ताज़ा खबर
 

सड़क पर उतरी तकरार के बाद संवाद बहाली की बात, सरकार से चर्चा को तैयार हुए नौकरशाह

अधिकारियों के चर्चा के लिए तैयार होने के बाद उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उपराज्यपाल को पत्र लिखकर जल्द बैठक बुलाने को कहा है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी उम्मीद जताई कि उपराज्यपाल मुद्दे पर जल्द से जल्द बैठक बुलाएंगे।

Author नई दिल्ली, 18 जून। | June 19, 2018 6:31 AM
अधिकारियों ने मुख्यमंत्री की अपील का स्वागत करते हुए कहा कि वे अपनी सुरक्षा और सम्मान के प्रति ‘ठोस हस्तक्षेप’ को लेकर आशान्वित हैं।

दिल्ली की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार और नौकरशाहों के बीच पिछले कई महीनों से जारी गतिरोध में दोनों तरफ से कुछ नरमी के संकेत मिले हैं। अधिकारियों ने सोमवार को मुख्यमंत्री की अपील का स्वागत किया और कहा कि वे इस मुद्दे पर औपचारिक चर्चा के लिए तैयार हैं। वहीं जवाब में उपमुख्यमंत्री ने भी हामी भरी है, लेकिन कहा है कि चर्चा उपराज्यपाल की मौजूदगी में ही होनी चाहिए क्योंकि ‘सेवा’ और ‘सुरक्षा’ के प्रमुख वही हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपने मंत्रियों सहित अधिकारियों की तथाकथित ‘हड़ताल’ के खिलाफ पिछले सोमवार से राजनिवास पर धरने पर बैठे हैं जिसके बाद रविवार को अधिकारियों ने सफाई दी कि वे हड़ताल पर नहीं हैं, लेकिन असुरक्षित जरूर महसूस कर रहे हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने उनसे काम पर लौटने की अपील की थी और सुरक्षा का आश्वासन दिया था।

अधिकारियों ने मुख्यमंत्री की अपील का स्वागत करते हुए कहा कि वे अपनी सुरक्षा और सम्मान के प्रति ‘ठोस हस्तक्षेप’ को लेकर आशान्वित हैं। एजीएमयूटी (अरुणाचल प्रदेश, गोवा, मिजोरम और केंद्र शासित प्रदेश) कैडर के अधिकारियों के एसोसिएशन ने ट्वीट किया, ‘दिल्ली काम पर है, हड़ताल पर नहीं है। जी एन सी टी डी के अधिकारी माननीय मुख्यमंत्री की अपील का स्वागत करते हैं। हम दोहराते हैं कि हम पूर्ण समर्पण और उत्साह के साथ काम करना जारी रखेंगे। हम अपनी सुरक्षा और सम्मान के लिए ठोस हस्तक्षेप को लेकर आशान्वित हैं। हम इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री के साथ औपचारिक चर्चा करने को तैयार हैं।’ एसोसिएशन के ट्वीट के जवाब में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि वास्तव में इसी वजह से हम कई दिन से राजनिवास में बैठे हैं और उपराज्यपाल से आग्रह कर रहे हैं कि वे सभी पक्षों को बुलाएं और गतिरोध खत्म करें।

सिसोदिया ने ट्वीट किया, ‘हम अपने अधिकारियों से चर्चा करने के लिए खुशी-खुशी तैयार हैं। दिल्ली सरकार उन्हें सुरक्षित वातावरण देने के लिए प्रतिबद्ध है। उपराज्यपाल सेवा और सुरक्षा दोनों के प्रमुख हैं इसलिए बैठक उनकी उपस्थिति में होनी चाहिए, ताकि इन विषयों से जुड़े आश्वासन दिए जा सकें’। केजरीवाल ने रविवार को नौकरशाहों को आश्वासन दिया था कि वह उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपने दायरे में आने वाली सभी शक्तियों और संसाधनों का इस्तेमाल करेंगे। केजरीवाल अपने सहयोगियों के साथ बीते सोमवार से उपराज्यपाल कार्यालय में डेरा डाले बैठे हैं और मांग कर रहे हैं कि उपराज्यपाल अनिल बैजल आइएएस अधिकारियों को ‘हड़ताल’ खत्म करने का निर्देश दें।

लेकिन, रविवार के बाद दोनों तरफ से जो बयान आए हैं उससे यह संकेत मिल रहा है कि सत्तारूढ़ पार्टी के विधायकों द्वारा फरवरी में मुख्यमंत्री आवास पर मुख्य सचिव अंशु प्रकाश पर कथित रूप से हमला किए जाने को लेकर ‘आप’ सरकार और नौकरशाहों के बीच चार महीने से चला आ रहा गतिरोध खत्म हो सकता है। ‘आप’ सरकार के मुताबिक, आइएएस अधिकारी हड़ताल पर हैं और मुख्य सचिव पर कथित हमले के बाद से मंत्रियों के साथ बैठकों का बहिष्कार कर रहे हैं। जबकि, अधिकारियों का कहना है कि वे सेवा शर्तों के मुताबिक सभी काम कर रहे हैं।

जल्द बैठक बुलाने के लिए बैजल को भेजी चिट्ठी

अधिकारियों के चर्चा के लिए तैयार होने के बाद उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उपराज्यपाल को पत्र लिखकर जल्द बैठक बुलाने को कहा है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी उम्मीद जताई कि उपराज्यपाल मुद्दे पर जल्द से जल्द बैठक बुलाएंगे। आइएएस अधिकारी एसोससिएशन द्वारा मुख्यमंत्री की अपील का स्वागत करने और चर्चा को तैयार संबंधी बयान जारी किए जाने के बाद मनीष सिसोदिया ने उपराज्यपाल को पत्र लिखकर सभी पक्षों को जल्द से जल्द बुलाकर बैठक करने की अपील की है। सिसोदिया ने लिखा है, ‘सात दिन से आपके वेटिंग रूम में आपके इंतजार में बैठे हैं। हम आपसे निवेदन करने आए हैं कि आइएएस अधिकारियों की हड़ताल खत्म करवाइए और राशन की फाइल पर दस्तखत कर दीजिए। दिल्ली के आइएएस अधिकारी तीन महीनों से हड़ताल पर है। आइएएस अधिकारियों ने ट्वीट करके मुख्यमंत्री से मिलने की इच्छा जाहिर की है। वो अपनी सुरक्षा से संबंधित बातें करना चाहते हैं। हम अपने अधिकारियों को सबसे बेहतर सुरक्षा इंतजाम देना चाहते हैं।’

सिसोदिया ने आगे लिखा है, ‘चूंकि सुरक्षा और सेवा के मुद्दे आपके (उपराज्यपाल) अधीन आते हैं, हम चाहते हैं कि यह बैठक आपकी मौजूदगी में हो ताकि अपने अधिकारियों को जो आश्वासन हमें देने होंगे, हम दे देंगे और जो आपके दायरे में आते हैं, वो आप दे दीजिए। हम चाहते हैं कि इसका समाधान जल्द से जल्द निकाला जाए ताकि जनता के काम फिर से तेजी से किए जा सकें। मुझे उम्मीद है कि आप सभी पक्षों को जल्द से जल्द बुलाकर मीटिंग कर इसका समाधान निकालेंगे’। मुख्यमंत्री ने भी ट्वीट कर जल्द बैठक बुलाए जाने की उम्मीद जताई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App