ताज़ा खबर
 

कोर्ट पहुंचा रामजस कॉलेज विवाद, 6 मार्च को पहली सुनवाई

रामजस कॉलेज में आइसा और एसएफआइ के सदस्यों की ओर से बड़े पैमाने पर देश विरोधी नारे लगाए गए और उन्होंने खुलेआम बेशर्मी से पाकिस्तान का समर्थन किया।

Author नई दिल्ली, 28 फरवरी | March 1, 2017 5:26 AM
रामजस कॉलेज में आईसा और एबीवीपी कार्यकर्ताओं के बीच व्यापक हिंसा भड़क उठी थी।

दिल्ली की एक अदालत में मंगलवार को एक आपराधिक शिकायत दर्ज करके दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज में कथित तौर पर देश विरोधी नारेबाजी करने वालों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की गई। अदालत ने इस शिकायत पर अगले हफ्ते सुनवाई करने का फैसला किया है। मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट (सीएमएम) सतीश कुमार अरोड़ा की अदालत में जब शिकायत दाखिल की गई तो उन्होंने वकील से सवाल किया कि वे छात्रों से जुड़े मामले में क्यों दखल देना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि वह मामले को मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट अभिलाष मल्होत्रा की अदालत में भेज रहे हैं।

सीएमएम ने कहा कि सुनवाई के लिए और भी जरूरी मुद्दे हैं। यह छात्रों के बीच है। आप इसमें क्यों घुस रहे हैं? मैं इसे मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट अभिलाष मल्होत्रा के पास भेज रहा हूं, वे 6 मार्च को इस पर विचार करेंगे। वकील विवेक गर्ग की ओर से दर्ज शिकायत में कहा गया है कि उन्होंने मॉरिस नगर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज की थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई जिसकी वजह से उन्हें अदालत का रुख करना पड़ा। अपनी शिकायत में गर्ग ने आरोप लगाया है कि रामजस कॉलेज में आइसा और एसएफआइ के सदस्यों की ओर से बड़े पैमाने पर देश विरोधी नारे लगाए गए और उन्होंने खुलेआम बेशर्मी से पाकिस्तान का समर्थन किया।

रामजस कॉलेज विवाद: कारगिल शहीद की बेटी ने लगाया था रेप की धमकी का आरोप, सहवाग ने साधा निशाना

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App