ताज़ा खबर
 

Delhi Riots 2020: दंगाइयों, हुड़दंगियों का गढ़ बन गया था AAP के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन का घर- बेल खारिज कर बोले जज

ताहिर हुसैन की याचिका रद्द करते हुए जज ने कहा कि यह दंगे उस देश के विवेक पर बड़ा अघात हैं, जो आने वाले समय में बड़ी वैश्विक ताकत बनने की सोच रखता है।

Tahir Hussain, Delhi Riotsआम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिर हुसैन को दिल्ली दंगों में भूमिका के लिए गिरफ्तार किया गया था। (एक्सप्रेस आर्काइव)

दिल्ली में फरवरी में हुए सांप्रदायिक दंगों को भड़काने के मामले में दिल्ली पुलिस की ओर से आरोपी बनाए गए आम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिर हुसैन की जमानत याचिका कोर्ट ने खारिज कर दी है। ताहिर पर दंगों में अहम भूमिका निभाने के लिए तीन एफआईआर दर्ज हैं। एडिशनल सेशन जज विनोद यादव ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि ताहिर हुसैन का घर दंगाइयों और हंगामा करने वालों का केंद्र बन गया था, जहां से बंटवारे (1947) के बाद के सबसे बुरे दंगों की शुरुआत हुई।

जज ने यह भी कहा कि यह दंगे उस देश के विवेक पर बड़ा अघात है, जो आने वाले समय में बड़ी वैश्विक ताकत बनने की सोच रखता है। जज यादव ने कहा कि सांप्रदायिक दंगों के दौरान हुसैन के पास पार्षद का ताकतवर पद था। प्रथम दृष्टया में यह भी साफ है कि हुसैन ने अपनी इसी ताकत और राजनीतिक बल का इस्तेमाल दंगों की साजिश रचने और संप्रदायों के बीच आग भड़काने में किया।

जज ने कहा कि अब तक रिकॉर्ड पर कई ऐसी चीजें रखी जा चुकी हैं, जिनसे माना जा सकता है कि ताहिर हुसैन दंगों के वक्त घटनास्थल पर मौजूद थे और एक संप्रदाय के दंगाइयों को भड़काने का काम कर रहे थे। यानी वे खुद तो दंगों में हाथों या घूंसों का इस्तेमाल नहीं कर रहे थे, पर इसकी जगह दंगाइयों को हथियार की तरह इस्तेमाल कर रहे थे, जो कि उनके इशारे पर किसी की भी हत्या कर सकते थे।

दिल्ली कोर्ट के जज ने कहा कि अगर आरोपी सीधे तौर पर कथित हिंसा की घटनाओं में शामिल नहीं था, तब भी वह अपने खिलाफ लगाई गई धाराओं पर जिम्मेदारी से नहीं बच सकता, खासकर तब जब उसका घर दंगाइयों और हुड़दंगियों का घर बन चुका था। जज ने आगे कहा कि कम समय में इतने बड़े स्तर पर हिंसा बिना किसी साजिश के मुमकिन ही नहीं थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बाजारों में लगी भीड़, कोरोना को लेकर लोग लापरवाह
यह पढ़ा क्या?
X