ताज़ा खबर
 

सोमनाथ मंदिर विवाद: राहुल गांधी बोले- मेरी फैमिली शिव भक्त है और हम धर्म पर दलाली नहीं करते

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी इन दिनों सोमनाथ मंदिर में गैर हिंदु के तौर पर एंट्री कराने को लेकर विवादों में है।
Author नई दिल्ली | December 1, 2017 06:26 am
राहुल गांधी की प्रतीकात्मक फोटो।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी इन दिनों सोमनाथ मंदिर में गैर हिंदु के तौर पर एंट्री कराने को लेकर चर्चाओं में है। इस मामले को आड़े हाथों लेते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष का हाल ही एक वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में राहुल गांधी सोमनाथ मंदिर में उनकी एंट्री से हुए विवाद को लेकर जवाबी हमला बोल रहे हैं। वह कह रहे हैं कि मेरी दादी, मेरी फैमिली शिव भक्त है। उनकी यह बात सुनकर वहां मौजूद लोगों ने जमकर तालियां बजाई। वीडियो में कह रहे हैं कि ”हम इन चीजों को नॉर्मली प्राइवेट रखते हैं, हम इनके बारे में बोलते नहीं है। क्योंकि हमें लगता है कि जो हमारा धर्म है वह हमारी चीज है, वो हमारे अंदर है, हमें किसी को सर्टीफिकेट देने की जरूरत नहीं है, ये जो हमारी चीज है इस पर हम व्यापार नहीं करना चाहते और न ही हम इस पर दलाली करना चाहते हैं। राहुल गांधी का ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

गौरतलब है कि राहुल गांधी के साथ-साथ राज्य सभा सांसद और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल की भी एंट्री गैर हिन्दू के तौर पर कराई गई थी। मंदिर के सुरक्षा रजिस्टर में यह एंट्री कांग्रेस के मीडिया कॉर्डिनेटर मनोज त्यागी ने कराई है। बता दें कि मंदिर के नियमों के मुताबिक गैर हिन्दुओं को रजिस्टर में एंट्री करनी जरूरी होती है। हालांकि, राहुल गांधी ने रजिस्टर पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं। राहुल गांधी के साथ अहमद पटेल के अलावा कांग्रेस प्रभारी और राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी थे।

बता दें कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधबार (29 नवंबर) को गुजरात के सोमनाथ मंदिर में पहुंचकर माथा टेका और भगवान शिव के पवित्र ज्योतिर्लिंग पर जलाभिषेक भी किया। पिछले तीन महीने में राहुल गांधी ने 19वीं बार मंदिर में पूजा-अर्चना की है। इस पर पीएम नरेंद्र मोदी ने भी उन पर सियासी हमला बोला है। देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का नाम लिए बिना उन्होंने तंज कसा कि सोमनाथ मंदिर परनाना ने नहीं बनवाया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. L
    Lokesh Pal
    Dec 1, 2017 at 11:16 am
    अपने राजनीतिक फायदे के लिए राजनीतिक दल कुछ ऐसे मुद्दे उठाते हैं, जो आम जनता के मतलब के नहीं होते। ऐसा ही मुद्दा राहुल का सोमनाथ मंदिर जाने का है। पहली बात तो यह कि मंदिर या अन्य पूजा स्थल आस्था के प्रतीक मात्र हैं, और जो भी व्यक्ति आस्था के साथ इनमें जाता है, उसका स्वागत है, न जाने वाले को जबरदस्ती भी नहीं की जा सकती। क्योंकि धार्मिक आधार पर बनाए गए नियम ईश्वर ने तो बना नही दिए ये अपने वर्चस्ब को बनाए रखने के लिए इंसानों ने ही ईजाद किए हैं। जब कोई युवती अन्य धर्म में विवाह करती है तो वह लव जिहाद हो जाता है, और कोई व्यक्ति मंदिर में जाता है तो वहां धर्म बीच में आ जाता है। एक फिल्म को आस्था का मा ा बताकर कुछ समाज के लोग सड़कों पर उतर आते हैं, तो गौरक्षा के नाम पर हिंसा होती है। कहीं मंदिरों में महिलाओं का प्रवेश वर्जित है तो वहीं नारी शक्ति स्वरूपा मां दुर्गा की नौ दिन आराधना होती है। धर्म के नाम पर आज लोग अपनी जान की बाजी लगाने को तैयार हैं, लेकिन किसी जरूरतमंद की मदद करने से कतराते हैं।
    (0)(0)
    Reply
    1. Ajay Gupta
      Dec 1, 2017 at 9:54 am
      यह पप्पू कब से शिवभक्त हो गया। अबकी बार काबर यात्रा भी करेगा।
      (1)(0)
      Reply