ताज़ा खबर
 

दिल्ली: कल से सम-विषम आधार पर खुलेंगे बाजार, मेट्रो भी चलेगी; कुछ रियायतों के साथ 14 जून तक बढ़ी पूर्णबंदी

आदेश में कहा गया, ‘दिल्ली मेट्रो से परिवहन को मंजूरी दी गई है और प्रत्येक कोच में यात्रियों के बैठने की 50 फीसद क्षमता के साथ ट्रेनों का संचालन होगा।’ स्टेशनों पर पांच से 15 मिनट के अंतराल पर ही गाड़ियां मिलेंगी।

दिल्ली के अस्तपताल के बाहर की कोरोना संक्रमित के परिजन (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस/ताशी तोब्याल)

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को पूर्णबंदी में और छूट देने की घोषणा करते हुए कहा कि सात जून से दिल्ली मेट्रो 50 फीसद क्षमता के साथ चलेगी और बाजार व मॉल सम-विषम आधार पर खुलेंगे। रियायतों के साथ ही पूर्णबंदी को 14 जून तक के लिए बढ़ा दिया है। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोविड-19 की सुधरती स्थिति के मद्देनजर शहर की अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने की जरूरत है। सरकार ने मुहल्ले की सभी दुकानों को भी खोलने की इजाजत दी है जबकि राष्ट्रीय राजधानी में सोमवार से लागू हो रही नई रियायतों के साथ शराब की दुकानें भी खुल जाएंगी।

हालांकि सिनेमा, थिएटर, रेस्तरां (होम डिलिवरी और सामान ले जाने को छोड़कर), बार, जिम, स्पा, सैलून और ब्यूटी पार्लर अगले आदेश तक बंद रहेंगे। मनोरंजन और ऐसी बाकी पेज 8 पर ही अन्य सुविधाओं से संबंधित दुकानों को भी बंद रखने का फैसला किया गया है। ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के जरिए डिलिवरी की भी इजाजत होगी। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के मुताबिक 19 अप्रैल को लागू की गई मौजूदा पूर्णबंदी को एक और हफ्ते (14 जून तक) बढ़ा दिया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी और निजी कार्यालयों को 50 फीसद कर्मचारियों के साथ फिर से खोलने की अनुमति दी जाएगी। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की स्थिति धीरे-धीरे सुधर रही है और इसके मद्देनजर दिल्ली में उत्पादन व निर्माण कार्य गतिविधियों को मंजूरी देने के साथ पिछले हफ्ते ‘अनलॉक’ की प्रक्रिया शुरू की गई थी।

पूर्णबंदी में सोमवार से रियायतों के तहत मॉल, बाजार और कारोबारी परिसर (साप्ताहिक बाजारों को छोड़कर) दुकानों के नंबरों के आधार पर सम-विषम आधार पर सुबह 10 बजे से रात आठ बजे तक खुले रहेंगे। डीडीएमए ने अपने आदेश में कहा, ‘इसका मतलब है कि सिर्फ 50 फीसद दुकानें (आवश्यक वस्तुओं की बिक्री करने वाली दुकानों को छोड़कर) खुली रहेंगी।’ हालांकि शैक्षणिक किताबें और स्टेशनरी की दुकानों, मॉल, बाजार और बाजार परिसरों में पंखों आदि की दुकानों को समय की पाबंदी के बगैर हफ्ते में सातों दिन खोलने की इजाजत होगी।

