scorecardresearch

दिल्‍ली के औरंगजेब रोड पर लगा बाबा विश्‍वनाथ मार्ग का पोस्‍टर, जुमे की नमाज से पहले यूपी में अलर्ट, मुस्लिम धर्मगुरुओं ने की अपील

पोस्टर लगाने वाले दिल्ली भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष ने कहा कि आज हम औरंगजेब लेन का नाम बाबा विश्वनाथ मार्ग करने की मांग लेकर आए हैं।

baba vishwanath Marg Poster
भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने औरंगजेब लेन पर लगाया बाबा विश्वनाथ मार्ग का पोस्टर (पोस्टर-@BJYM4DL/ट्विटर)

वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के दौरान शिवलिंग मिलने का मामला कोर्ट में लंबित है। जबकि, दूसरी तरफ गुरुवार को दिल्ली के औरंगजेब लेन पर कुछ लोगों ने बाबा विश्वनाथ मार्ग का पोस्टर लगा दिया। देश में औरंगजेब को लेकर छिड़ी बहस के बीच, औरंगजेब लेन पर बाबा विश्वनाथ मार्ग पोस्टर लगाने वाले भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ता बताए जा रहे हैं।

काशी से शुरू हुआ विवाद अब दिल्ली तक पहुंचता दिखाई दे रहा है। भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने दिल्ली स्थित औरंगजेब लेन पर बाबा विश्वनाथ मार्ग का पोस्टर चस्पा कर दिया। दिल्ली भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष वासु रूखड़ ने औरंगजेब लेन पर बाबा विश्वनाथ मार्ग का बैनर लगाने के बाद कहा कि औरंगजेब इस देश के लिए कलंक था।

वासु रूखड़ ने कहा, “औरंगजेब जैसे आक्रांता ने हमारे भगवानों का मंदिर तोड़ा। हमारे बाबा विश्वनाथ का मंदिर तोड़ा। आज आप सभी को पता चल गया होगा कि वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद में एक शिवलिंग था। आज हम औरंगजेब लेन का नाम बाबा विश्वनाथ मार्ग करने की मांग लेकर आए हैं। हम दिल्ली सरकार से यह चाहते हैं कि इस मार्ग का नाम बाबा विश्वनाथ मार्ग कर दिया जाए।”

भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष ने कहा कि पूरी दुनिया जानती है कि मुगल आक्रांताओं ने हमारे भगवानों का मंदिर तोड़ा। हम उनका इतिहास खत्म करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, “हम नहीं चाहते हैं कि ये नाम इतिहास में, किसी भी पन्ने पर किसी भी रोड पर लिखा जाए।”

उधर, ज्ञानवापी मस्जिद मामले को लेकर सूबे में सियासत गरमाई हुई है। एआईएमआईएम प्रमुख सर्वे रिपोर्ट के लीक होने पर सवाल उठा रहे हैं। ओवैसी ने कहा कि निचली अदालत को रिपोर्ट सौंपे बिना मीडिया के पास कैसे यह रिपोर्ट चली गई। ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कल यानी शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है।

इस बीच, जुमे की नमाज को लेकर उत्तर प्रदेश में अलर्ट जारी कर दिया गया है। गुरुवार को एक हाई लेवल मीटिंग के बाद यह फैसला लिया गया। वहीं, मुस्लिम धर्मगुरु मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने अपील की है कि मुस्लिम किसी तरह का प्रदर्शन न करें। उन्होंने कहा कि हमें अपने मुल्क के कानून पर पूरी तरह से भरोसा रखना है।

पढें नई दिल्ली (Newdelhi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट