरी रात पूछताछ की गई। इसके बाद पुलिस ने कुछ लोगों को छांटकर अलग किया और फिर आरोपी किशोरों को पकड़ा गया।’’

दूसरी घटना में, पूर्वी दिल्ली के आनंद विहार क्षेत्र में शनिवार शाम एक झुग्गी बस्ती में पांच साल की लड़की का सहकिरायेदार और उसके दो साथियों ने कथित रूप से बलात्कार किया गया। लड़की के माता पिता मजदूर हैं और घटना के वक्त वह घर पर अकेली थी।

घटना प्रकाश में आने के बाद पड़ोसियों ने तीनों की पिटाई की और उन्हें पुलिस को सौंप दिया। आरोपियों की पहचान प्रकाश, रेवती और सीताराम के रूप में हुई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App