ताज़ा खबर
 

दिल्ली: शुक्रवार से हवा की सेहत और होगी खराब, फिर से घुट सकता है दम

7 नवंबर से लगातार एक हफ्ते तक गंभीर रूप से प्रदूषित हवा में सांस लेने को मजबूर दिल्ली वालों को पिछले हफ्ते ही राहत मिली थी। तेज और सर्द उत्तर-पश्चिमी हवाएं और छिटपुट बारिश प्रदूषण से निजात का कारण बने।
Author नई दिल्ली | November 23, 2017 03:14 am
दिल्ली एनसीआर में धुंध से बचने के लिए मास्क की मांग अचानक तेजी बढ़ गई।

दिल्ली में प्रदूषण का स्तर फिर से बिगड़ने लगा है। इतना ही नहीं मौसम व पर्यावरण एजंसियों का पूर्वानुमान है कि हवा के रुख में जल्द ही बदलाव देखने को मिलेगा जिससे 25 नवंबर से हवा की गुणवत्ता में और गिरावट की आशंका है। हालांकि, ठंड के हालात में फिलहाल ज्यादा बदलाव की संभावना नहीं है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक बुधवार को भी दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक पिछले कुछ एक दिनों की तरह ‘बहुत खराब’ बना रहा।  7 नवंबर से लगातार एक हफ्ते तक गंभीर रूप से प्रदूषित हवा में सांस लेने को मजबूर दिल्ली वालों को पिछले हफ्ते ही राहत मिली थी। तेज और सर्द उत्तर-पश्चिमी हवाएं और छिटपुट बारिश प्रदूषण से निजात का कारण बने। लेकिन, सुधार के बाद ‘खराब’ की स्थिति में पहुंची वायु गुणवत्ता फिर से ‘बहुत खराब’ की श्रेणी में चली गई है। दिल्ली के अलग-अलग स्थानों पर हवा की गुणवत्ता का सूचकांक 300 के ऊपर बना हुआ है। दिल्ली-एनसीआर में गाजियाबाद की हवा सबसे अधिक प्रदूषित है।

निजी मौसम एजंसी स्काइमेट के मुताबिक मौसम में जल्द ही बदलाव देखने को मिलेगा जिससे प्रदूषण के फिर से सिर उठाने की आशंका प्रबल हो गई है। स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि अगले 2 दिनों तक दिल्ली, गुरुग्राम, गाजियाबाद, नोएडा, फरीदाबाद सहित उत्तर भारत के मैदानी भागों में उत्तर पश्चिमी हवाएं चलती रहेंगी जिससे प्रदूषण से राहत बनी रहेगी। हवाओं के रुख में 24-25 नवंबर से बदलाव आएगा, ज्यादातर दक्षिण-पूर्वी और दक्षिण-पश्चिमी हवाएं चलेंगी जिससे नमी बढ़ने और हवा के निचले स्तर पर प्रदूषक तत्वों के इकट्ठा होने की आशंका है। वहीं भारतीय मौसम विभाग (आइएमडी) के मुताबिक अगले एक हफ्ते तक ठंड में यथास्थिति बरकरार रहेगी, लेकिन 26 नवंबर से कोहरे का प्रकोप फिर से शुरू हो सकता है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.