ताज़ा खबर
 

सहमति से बने जिस्मानी रिश्ते को रेप नहीं बता सकते- हाई कोर्ट

दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा है कि अगर लंबे समय तक कोई सहमति से शारीरिक संबंध बनाता है तो इसे रेप नहीं कहा जा सकता। एक महिला की याचिका पर हाई कोर्ट ने यह टिप्पणी की है।

दिल्ली हाई कोर्ट ने शादी का वादा करके बनाए गए जिस्मानी संबंध पर की अहम टिप्पणी।

दिल्ली हाई कोर्ट ने एक मामले में सुनवाई करते हुए कहा है कि शादी का वादा करके अगर सहमति से लंबे समय तक जिस्मानी संबंध बनाए जाते हैं तो इसे रेप नहीं कहा जा सकता। एक महिला की तरफ से दायर किए गए मुकदमे को खारिज करते हुए कोर्ट ने कहा, ‘शादी के वादे को सेक्स के लिए तैयार करना नहीं कहा जा सकता है।’

जस्टिस विभू बाखरू ने कहा कि अगर किसी को शादी का झूठा वादा करके एक बार बहकाया जाता है और जिस्मानी संबंध बनाए जाते हैं तो यह अपराध है। उन्होंने कहा, ‘कुछ मामलों में शादी का वादा करके लोग दूसरी पार्टी को जिस्मानी संबंध बनाने के लिए मजबूर करते हैं जबकि दूसरी पार्टी ऐसा नहीं चाहती है। ऐसे मामलों को रेप कहा जा सकता है।’ उन्होंने कहा कि शादी का झूठा वादा करके अगर कोई बिना सहमति के जबरदस्ती जिस्मानी रिशेत बानाता है तो आरोपी पर धारा 375 के तहत रेप का केस बनता है।

जज ने आगे कहा कि अगर लंबे समय तक दो लोगों के बीच सहमति से जिस्मानी संबंध रहते हैं तो इसे रेप की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता। जस्टिस बाखरू ने ट्रायल कोर्ट के फैसले को बरकरार रखते हुए आरोपी को बरी कर दिया। महिला ने शख्स पर आरोप लगाया था कि उसने शादी का वादा करके लंबे समय तक उसको धोखा दिया और जिस्मानी संबंध बनाए और फिर दूसरी महिला के लिए उसे छोड़ दिया।

कोर्ट ने कहा कि महिला ने प्रेम में पड़कर सहमति से आरोपी के साथ संबंध बनाए और यह लंबे समय तक चलता रहा। ट्रायल कोर्ट ने कहा है कि किसी तरह का शादी का वादा नहीं किया गया था बल्कि संबंध बनने के बाद शादी को लेकर बात हुआ करती थी। महिला ने कोर्ट को बताया था कि 2008 में उसके साथ पहली बार जिस्मानी संबंध बनाए गए थे और इसके तीन चार महीने बाद शख्स ने शादी का वादा किया था। कोर्ट ने ऑब्जर्व किया कि महिला ने शादी के वादे को देखकर ही संबंध नहीं बनाए बल्कि वह पहले से उसके साथ सेक्शुअल रिलेशनशिप में थी।

Next Stories
1 तब्लीगी जमात केस: दिल्ली पुलिस को कोर्ट ने लताड़ा- कोरोना फैलाने का आरोप साबित नहीं कर पाए, सभी विदेशी बरी किए
2 कोविड-19 के चलते नई बीमारी: आंख, नाक, जबड़ा और जान तक जा रही; गंगाराम अस्पताल में 15 दिन में 12 मामले
ये  पढ़ा क्या?
X