ताज़ा खबर
 

डीसीडब्लू की मदद से विवाहिता को मिली ससुराल में जगह

अदालत में शादी करने के बाद विवाहिता के पति ने उसे कनॉट प्लेस के एक गुरुद्वारे में छोड़ दिया था, जिसके बाद उसने आयोग की हेल्पलाइन 181 पर मदद मांगी।
Author नई दिल्ली | May 30, 2017 02:23 am
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्लू) की मदद से एक नवविवाहिता को अपने ससुराल में कदम रखने में मदद मिली है। अदालत में शादी करने के बाद विवाहिता के पति ने उसे कनॉट प्लेस के एक गुरुद्वारे में छोड़ दिया था, जिसके बाद उसने आयोग की हेल्पलाइन 181 पर मदद मांगी। दिल्ली महिला आयोग के मुताबिक, निहाल विहार की रहने वाली दीपिका (बदला हुआ नाम) ने 24 मई को अपने प्रेमी के साथ अदालत में शादी की। दोनों की पहचान 3 साल पुरानी थी और शादी भी परिवारवालों की रजामंदी के बाद ही हुई थी। दीपिका का ससुराल सुभाष पैलेस पुलिस स्टेशन इलाके के शकुरपुर में है, लेकिन शादी के बाद दीपिका का पति उसे अपने घर ले जाने के बजाय कनॉट प्लेस के गुरुद्वारे में ले गया। दोनों शाम तक वहीं रहे, लेकिन शाम को दीपिका का पति उसे गुरुद्वारे में अकेला छोड़कर भाग गया। दीपिका काफी देर तक उसका इंतजार करती रही और जब वह लौट कर नहीं आया तो उसने दिल्ली महिला आयोग की महिला हेल्पलाइन 181 पर मदद मांगी और अपने परिवार को भी इस घटना की सूचना दी। इसके बाद दीपिका को पुलिस स्टेशन लाया गया। थोड़ी देर में दीपिका का परिवार भी पुलिस स्टेशन पहुंच गया।

दीपिका ने आयोग की काउंसलर को बताया कि वह अपने ससुराल गई थी, लेकिन उसकी सास ने उसे घर में नहीं घुसने दिया। उसकी सास का कहना है कि उनका घर बहुत छोटा है इसलिए वह वहां नहीं रह सकती। दीपिका ने बताया कि उसका पति अपने घर पर ही है, लेकिन उसको घर में घुसने नहीं दिया जा रहा है। इसके बाद दीपिका के पति को परिवार सहित बुलाया गया। दोनों परिवारें के पुलिस स्टेशन पहुंचने पर डीसीडब्लू की टीम ने लड़के के परिवार को सम­झाया कि अब इनकी शादी हो चुकी है और उन्हें दीपिका को अपने घर में रहने की जगह देनी चाहिए। इस पर लड़के का परिवार अपनी बहू को घर ले जाने के लिए तैयार हो गया। दो दिन बाद आयोग की टीम फिर दीपिका के घर गई, तो पता चला कि दीपिका और उसके पति ने परिवार की सहमति से घर के पास कमरा किराये पर ले लिया है और दोनों खुशी-खुशी रह रहे हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.