ताज़ा खबर
 

एमसीडी के तीनों मेयर का एकसाथ बड़ा दावा- दिल्ली में 2000 से ज्यादा मौत, डेटा छुपा रही केजरीवाल सरकार, सैलरी को तरस रहे डॉक्टर

COVID-19: एनडीएमसी की स्थाई समिति के अध्यक्ष जय प्रकाश ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘पहले केजरीवाल सरकार ने कम मौत बताई थी लेकिन श्मशान घाटों और कब्रगाहों से जुटाए गए हमारे आंकड़े ने आधिकारिक आंकड़े से करीब तीन गुणा अधिक मौत दर्शाई। अब इन आंकडों के हिसाब से दिल्ली में कोविड-19 से 2098 मौत हुई है।

Author नई दिल्ली | June 12, 2020 12:59 PM
NDMC, SDMC, EDMCतस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (PTI)

COVID-19: दिल्ली के भाजपा शासित नगर निगमों के वरिष्ठ नेताओं ने दावा किया कि यहां कोविड-19 से 2000 से अधिक लोगों की मौत हुई है जबकि आधिकारिक आंकड़ा बुधवार तक 984 था। इस दावे पर दिल्ली सरकर ने कहा कि कोविड-19 मृत्यु समिति ‘निष्पक्ष ढंग से काम’ कर रही है और यह आरोप-प्रत्यारोप का नहीं, बल्कि मिलकर काम करने का समय है।’

यहां सिविक सेंटर में संवाददाता सम्मेलन में उत्तरी दिल्ली के महापौर अवतार सिंह, पूर्वी दिल्ली की महापौर अंजू कमलकांत और एनडीएमसी, एसडीएमसी और ईडीएमसी की स्थाई समितियों के अध्यक्षों ने इस कोरोना वायरस महामारी के वक्त निगमों के समक्ष उत्पन्न चुनौतियां मीडिया से साझा कीं।

एनडीएमसी की स्थाई समिति के अध्यक्ष जय प्रकाश ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘पहले केजरीवाल सरकार ने कम मौत बताई थी लेकिन श्मशान घाटों और कब्रगाहों से जुटाए गए हमारे आंकड़े ने आधिकारिक आंकड़े से करीब तीन गुणा अधिक मौत दर्शाई। अब इन आंकडों के हिसाब से दिल्ली में कोविड-19 से 2098 मौत हुई है जिनमें एसडीएमसी में 1080, एनडीएमसी में 976 और ईडीएमसी में 42 मरीजों ने जान गंवाई है।’

Coronavirus in India Live Updates

बाद में दिल्ली सरकार ने एक बयान में कहा, ‘माननीय दिल्ली उच्च न्यायालय ने भी घोषित किया है कि मृत्यु ऑडिट समिति उपयुक्त तरीके से काम कर रही है और यह कि समिति के काम पर प्रश्न नहीं उठाया जा सकता है।’ बयान में कहा गया है, ‘यह आरोप-प्रत्यारोप का वक्त नहीं है। हमें मिलकर इस महामारी से लड़ना है और यह सुनिश्चित करना है कि कोरोना वायरस से एक भी जान नहीं जाए।’

इधर दिल्ली में डॉक्टरों को सैलरी नहीं मिलने का भी मामला प्रकाश में आया है। हाल में हिंदू राव हॉस्पिटल के रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन ने मेडिकल सुपरिटेंडेंट को खत लिखकर चार महीने से सैलरी न मिलने का मुद्दा उठाया था। डॉक्टरों ने कहा था कि अगर उन्हें सैलरी नहीं मिलती है तो वह काम नहीं करेंगे। साथ ही डॉक्टरों ने चेतावनी दी कि है कि अगर 18 जून तक सैलरी नहीं मिली तो वह अपना इस्तीफा दे देंगे।

बता दें कि देश में पहली बार चौबीस घंटों में कोविड-19 संक्रमण के नए मामले 10,000 के पार पहुंच गए हैं और संक्रमण के कुल मामले 2,97,535 हो गए हैं जबकि एक दिन में कुल संक्रमित लोगों में से सबसे अधिक 396 संक्रमित लोगों की मौत के साथ मृतक संख्या 8,498 हो गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक शुक्रवार सुबह आठ बजे तक पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस संक्रमण के 10,956 नए मामले सामने आए।

वर्ल्डोमीटर के मुताबिक कोरोना वायरस के मामलों के लिहाज से गुरुवार को भारत ब्रिटेन को पीछे छोड़ दुनिया का चौथा सबसे अधिक प्रभावित देश बन गया। हालांकि लगातार दूसरे दिन स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या अब भी संक्रमित लोगों की तुलना में अधिक रही। मंत्रालय ने बताया कि अब भी 1,41,842 लोग संक्रमण की चपेट में हैं जबकि 1,47,194 लोग स्वस्थ हुए हैं और एक मरीज विदेश चला गया है। एक अधिकारी ने बताया, ‘अब तक 49.47 प्रतिशत मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।’ संक्रमण के कुल मामलों में संक्रमित विदेशी नागरिक भी शामिल हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मोटल, बैंक्वेट और सामुदायिक भवन भी एकांतवास केंद्र में तब्दील होंगे
2 दिल्ली में कोरोना वायरस और तेजी से फैलने वाला है, प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सीएम अरविंद केजरीवाल ने चेताया
IPL 2020: LIVE
X