ताज़ा खबर
 

दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा, अटार्नी जनरल का पद नहीं आता है आरटीआई के दायरे में

कोर्ट ने कहा कि अटार्नी जनरल (एजी) का पद सूचना के अधिकार कानून (आरटीआई) के दायरे में नहीं आता है क्योंकि यह जनसेवक का पद नहीं है।

Author नई दिल्ली | Published on: February 3, 2017 10:02 PM
दिल्ली उच्च न्यायालय (फाइल फोटो)

दिल्ली उच्च न्यायालय ने शुक्रवार (3 फरवरी) को व्यवस्था दी कि अटार्नी जनरल (एजी) का पद सूचना के अधिकार कानून (आरटीआई) के दायरे में नहीं आता है क्योंकि यह जनसेवक का पद नहीं है। मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति जी रोहिणी और न्यायमूर्ति जयंत नाथ की पीठ का यह फैसला केंद्र सरकार की एक अपील पर आया है। केंद्र ने अटार्नी जनरल को जनसेवक का पद बताने एवं उसे आरटीआई के दायरे में आने के एकल न्यायाधीश के फैसले के विरूद्ध अपील की थी। पीठ ने एकल न्यायाधीश के फैसले को दरकिनार करते हुए कहा, ‘इस बात को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता कि एजीआई का मुख्य कार्य कानूनी मामलों पर सलाह देना और जैसा कि बताया गया है, अदालत में पेश होना यानी वकील या वरिष्ठ वकील की भांति काम करना है।’

पीठ ने कहा, ‘वास्तव में, भारत सरकार के वकील की भांति काम करने के नाते उसका भारत सरकार के साथ जिम्मेदारीपूर्ण संबंध होता है और वह अपनी राय या उन्हें भेजी गई कोई भी सामग्री सार्वजनिक नहीं कर सकते।’ न्यायालय ने कहा, ‘हम एकल न्यायाधीश के इस निष्कर्ष से सहमत नहीं हो पा रहे हैं कि एजीआई का पद सार्वजनिक प्राधिकार के दायरे में आता है।’ कानून मंत्रालय ने एकल न्यायाधीश के 10 मार्च, 2015 के आदेश के खिलाफ अपील की है। एकल न्यायाधीश ने इस आधार पर अटार्नी जनरल के पद को आरटीआई कानून के दायरे में बताया था कि वह सार्वजनिक कार्य करते हैं और उनकी नियुक्ति संविधान के अनुरूप होती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 16 दिसंबर निर्भया गैंगरेप: आरोपियों की सज़ा पर सुप्रीम कोर्ट करेगी फिर से सुनवाई
2 ‘आरएमएल अस्पताल ने जान बूझकर अहमद के बारे में जानकारी देने में देरी की’
3 अरविंद केजरीवाल ने नरेंद्र मोदी को बताया ‘बेशर्म तानाशाह’