आदेश में कहा गया कि मुहल्ले की दुकान और आवासीय परिसरों में स्थित दुकानों को आवश्यक और गैर आवश्यक सेवाओं के भेद के बगैर सभी दिन खोलने की इजाजत होगी। हालांकि गैर आवश्यक सेवाओं वाली ऐसी दुकानों के लिए समय सीमा सुबह 10 बजे से रात आठ बजे तक होगी। बढ़ते मामलों के कारण 10 मई को बंद कर दी गई दिल्ली मेट्रो रेल सेवाओं को भी सोमवार से शुरू किया जाएगा। डीडीएमए के आदेश में कहा गया, ‘दिल्ली मेट्रो से परिवहन को मंजूरी दी गई है और प्रत्येक कोच में यात्रियों के बैठने की 50 फीसद क्षमता के साथ ट्रेनों का संचालन होगा।’ स्टेशनों पर पांच से 15 मिनट के अंतराल पर ही गाड़ियां मिलेंगी। स्टेशनों पर प्रवेश चिन्हित गेटों के माध्यम से नियंत्रित किया जाता रहेगा जैसा कि पहले होता था। अतिरिक्त भीड़ को संभालने के लिए मेट्रो स्टेशनों के बाहर कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए उपयुक्त अधिकारियों को भी लिखा गया है।

सोमवार को, उपलब्ध ट्रेनों में से केवल आधी को ही सेवा में शामिल किया जाएगा, जिसकी आवृत्ति अलग-अलग लाइन पर 5 से 15 मिनट के लगभग होगी। बुधवार तक ट्रेनों की संख्या पूरी तरह से श्रेणीबद्ध तरीके से शामिल कर ली जाएगी और उसके बाद सामान्य आवृत्ति(अंतराल) के अनुसार सेवाएं उपलब्ध होंगी जो लॉकडाउन से पहले उपलब्ध थीं।

डीडीएमए के आदेश में कहा गया कि सरकारी कार्यालयों में ‘ग्रुप ए’ के सभी कर्मचारी आएंगे जबकि निचले वर्ग के 50 फीसद कर्मचारी कार्यालय में उपस्थित होंगे। आवश्यक सेवाओं से जुड़े सभी अधिकारी और कर्मचारी बिना किसी पाबंदी के काम करेंगे। विभागाध्यक्ष यह तय करेंगे कि कौन सी सेवाएं आवश्यक सेवाएं हैं और किन 50 फीसद कर्मियों को बुलाया जा सकता है।

इसमें कहा गया कि निजी कार्यालय भी 50 फीसद कर्मियों के साथ सुबह नौ बजे से शाम पांच बजे तक काम शुरू कर सकेंगे। आदेश के मुताबिक प्रयास किए जाएंगे कि जहां तक संभव हो कर्मचारी घरों से काम करें या फिर उनके कार्यालय आने का समय अलग-अलग हो जिससे सामाजिक दूरी का अनुपालन सुनिश्चित हो। डीडीएमए के आदेश के मुताबिक कर्मचारियों को आवाजाही के लिए संगठन की तरफ से जारी वैध प्रमाण पत्र और प्राधिकार पत्र रखना होगा। डीडीएमए ने कहा कि उसके आदेश के अनुपालन की जिम्मेदारी बाजार संघों, जिलाधिकारियों, पुलिस उपायुक्तों और श्रम आयुक्तों की होगी। सरकारी व निजी कार्यालयों को 50 फीसद कर्मचारियों के साथ फिर से खोलने की अनुमति

इन पर पाबंदी जारी रहेगी
सिनेमा, थिएटर, रेस्तरां (‘होम डिलिवरी’ और सामान ले जाने को छोड़कर), बार, जिम, स्पा, सैलून और ब्यूटी पार्लर अगले आदेश तक बंद रहेंगे। मनोरंजन और ऐसी ही अन्य सुविधाओं से संबंधित दुकानों को भी बंद रखने का फैसला किया गया है। इलाकों के साप्ताहिक बाजारों को खुलने की अनुमति नहीं होगी।

Next Stories
1 मुंबई के बाद अब देश की राजधानी दिल्ली में लग सकता है पेट्रोल का शतक, क्या कहते हैं एक्सपर्ट
2 भाजपा सांसद बोले- UN में भारत नहीं कर पाया वोट, फलस्तीन ने भी लताड़ा, पंचतंत्र के चमगादड़ जैसा हाल
ये पढ़ा क्या?
X