ताज़ा खबर
 

दिल्‍ली: साढ़े चार साल के बच्‍चे पर साथ पढ़ने वाली बच्‍ची के बलात्‍कार का आरोप, पुलिस ने दर्ज किया केस

डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस के अनुसार फिलहाल यह पता लगाया जा रहा है कि यह घटना कब की है।
Author नई दिल्ली | November 23, 2017 14:30 pm
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर किया गया है।

पश्चिमी दिल्ली के एक नामी स्कूल में साढ़े चार साल के एक लड़के द्वारा अपनी क्लास में पढ़ने वाली छात्रा के साथ क्लास और वॉशरूम में बलात्कार करने का मामला सामने आया है। हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार पीड़िता ने अपनी मां को बताया था कि उसकी क्लास में पढ़ने वाले लड़के ने अपनी उंगली और पेंसिल के जरिए उसे शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया था। पीड़िता की मां के अनुसार यौन शोषण के कारण बच्ची के प्राइवेट पार्ट में काफी घाव हो गए हैं। डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस के अनुसार फिलहाल यह पता लगाया जा रहा है कि यह घटना कब की है। चूंकि आरोपी नाबालिग है तो इस मामले में कानूनी विशेषज्ञों से भी सलाह ली जा रही है।

पुलिस ने आरोपी छात्र के खिलाफ पोस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता देवेंद्र पाठक ने मामले पर कहा कि अभियोजन पक्ष के खिलाफ आईपीसी की धारा के तहत सात साल से कम के आरोपी को सुरक्षा प्रदान की जाती है। उन प्रावधानों की भी जांच की जा रही है जिससे की इस मामले को संवेदनशील तरीके से संभाला जा सके। पीड़िता की मां द्वारा पुलिस में दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार शुक्रवार को स्कूल से घर वापस आने के बाद बच्ची ने पेट के नीचे वाले हिस्से में दर्द होने की बात कही थी। बच्ची बार-बार मां से दर्द की शिकायत कर रही थी लेकिन मां ने यह सोचकर नजरअंदाज कर दिया कि वह कोई बहाना बना रही है।

रात को बच्ची ने रोते हुए फिर से मां से पेट में दर्द होने की बात कही और यौन शोषण की बात भी बताई, जिसके बाद पीड़िता की मां ने प्राथमिकी दर्ज कराई। पीड़िता की मां ने पुलिस को यह भी बताया कि उसी रात उसने बच्ची की स्कूल टीचर को मैसेज कर यह बात बताई। शनिवार को फिर से उन्होंने स्कूल प्रशासन को घटना की जानकारी दी लेकिन प्रशासन ने इस मामले में उनकी मदद करने से इनकार कर दिया और कहा कि सोमवार को लिखित में शिकायत दें।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.