ताज़ा खबर
 

मैट्रो किराया बढ़ोतरी पर विधानसभा में आरोप-प्रत्यारोप, औचित्य अध्ययन के लिए नौ सदस्यीय समिति का प्रस्ताव पारित

वहीं विपक्ष ने किराये पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए पूछा कि केजरीवाल सरकार छह महीने पहले लिए गए फैसले पर अब तक खामोश क्यों थी? कोरम के अभाव में मंगलवार का सत्र आधे घंटे देर से शुरू हुआ।

Author नई दिल्ली | October 11, 2017 3:39 AM
Tilka Manjhi Bhagalpur University, Bhagalpur, FIR, Fake degree, Delhi, Jitendra singh tomar, Jitendra singh tomar LLB degree, Ex Law minister Jitendra singh tomar, Ex Law minister, Law minister, Arvind kejriwal, CM Arvind kejriwal, Delhi news, Bihar news, Hindi news, Jansattaदिल्ली में एक कार्यक्रम में मौजूद सीएम अरविंद केजरीवाल ( Express Photo By Amit Mehra )

दिल्ली विधानसभा ने मंगलवार को मेट्रो किराये में बढ़ोतरी के पीछे औचित्यके अध्ययन के लिए एक नौ सदस्यों वाली समिति गठन करने का प्रस्ताव पारित किया है। मेट्रो किराये पर ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर चर्चा के बहाने दिल्ली सरकार ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के पुत्र जय शाह पर भी निशाना साधा और योग गुरु रामदेव के व्यापार को भी आड़े हाथों लिया। वहीं विपक्ष ने किराये पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए पूछा कि केजरीवाल सरकार छह महीने पहले लिए गए फैसले पर अब तक खामोश क्यों थी? कोरम के अभाव में मंगलवार का सत्र आधे घंटे देर से शुरू हुआ।  मंगलवार को विधायक संजीव झा के ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर चर्चा के बाद सदन ने ध्वनिमत से प्रस्ताव पारित किया। जिसमें कहा गया है, ‘यह सदन डीएमआरसी की ओर से की गई किराया वृद्धि के पीछे के औचित्य, डीएमआरसी के वित्तीय स्वास्थ्य और अन्य संबंधित मुद्दों की पड़ताल के लिए विधानसभा अध्यक्ष की ओर से मनोनीत नौ सदस्यों की समिति के गठन पर सहमति जताता है।’ विधानसभा अध्यक्ष समिति की शर्तों का निर्धारण और सदस्यों को नामित करेंगे। परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत की ओर से समिति के गठन की अनुशंसा के बाद विधायक सोमनाथ भारती ने इस संबंध में प्रस्ताव पेश किया। जिसमें आम आदमी पार्टी को किराया बढ़ोतरी के विरोध में और भाजपा को किराया बढ़ोतरी के पक्ष में बताया गया। इस पर अकाली-भाजपा विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने आपत्ति जताई। जिसके बाद पार्टियों के नाम हटा कर संशोधित प्रस्ताव पारित किया गया।

देर से शुरू हुआ विधानसभा सत्र मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और नेता विपक्ष विजेंद्र गुप्ता की अनुपस्थिति में मंगलवार को विधानसभा सत्र कोरम के अभाव में आधे घंटे देर से शुरू हुआ, हालांकि सत्र हल्के फुल्के हंगामे के अलावा अमूमन शांतिपूर्ण रहा। चर्चा के दौरान विपक्षी विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने किराया वृद्धि को ‘दुखद’ बताया और आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार ने समय रहते इसे रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया। सिरसा ने चर्चा की गंभीरता पर भी सवाल उठाए और कहा कि जिस सदन में आप के 66 विधायक हैं वहां आधे घंटे तक कोरम नहीं पूरा हो सका और जब कोरम पूरा हुआ तो मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री और मंत्री तक नदारद रहे। भाजपा विधायक ओम प्रकाश शर्मा ने कहा कि दिल्ली सरकार ने अगर तीसरे और चौथे फेस पर ध्यान दिया होता तो मेट्रो की सवारी और आय दोनों में बढ़ोतरी होती साथ ही किराया बढ़ाने की नौबत भी नहीं आती।  सत्तारूढ़ और विपक्ष के बीच किराया वृद्धि पर टकरावसत्तारूढ़ आप एवं विपक्षी भाजपा ने किराया वृद्धि पर एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाए जिसमें एयरपोर्ट मेट्रो का भी हवाला दिया गया। जिसका किराया सवारियों की संख्या में गिरावट के बाद घटा दिया गया था। आप विधायक सौरभ भारद्वाज और अलका लांबा ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के पुत्र जय शाह को आड़े हाथों लिया। विधायकों ने कहा कि केंद्र सरकार यदि किराया पर पुनर्विचार नहीं करती है तो विधायक सड़कों पर उतरने को मजबूर होंगे।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अमित शाह के बेटे पर लगे आरोप के बचाव में उतरे राजनाथ, कहा- आरोप बेदम, जांच की जरूरत नहीं
2 जनता की जेब पर मेट्रो की मार
3 रिसर्च का दावा- देश में सबसे ज्यादा तनाव में जीते है मुंबईकर
ये पढ़ा क्या?
X