ताज़ा खबर
 

दिल्ली नगर निगम का फैसला आज, आप और बीजेपी के बीच मुख्य मुकाबला

दिल्ली नगर निगम के 270 वार्डों के लिए रविवार को हुए मतदान के नतीजे आज आने वाले हैं।

Author नई दिल्ली | April 26, 2017 1:38 AM
इस साल दिल्ली नगर निगम चुनाव होने हैं। (प्रतीकात्मक चित्र)

दिल्ली नगर निगम के 270 वार्डों के लिए रविवार को हुए मतदान के नतीजे आज आने वाले हैं। इसके साथ ही यह तय हो जाएगा कि अगले पांच साल के लिए निगमों की कमान किसे मिलने वाली है। राज्य निर्वाचन आयोग ने मतगणना की सभी तैयारियां मुकम्मल कर ली हैं। चुनाव में प्रमुख दावेदार दल भाजपा, आप और कांग्रेस के बीच हुए त्रिकोणीय मुकाबले में हार-जीत का फैसला आज की मतगणना में हो जाएगा।  नतीजे आने से पहले ही मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी का राग अलापना शुरू कर दिया है, जबकि भाजपा अपनी जीत को लेकर पूरी तरह से निश्चिंत है। वहीं कांग्रेस नेता भी ताल ठोक रहे हैं। चुनाव आयोग के निर्देशानुसार मतगणना को लेकर दिल्ली पुलिस और अन्य एजंसियों ने पुख्ता व्यवस्था कर ली है। दिल्ली के 35 केंद्रों पर मतगणना के मद्देनजर पुलिस ने अवरोधक लगाकर मंगलवार रात से ही सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेना शुरू कर दिया। चुनाव आयोग के मुताबिक, मतगणना बुधवार सुबह आठ बजे से शुरू होगी और उसकी वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी। समाजवादी बाकी पार्टी के दो उम्मीदवारों की मौत के बाद 272 वार्डों में दो पर चुनाव नहीं हुए। 270 वार्डों पर कुल 2537 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होना है।

राज्य निर्वाचन आयुक्त एसके श्रीवास्तव ने मतगणना की तैयारियां पूरी होने की जानकारी देते हुए बताया कि तय कार्ययोजना के मुताबिक मतगणना सुबह आठ बजे शुरू हो जाएगी। उन्होंने बताया कि सीलबंद ईवीएम मतगणना स्थलों पर पहुंचा दी गई हैं। इसके लिए 35 मतगणना केंद्र्र बनाए गए हैं। श्रीवास्तव ने कहा कि हम मतगणना के लिए पूरी तरह तैयार हैं।
जानकारों की राय में निगम चुनाव का परिणाम दिल्ली के सियासी भविष्य को तय करने वाला साबित होगा। एक तरफ दो साल पहले हुए विधानसभा चुनाव में 67 सीट जीतने वाली आप के लिए निगम चुनाव परिणाम अरविंद केजरीवाल के जनाधार की मजबूती को तय करेगा, वहीं कांग्रेस और भाजपा के लिए चुनाव का परिणाम दिल्ली में खोई जमीन वापस पाने का पैमाना बनेगा। हालांकि मतदान से महज दस दिन पहले 13 अप्रैल को राजौरी गार्डन विधानसभा उपचुनाव परिणाम में आप की करारी हार केजरीवाल गुट के लिए चिंता बढ़ाने वाली साबित हुई जबकि भाजपा अपनी जीत और कांग्रेस अपने वोट में 23 फीसद के इजाफे से काफी उत्साहित है। रविवार को दिल्ली के 1.32 करोड़ मतदाताओं में से 7139994 ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। इसमें सर्वाधिक मतदान दक्षिणी दिल्ली में हुआ।

 

मुंबई: एक लीटर पेट्रोल पर 153 फीसदी टैक्स लगाती है सरकार, जानिए क्या है असली कीमत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App