ताज़ा खबर
 

देश में पहली बार बिना ड्राइवर के चलेगी मेट्रो, 28 को नरेंद्र मोदी दिखाएंगे हरी झंडी, जानिए कैसे चलेगी दिल्ली मेट्रो की यह ट्रेन

28 दिसंबर को प्रधानमंत्री मोदी देश की पहले बिना ड्राइवर वाली मेट्रो को हरी झंडी दिखाने वाले हैं। डीएमआरसी की तरफ से यह जानकारी दी गई है।

दिल्ली मेट्रो की सांकेतिक तस्वीर। (फाइल फोटो)

देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो जल्द चलने वाली है। 28 दिसंबर को प्रधानमंत्री मोदी हरी झंडी दिखाकर इसकी शुरुआत करेंगे। यह ट्रेन में ट्रैक की कमी पहचानने के लिए हाई रेज्यूलेशन कैमरे, रीयल टाइम मॉनिटरिंग ट्रेन इक्विपमेंट, रिमोट हैंडलिंग इमर्जेंसी अलार्म और कई उच्च स्तर की तकनीक से लैस है। डीएमआरसी के कार्यकारी निदेशक अनुज दयाल ने बताया कि 37 किलोमीटर की मजेंटा लाइन (जनकपुरी वेस्ट से बोटैनिकल गार्डन) पर बिना ड्राइवर के ट्रेन का संचालन शुरू होगा।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी इसी दिन नैशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड की भी शुरुआत करेंगे। यह 23 किलोमीटर की एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन (नई दिल्ली से द्वारका 21) के लिए होगा। कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी (CMRS) ने यह सुनिश्चित किया है कि बिना ड्राइवर के ट्रेन चलाने के लिए सभी मानकों को पूरा किया गया है या नहीं। सभी पैमानों पर संतुष्ट होने के बाद ही 18 दिसंबर को यूटीओ लॉन्च की इजाजत दी गई है।

इस ट्रेन में इंडियन रेल चेक सिस्टम लगाया गया है जो कि हाई रेज्यूलूशन कैमरा पर आधारित है। सूत्रों का कहना है कि रेलवे ट्रैक में होने वाली दिक्कतों को यह कैमरा पहचान लेता है और कंट्रोल रूम को जानकारी दे देता है। अभी इसे कमांड सेंटर से कंट्रोल किया जाएगा। कह सकते हैं कि पूरी तरह से ड्राइवर लेस होने में अभी थोड़ा और समय लग जाएगा।

दयाल ने बताया, ‘अभी हम ड्राइवरलेस ऑपरेशन शुरू करने जा रहे हैं। अभी रोविंग अटेंडेंट ट्रेन में मौजूद रहेगा। अभी डीएमआरसी सभी रूट पर 7-8 ट्रेनों में रेल चेक कैमरा लगाने की योजना बना रहा है।’ अब सरकार ने भी ड्राइवरलेस ट्रेन को अनुमति दे दी है। इससे पहले सरकारी नियमों में इसकी इजाजत नहीं थी।

बता दें कि मौजूदा समय में ड्राइवर फ्रंट और बैक बोर्ड दोनों जगह रहते हैं और ट्रैक को भी मॉनिटर करते रहते हैं। सीएमआरएस ने डीएमआरसी से कहा है कि ट्रेन के कैमरों को मॉइस्चर फ्री बनाया जाए जिससे खराब मौसम में भी किसी तरह की गड़बड़ी न हो।

Next Stories
1 कोरोना की चपेट में आए हर्ष मंदर ने मौत को करीब से देखा, दिल्ली के अस्पताल में खराब हालात पर बयां की कड़वी आपबीती
ये पढ़ा क्या?
X